करंट टॉपिक्स

कर्नाटक – मुस्लिम कट्टरपंथी हिन्दुओं की दुकान से खरीददारी करने पर मुस्लिम महिलाओं को धमका रहे

Spread the love

बेंगलुरु. सोशल मीडिया में एक वीडियो वायरल हो रहा है. यह वीडियो कर्नाटक का है. इस वीडियो में मुस्लिम कट्टरपंथियों का एक गिरोह मुस्लिम महिलाओं को धमका रहा है, उनके साथ दुर्व्यवहार कर रहा है क्योंकि उन महिलाओं ने हिन्दुओं की दुकानों से सामान खरीदा. कर्नाटक के ही कुछ अन्य स्थानों पर भी ऐसी ही घटनाओं की जानकारी सामने आ रही है.

कर्नाटक के दावणगेरे से एक वीडियो वायरल हुआ है. वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि कैसे मुस्लिम कट्टरपंथी हिन्दुओं की दुकान से सामान खरीदने पर मुस्लिम महिलाओं को रोककर सवाल-जवाब कर रहे हैं. वीडियो में देख सकते हैं कि बीएस चन्नबसप्पा एंड संस नाम की प्रसिद्ध कपड़े की दुकान में खरीददारी करके दो मुस्लिम महिलाएं बाहर निकलती हैं. तभी मुस्लिम भीड़ आकर उन महिलाओं पर आक्रामक हो जाती है. उनसे पूछताछ की जा रही है. उनके शॉपिंग बैग भी छीनते हुए दिखाई दे रहे हैं और उन्हें गाली भी दे रहे हैं. इतना ही नहीं महिलाओं के हाथ से पकड़े की थैली छीनकर वापस लौटाने के लिए दुकान पर जाते हैं और वहां दुकान मालिक सहित कर्मचारी से दुर्व्यवहार करते हैं.

ऐसी ही घटना का एक दूसरा वीडियो भी सोशल मीडिया में वायरल हुआ है. इसमें भी देखा जा सकता है कि कैसे कट्टरपंथी मुस्लिम महिलाओं को हिन्दू स्टोर से खरीदे गए सामान को वापस करने के लिए मजबूर कर रहे हैं. एक युवक मुस्लिम महिला के हाथ से सामान से भरा नारंगी रंग का थैला छीन लेता है, इसके बाद ऑटो में बैठने के लिए मजबूर करता है, ताकि वो हिंदू दुकान में जाकर सामान वापस करके आए.

तीसरा वीडियो क्लॉक टॉवर के पास का है. जहां कुछ मुस्लिम कट्टरपंथी दो महिलाओं और एक बच्चे को धमकी देते दिखाई दे रहे हैं. महिला और उसके बच्चे को कपड़े की दुकान में प्रवेश नहीं करने के लिए धमका रहा है क्योंकि उस दुकान का मालिक हिन्दू है.

दावणगेरे के एसपी हनुमनथरायप्पा ने मीडिया को बताया कि पुलिस ने चार वीडियो फुटेज के आधार पर केस दर्ज किया है. कथित तौर पर कुछ लोग बुर्का पहनी महिलाओं से पूछताछ कर रहे हैं और उन्हें ‘हिन्दू दुकान में जाने से रोक रहे हैं. महिलाओं को धमका रहे हैं, उनके साथ दुर्व्यवहार किया गया. इसलिए पुलिस ने आईपीसी की विभिन्न धाराओं में आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.