करंट टॉपिक्स

जम्मू कश्मीर – वर्षों बाद शिवरात्रि पर जगमगाया श्रीनगर का शंकराचार्य शिव मंदिर

जम्मू कश्मीर से धारा 370 और 35ए हटने के बाद से ही वहां बदलावों का क्रम जारी है. जहां आए दिन आतंक के भय में लोगों का जीना दुश्वार था. वहीं अब स्थानीय लोगों को रोजगार, व्यापार और बच्चों को पढ़ने की पूरी आजादी मिल गई है. साथ ही घाटी में एक बड़ा परिवर्तन हुआ है. जम्मू कश्मीर की राजधानी श्रीनगर में डल झील के किनारे स्थित प्राचीन शंकराचार्य शिव मंदिर में महाशिवरात्रि के दिन वर्षों बाद भक्तों की भीड़ देखने को मिली. बड़ी संख्या में श्रद्धालु शुक्रवार को शिव मंदिर पहुंचकर भगवान महादेव के दर्शन किए. पूरा मंदिर फूलों और लाइटों से सजाया गया था. मंदिर में भगवान शिव का महाअभिषेक हुआ.

जम्मू कश्मीर पहुंचे पर्यटकों ने भी शिवरात्रि के अवसर पर भगवान शिव के दर्शन किए. आस-पास के इलाक़ों में तैनात सशस्त्र बलों के जवानों ने भी देवाधिदेव भगवान महादेव के मंदिर में जाकर उनका आशीर्वाद लिया. मंदिर के मुख्य पुजारी राकेश भान शास्त्री ने बताया कि शिवरात्रि के दिन सुबह से ही पूजा-पाठ शुरू हो जाता है. इसलिए खास तरह के पूजा का आयोजन किया गया है. पूजा के बाद महादेव से जम्मू कश्मीर में शांति बहाली के लिए प्रार्थना भी की गई.

शंकराचार्य शिव मंदिर में भक्तों ने भगवान शिव को पुष्प, दूध और जल अर्पण किया. महाशिवरात्रि को जम्मू कश्मीर में ‘हेराथ’ कहते हैं. पूर्व विधायक कपिल मिश्रा ने कहा कि दशकों बाद शंकरायचर्य शिव मंदिर की कश्मीरी पंडितों के लिए महाशिवरात्रि का ख़ास महत्व है, घाटी में तीन दिन तक शिवरात्रि मनाई जाती है. पहले और दूसरे दिन विभिन्न प्रकार के पूजा-पाठ होते हैं और तीसरे दिन सब साथ मिल कर इसे मनाते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *