करंट टॉपिक्स

कोरोना के खिलाफ जंग – विपदा के समय समाज का संकट हरने में जुटे स्वयंसेवक

Spread the love

नई दिल्ली. देश व समाज पर विपदा के समय सहायता के लिए सदा तत्पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवक नोवेल कोरोना वायरस के खिलाफ चल रही जंग में भी समाज के सहायतार्थ डटे हुए हैं. महामारी के खिलाफ चल रही जंग में स्वयंसेवक प्रशासन की अनुमति से व प्रशासन के सहयोग के लिए नियमों का पालन करते हुए देशभर में विभिन्न स्थानों पर सेवा कार्यों में जुटे हुए हैं. स्वयंसेवक छोटे-छोटे समूहों में जाकर स्वास्थ्य जागरूकता कार्यक्रमों के साथ ही अस्पताल, सार्वजनिक क्षेत्रों में स्वच्छता व सेनिटाइजेशन का कार्य, जरूरतमंदों के लिए खाद्य पैकेट, राशन, मास्क, सेनेटाइजर और साबुन वितरित कर रहे हैं.

संघ के स्वयंसेवक व सहयोगी संगठन के कार्यकर्ता संकट के समय राष्ट्रहित और समाज हित में अपने-अपने स्थानों पर सेवाकार्य में जुटे हैं. सेवा भारती ने कोरोना वायरस के संक्रमण से निपटने के लिए राजधानी दिल्ली में हेल्पलाइन प्रारंभ की है. इस हेल्पलाइन के माध्यम से कोई भी जरूरतमंद व्यक्ति सहायता प्राप्त कर सकता है. यह हेल्पलाइन नंबर – 8010066066 चौबीस घंटे और सातों दिन चालू रहेगा.

दिल्ली के रोहिणी में संघ के कार्यकर्ताओं ने गरीब बस्तियों में मास्क और भोजन के पैकेट बांटे. तो जनकपुरी के केशवपुरम में कई स्थानों पर अभावग्रस्त लोगों में भोजन के पैकेट दिए गए और लोगों को हाथ स्वच्छ रखने व कोरोना वायरस के प्रति जागरुक रहने की जानकारी भी कार्यकर्ताओं ने दी. विश्व हिन्दू परिषद दिल्ली द्वारा मजदूरों, कुलियों व अन्य जरूरतमंदों की सहायता के लिए बस्तियों में जाकर राशन देने का अभियान शुरू किया गया है. कार्याध्यक्ष वागीश जी ने अनुरोध किया कि दिहाड़ी मजदूरी करने वाले लोग रह रहे हों, वो हमें जानकारी दे सकते हैं ताकि हम उनकी मदद कर सकें.

मध्यप्रदेश के भोपाल में सेवा भारती के कार्यकर्ता शहर में जरूरतमंदों को भोजन के पैकेट दे रहे हैं. रोज 1500 जरूरतमंदों के लिए भोजन तैयार किया जा रहा है, जिसे मजदूर, बेसहारा और अस्पताल में भर्ती मरीजों को बांट जा रहा है, इसके साथ ही पुलिसकर्मियों के लिए चाय-पानी की भी व्यवस्था की है. जबलपुर महानगर के गोकुलदास धर्मशाला में गरीब, असहाय लोगों के लिए आरएसएस व सामाजिक संस्थाओं ने भोजन का प्रबंध किया. वहीं कठुआ, सांबा, ऊधमपुर, रियासी, डोडा, किश्तवाड़, रामबन, पूंछ आदि जिलों में भी सेवा भारती ने अभियान चलाया है. झारखंड में भी आरएसएस और सेवा भारती 20 दिनों तक प्रतिदिन 500 जरूरतमंदों को निःशुल्क भोजन कराएगा. राजस्थान में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद इकाई गंगापुर द्वारा घर-घऱ जाकर लोगों को निःशुल्क मास्क वितरण किया है.

जम्मू-कश्मीर के असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले झुग्गी-झोपड़ी में रहने वालों को तेल, आटा, चावल सहित आवश्यक सामाग्री दी गई. तो वहीं राजस्थान के चित्तौड़ प्रांत के नाथद्वारा खंड में संघ की ओर से 35 सौ मास्क बनाकर आस-पास के गांवों में वितरित किए गए. साथ ही गरीब परिवारों की सहायतार्थ के लिए जयपुर महानगर के स्वयंसेवकों ने भोजन के 1200 पैकेट वितरित किए.

केरल में आरएसएस और सेवाभारती के कार्यकर्ताओं ने मिलकर सरकारी अस्पतालों में साफ-सफाई का जिम्मा उठाया. स्थानीय प्रशासन के साथ मिलकर आस-पास के इलाके में स्वच्छता अभियान चलाया. केरल के कोझीकोड में स्थित सरकारी मेडिकल कॉलेज में वार्ड व शौचालयों की सफाई की. बेंगलुरू के राजराजेश्वरी नगर में जरूरतमंद परिवारों को आवश्यक किराना किट दिए गए.
नागपुर महानगर से मजदूर, रिक्शा चालक व अन्य जरूरतमंदों को खाद्य सामग्री के पैकेट दिए जा रहे हैं. सेवा भारती की बहनों द्वारा बनाए गए मास्क अस्पतालों में वितरित किए गए.
पंजाब के विभिन्न क्षेत्रों में भी आरएसएस ने उन लोगों को राशन सामग्री दी जो लोग लॉकडाउन के कारण मजदूरी नहीं कर पा रहे हैं. उनके पारिवारिक पालन पोषण में परेशानी हो रही है. उत्तर प्रदेश के मेरठ में स्वयंसेवकों द्वारा सेवा बस्तियों में दूध व ब्रेड का वितरण किया गया. मिर्जापुर में भी एवीबीपी के छात्रों ने गरीबों को भोजन पैकेट वितरित किए.

देश के समस्त प्रांतों में सेवा व सहयोग का कार्य शुरू हो गया है. धीरे-धीरे आगे बढ़ेगा. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह भय्याजी जोशी, तत्पश्चात वर्ष प्रतिपदा संदेश में सरसंघचालक ने स्वयंसेवकों से सेवा का आह्वान किया था, जिसके पश्चात देशभर में स्वयंसेवक सक्रिय हुए हैं और आने वाले समय में कार्यों की गति व संख्या और अधिक बढ़ने वाली है. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने भी छात्रों के सहयोग के लिए प्रांत अनुसार हेल्पलाइन नंबर जारी किए हैं. भारतीय मजदूर संघ ने सभी सदस्यों से एक दिन का वेतन या पेंशन कोरोना राहत कोष में प्रदान करने का आग्रह किया है.

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *