करंट टॉपिक्स

कोरोना के बाद भविष्य का मीडिया मोबाइल स्क्रीन पर – प्रो. बीके कुठियाला

Spread the love

शिमला (विसंकें). माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति एवं हरियाणा उच्च शिक्षा आयोग के अध्यक्ष प्रो. बृज किशोर कुठियाला ने कहा कि कोरोना महामारी ने विश्वभर में मीडिया में होने वाले परिवर्तनों को अत्याधिक गति दी है. परिणामस्वरूप पारंपरिक मीडिया के माध्यमों जैसे अखबारों, टेलीविजन का स्थान मोबाइल व टेब आधारित माध्यमों ने लिया है. जिस तरह इस माध्यम ने परम्परागत माध्यमों का स्थान लिया है, उसे ओवर दी टॉप (ओ.टी.टी.) कहा जाता है. ऐसे में अब पत्रकारों को चाहिए कि वे मीडिया के इस नए स्वरूप के लिए अपने को तैयार करे.

प्रो. कुठियाला विश्व संवाद केंद्र शिमला द्वारा देवर्षि नारद जयंती के उपलक्ष्य में आयोजित वेबिनार में संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि नारद नारायण के 12 पार्षदों में दूसरे स्थान पर आते हैं. नारद जयंती आदि पत्रकार देवर्षि नारद को समझने का एक अच्छा अवसर है. नवीन रचना के तहत मीडिया में ओ.टी.टी. का प्रभाव बढ़ा है. कोरोना के बाद भविष्य में मीडिया मोबाइल की स्क्रीन व टैब पर होगा. नागरिक संवाद की स्थिति कोविड ने तेज कर दी है. वर्तमान में मीडिया का मुद्रित माध्यम कम हो रहा है, विदेशों मे तो यह शून्य से नीचे चला गया है. कोरोना के बाद इसका भविष्य क्या होगा, इस पर जागरूक रहने बारे आगाह किया व इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की ओर बढ़ने की सलाह दी. उन्होंने कहा कि कोविड19 से पहले मोबाइल-टेलीफोनी कम था, अब इसका प्रभाव बढ़ गया है.

इसके अलावा रविवार को विश्व संवाद केंद्र द्वारा कांगड़ा विभाग में नारद जयंती के उपलक्ष्य पर वेबिनार का आयोजन किया गया, जिसमें मदन मोहन मालवीय हिन्दी पत्रकारिता संस्थान वाराणसी के निदेशक प्रो. ओम प्रकाश सिंह बतौर मुख्य वक्ता उपस्थित रहे. उन्होंने पत्रकारों और पत्रकारिता विषय से जुडे़ छात्रों को कोरोना काल की आपदा में नारदीय मूल्यों पर आधारित पत्रकारिता अपनाने पर बल दिया. हि. प्र. केंद्रीय विश्वविद्यालय के डॉ. जय प्रकाश ने वेब आधारित संवाद में मुख्य अतिथि का स्वागत किया.

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *