कांग्रेस ने सुभाष चन्द्र बोस, श्री अरविन्द और सावरकर को ‘आतंकवादी’ बताया था Reviewed by Momizat on . कांग्रेस ने हर अवसर पर सावरकर को अपमानित किया लोकसभा में 17 नवम्बर, 1972 को एक संविधान संशोधन विधेयक पर चर्चा हो रही थी. उस दिन अंडमान और निकोबार द्वीप का नाम ब कांग्रेस ने हर अवसर पर सावरकर को अपमानित किया लोकसभा में 17 नवम्बर, 1972 को एक संविधान संशोधन विधेयक पर चर्चा हो रही थी. उस दिन अंडमान और निकोबार द्वीप का नाम ब Rating: 0
    You Are Here: Home » कांग्रेस ने सुभाष चन्द्र बोस, श्री अरविन्द और सावरकर को ‘आतंकवादी’ बताया था

    कांग्रेस ने सुभाष चन्द्र बोस, श्री अरविन्द और सावरकर को ‘आतंकवादी’ बताया था

    कांग्रेस ने हर अवसर पर सावरकर को अपमानित किया

    लोकसभा में 17 नवम्बर, 1972 को एक संविधान संशोधन विधेयक पर चर्चा हो रही थी. उस दिन अंडमान और निकोबार द्वीप का नाम बदलकर ‘शहीद और स्वराज द्वीप’ किया जाना प्रस्तावित था. चर्चा के दौरान कांग्रेस (आई) के सांसद, राम गोपाल रेड्डी ने सुभाष चन्द्र बोस, श्री अरविन्द और विनायक दामोदर सावरकर को ‘आतंकवादी’ कहकर संबोधित किया. जब इसका विरोध हुआ तो रेड्डी ने कहा कि मुझे यह कहने में कोई आपत्ति नहीं है. प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी ने शर्मसार करने वाले इस शब्द पर कोई प्रतिक्रिया तक नहीं दी. ऐसा लगता है कि क्रांतिकारियों के अपमान को उन्होंने अपनी मौन स्वीकृति दी थी.

    स्वतंत्रता सेनानियों को ‘आतंकवादी’ बताने पर कांग्रेस की आलोचना होनी तय थी. अपने बचाव में सरकार ने 07 मार्च, 1973 को सावरकर को स्वतंत्रता सेनानी घोषित करने का निर्णय लिया. यह ब्रिटिश सरकार से भारत की आज़ादी का 26वां और सावरकर के निधन का 7वां साल था. ऐसा भी नहीं है कि यह पहला और आखिरी मौका था जब सावरकर सहित अन्य सेनानियों को बेइज्जत किया गया हो. साल 1957 में राजा महेंद्र प्रताप सिंह ने एक विधेयक पेश किया, जिसमें सावरकर के साथ वीरेन्द्र कुमार घोष (श्री अरविन्द के भाई), डॉ. भूपेंद्र नाथ दत्ता (स्वामी विवेकानंद के भाई) के बलिदान को मान्यता दी जानी थी. चर्चा के आखिर में मतदान किया गया, चूँकि कांग्रेस बहुमत में थी तो विधेयक भी पारित न हो सका.

    अगर सिर्फ सावरकर का अध्ययन करें तो पता चलता है कि उनका निरादर हर मौके पर किया गया. कई दफा तो उनके साथ जबरन अमानवीय सलूक किये गए. जैसे 1950 में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नई दिल्ली के दौरे पर थे. सावरकर उस समय 1,400 किलोमीटर दूर मुंबई में थे. हालाँकि वे नेहरू-लियाकत पैक्ट का शांतिपूर्ण विरोध जरुर कर रहे थे, जो उनका लोकतांत्रिक अधिकार था. लियाकत अलीखान की यात्रा को ध्यान में रखते हुए अचानक सावरकर को नज़रबंद कर दिया गया.

    भारत सरकार का इस कदर मनमर्जी वाला रवैया पूर्णतः अलोकतांत्रिक था. असल में सावरकर की राजनीतिक सूझबूझ, विचारों के प्रति सटीक नजरिया और लेखनी जनता में लोकप्रिय थी. इसलिए एक ज़माने में ब्रिटिश सरकार उन्हें जनता के बीच बोलने से रोकती थी. अब कांग्रेस सरकार समान बर्ताव कर रही थी. सावरकर का कद इतना विशाल था कि जिन्ना भी उन्हें असाधारण व्यक्ति मानते थे. यह मुस्लिम लीग के 1941 में मद्रास अधिवेशन की बात है. जिन्ना ने अपने अध्यक्षीय भाषण में सावरकर को चार बार याद किया. वैसे जिन्ना का स्मरण किये जाने का कोई विशेष प्रयोजन नहीं है. बस यह किस्सा स्पष्ट करता है कि सावरकर अपने विरोधियों में व्यापक रूप से असरदार थे.

    इसी शहर और इसी साल नेशनल लिबरल फेडरेशन ऑफ इंडिया का 41वां अधिवेशन बुलाया गया था. आर.पी. परांजपे ने हिन्दू महासभा के संबंध में एक प्रस्ताव पेश किया. सावरकर की तारीफ करते हुए, उन्होंने कहा – “विभिन्न सामाजिक प्रश्नों पर उनके रुख की यहां मौजूद सभी उदारवादियों को पूरी तरह से और अधिकतम समर्थन करना चाहिए.” परांजपे पुणे के फर्ग्युसन कॉलेज के प्रिंसिपल रह चुके थे. उस समय उन्होंने ही सावरकर को उनके राष्ट्रवादी विचारों के चलते कॉलेज से निष्काषित किया था. अब एक समय ऐसा भी आया, जब वे सावरकर की सराहना करने से अपने आप को रोक नहीं पाए.

    सावरकर में इतनी कुशलता और क्षमताएं होने के बावजूद उन्हें अपने जीवन में कोई ख़ास सम्मान नहीं मिला. उन्हें पहली और आखिरी प्रतिष्ठा फरवरी 2003 में मिली. एनडीए सरकार ने सावरकर की तस्वीर को संसद भवन में लगाने का निर्णय लिया और उसका लोकार्पण भारत के राष्ट्रपति ने किया. हालाँकि यह राहें इतनी भी आसान नहीं थीं. इससे दो साल पहले वाजपेयी सरकार पोर्ट ब्लयेर एअरपोर्ट को सावरकर के नाम पर बदलने का प्रस्ताव लेकर आई. इस कदम का तीव्र विरोध कम्युनिस्ट दलों की तरफ से आया. वैसे 21वीं सदी के कम्युनिस्ट भूल गए कि पिछली सदी में सावरकर के समर्थकों में उन्हीं के सर्वोच्च नेता एच.एन. मुखर्जी शामिल थे.

    सावरकर के देहांत के बाद एच.एन. मुखर्जी ही वह पहले व्यक्ति थे, जिन्होंने सरकार को याद दिलाया कि सावरकर पर शोक संवेदनाएं प्रकट करनी चाहिए. कांग्रेस के कद्दावर नेता रहे और तत्कालीन लोकसभा अध्यक्ष हुकुम सिंह ने इस मांग को सिरे से ख़ारिज कर दिया. इससे पहले सावरकर जब बीमार हुए तो सरकार से मांग की गयी कि उनके इलाज के लिए उन्हें भत्ता दिया जाना चाहिए. एक खानापूर्ति के तहत उन्हें मात्र 1,000 रुपए की सरकारी सहायता उपलब्ध कराई गयी थी.

    सावरकर का तिरस्कार यहाँ भी नहीं थमा. उनकी मृत्यु के तुरंत बाद कांग्रेस सरकार ने भरोसा दिलाया कि उन पर स्मरणीय डाक टिकट जारी किया जाएगा. साल बीत जाने पर भी ऐसा नहीं किया गया. संसद में जब इस पर जवाब मांगा गया तो सरकार ने बेशर्मी से कह दिया कि पिछले साल से अब तक 8 डाक टिकट जारी किये गए हैं. सावरकर पर टिकट जारी न होने पर मंत्री आई.के. गुजराल ने तर्क दिया कि टिकट में उपयोग होने वाला कागज उपलब्ध नहीं है. आख़िरकार तीन साल के लम्बे इन्तजार के बाद 28 मई, 1970 को उन पर साधारण डाक टिकट जारी किया गया.

    एनडीए सरकार में पेट्रोलियम मंत्री राम नाइक ने सेल्युलर जेल में एक स्वतंत्रता ज्योति लगाए जाने का विचार पेश किया. इसमें सुभाष चन्द्र बोस, भगत सिंह, मदनलाल धींगरा सहित वीर सावरकर के विचारों को भी वहां लगाया जाना था. तभी दिल्ली की सत्ता में परिवर्तन हो गया और यूपीए ने सरकार बनाई. अब पेट्रोलियम मंत्री विवादस्पद नेता मणिशंकर अय्यर बनाये गए. मंत्री बनते ही उन्होंने सावरकार के उद्धरण को वहां से हटवा दिया. विरोध न हो इसका अनूठा तरीका निकला गया. सावरकर के स्थान पर महात्मा गांधी को शामिल कर दिया गया.

    जबकि सावरकर और महात्मा गांधी के विचारों को एक साथ वहां लगाया जा सकता था. इससे भी दुःखद था कि अपनी इस हरकत पर सदन में अय्यर ने कभी एक शब्द नहीं बोला. पूरी यूपीए सरकार उनके बचाव में पीछे खड़ी हो गयी. इस सरकार ने सत्ता के अपने अंतिम दिनों में भी सावरकर के साथ नाइंसाफी की. फ़्रांस के मर्सोलिस शहर के मेयर ने वहां सावरकर का स्मारक बनाए जाने का प्रस्ताव दिया. इसी शहर के बंदरगाह पर सावरकर ने भूमध्य सागर में ऐतिहासिक छलांग लगाई थी. इस सन्दर्भ में मेयर ने तत्कालीन सरकार को एक पत्र लिखकर अनुमति भी मांगी. दुर्भाग्य से सरकार ने इस पर चुप्पी साध ली और कोई जवाब नहीं दिया.

    यह एक ऐसे स्वतंत्रता सेनानी और क्रन्तिकारी की दास्तां है, जिसे उसका वास्तविक हक कभी नहीं मिला. वर्तमान कांग्रेस को शायद जानकारी नहीं है. साल 1923-24 के कांग्रेस अधिवेशन की महात्मा गाँधी अध्यक्षता कर रहे थे, तो सावरकर के सम्मान में कविता पाठ किया गया. डॉ. आंबेडकर की जीवनी के लेखक धनजंय कीर ने सावरकर के जीवन पर किताब लिखी है, वे लिखते हैं – “समाज को बेहतर बनाने में दो तरह के महान व्यक्तियों का योगदान होता है. पहले जो समाज की समृद्धि का चिंतन करते हैं, उनमें गाँधी थे. जबकि दूसरे प्रकार के लोग समाज में अनुशासन के जरिए उन्नति लाते हैं, जिनका प्रतिनिधित्व सावरकर करते हैं. जन-समुदाय को प्रेरित करने की क्षमता, एक राजनेता की अंतर्दृष्टि और एक राजनीतिक भविष्यवक्ता की दूरदर्शिता सावरकर के पास थी.”

    देवेश खंडेलवाल

    About The Author

    Number of Entries : 5327

    Leave a Comment

    हमारे न्यूज़लेटर के लिए साइन अप करें

    VSK Bharat नवीनतम समाचार के बारे में सूचित करने के लिए अभी सदस्यता लें

    Scroll to top