करंट टॉपिक्स

कश्मीर से जुड़े हैं सहारनपुर दंगे के तार?

Spread the love

दंगे का मुख्य आरोपी कांग्रेस नेता मोहर्रम अली गिरफ्तार

Saharanpur Dange ka aropi Moharrm Aliमेरठ (वि.सं.के.) सहारनपुर दंगे की प्राथमिक जांच में इसका कश्मीर कनेक्षन सामने आ रहा है. पुलिस ने बुधवार को दगें के मुख्य आरोपी कांग्रेस नेता मोहर्रम अली उर्फ पप्पू सभासद को कई साथियों के साथ गिरफ्तार किया तो उसका सनसनीखेज खुलासा हुआ. दंगा पूरी तरह सुनियोजित था और आगजनी करने वालो में जम्मू-कश्मीर और दिल्ली से आये लोगो की संलिप्तता का भी शक है. दगें के मास्टरमाइंड माने जा रहें मोहर्रम अली को भतीजे इरशाद के साथ गिरफ्तारी के बाद पूछताछ में सनसनीखेज खुलासा हुआ है. पुलिस का कहना है कि मोहर्रम अली के इशारे पर ही अंबाला रोड पर जम कर आगजनी लूटपाट हुई थी. आगजनी में इस्तेमाल कैमिकल आमतौर पर कश्मीर में वारदातों के दौरान प्रयोग होता हैं. पप्पू से इस बिंदु पर पूछताछ की जा रही है कि उसके साथ कश्मीर और दिल्ली से आये लोग थे.पुलिस के मुताबिक शनिवार सुबह मोहर्रम अली ने भीड़ को उकसाने के लिये कमेला कालोनी,ढोली खाल आदि मस्जिदो के माईक से घोषणा कराई कि सिक्ख समाज के लोगों ने कुतुबशेर मस्जिद को शहीद कर दिया है. उसके बाद कुतुबशेर चोक के पास शनिवार सुबह भीड़ आ गयी. इसमें पूर्व सभासद मोहर्रम अली के अलावा पूर्व सभासद मसूद कुरैशी,आरिफ और पप्पू का भतीजा इरशाद भी शामिल थे. फायर स्टेशन को आग लगाने और सिपाही को गोली मारने के पीछे भी पप्पू की भूमिका सामनें आई हैं. पुलिस के मुताबिक पप्पू और उसके साथियों को दगों में अब तक कायम किये गये 67 मुकदमों के मुख्य आरोपी बनाया गया है और 8 मुकदमों में उस पर भीड़ को भड़काने का आरोप है. पुलिस 75 मुकदमों में अब तक 89 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है.

मोहर्रम अली से पूछताछ के बाद कप्तान राजेश कुमार पांडे ने बताया कि शहर को दंगे की आग में झोंकने के लिये बाप,बेटे व भतीजे वादी हाजी इरफान के साथ मिलकर12 घण्टे पहले ही साजिश रच ली थी.योजना के मुताबिक रात में दुकानों में आग लगाने के लिये अत्याधिक ज्वलनशील गैसोलिन को डिब्बों में भर कर रख लिया था.पप्पू को मालूम था कि गुरूद्धारा में निमार्ण कार्य चल रहा है. लिहाजा लोगों कि धार्मिक भावनाओं को भड़काने के लिये उसने शनिवार सुबह का समय तय किया और भीड़ में अपने तीन दर्जन से ज्यादा गुंडे शामिल कर दिये थे.

मोहर्रम अली उर्फ पप्पू के गिरफ्तारी की सूचना जैसे ही सत्ता से जुड़े नेताओं को लगी तो उन्होंने पप्पू की रिहाई के लिये पुलिस अधिकारियों पर दबाव बनाना शुरू कर दिया. पुलिस पर दबाव बनाने वालो में सत्ता से जुडा़ एक नेता भी है. जिसका वेस्ट यूपी की राजनीति में बडा़ कद बताया जा रहा है. इस संबंध में उक्त मंत्री ने पप्पू को छोड़ने के लिये अधिकारियों से बुधवार को मोबाइल पर बात भी की थी.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.