करंट टॉपिक्स

ज्ञानोत्सव 2076 में नई शिक्षा नीति के क्रियान्वयन व भारतीय ज्ञान परंपरा के समावेश पर होगा मंथन – अतुल कोठारी

Spread the love

नई दिल्ली. शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास द्वारा 17 व 18 अगस्त 2019 को ज्ञानोत्सव 2076 का आयोजन किया जा रहा है. ज्ञानोत्सव – 2076 के सन्दर्भ में शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास के राष्ट्रीय सचिव अतुल कोठारी ने प्रेसवार्ता में बताया कि इसमें राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी मुख्य रूप से उपस्थित रहेंगे. साथ ही मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल ‘ निशंक ‘, योगगुरु स्वामी रामदेव, डॉ. प्रणव पंड्या, आचार्य बालकृष्ण एवं डॉ. जितेन्द्र सिंह विशेष रूप से उपस्थित रहेंगे. देश की शिक्षा में भारतीयता से सम्बंधित कार्य करने वाले कुलपति, बड़े शैक्षिक संस्थानों के प्रमुख, राज्यों के शिक्षा मंत्री, शिक्षा सम्बंधित केंद्रीय संस्थानों के प्रमुख आदि को विशेष रूप से आमंत्रित किया गया है. यह कार्यक्रम इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय परिसर में आयोजित होना है.

अतुल जी ने बताया कि ज्ञानोत्सव में तीन प्रकार के कार्यक्रम हैं. वर्तमान में मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा देश में “नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति” का प्रारूप प्रस्तुत किया गया है. नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के क्रियान्वयन के सन्दर्भ में शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास का स्पष्ट मत है कि सरकार नीति के कार्यान्वयन की उचित योजना बनाए और शासन, प्रशासन एवं शिक्षा क्षेत्र के लोग सभी अपने-अपने स्तर पर एवं संयुक्त रूप से कार्यान्वयन का प्रयास करें. तभी शिक्षा नीति वास्तविक रूप से सफल होगी. इसी उद्देश्य से “ज्ञानोत्सव 2076” में 17 अगस्त को नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के क्रियान्वयन एवं न्यास द्वारा शिक्षा में परिवर्तन हेतु उठाये गए आधारभूत बिंदुओं के क्रियान्वयन केंद्रित विमर्श होगा. जिसमें मुख्यतः शिक्षा की गुणवत्ता, मूल्यपरक शिक्षा, मातृभाषा में शिक्षा, नवाचार, छात्रों का व्यक्तित्व विकास एवं चरित्र निर्माण तथा शिक्षा में भारतीय ज्ञान परंपरा का समावेश आदि पर विचार किया जाएगा.

उन्होंने बताया कि 17 अगस्त को ही सायं 6:30 बजे “शिक्षा में भारतीयता” विषय पर मोहनराव भागवत जी का उद्बोधन भारतरत्न सी. सुब्रह्मण्यम सभागार, राष्ट्रीय कृषि विज्ञान केंद्र, पूसा परिसर में रहेगा.

विगत आठ वर्षों से शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास द्वारा महामना पं. मदनमोहन मालवीय शिक्षाविद सम्मान शिक्षा में भारतीय दृष्टि से विशेष योगदान देने वाले शिक्षाविदों को दिया जाता है. इस वर्ष भी दिनांक 17 अगस्त 2019 को राष्ट्रीय कृषि विज्ञान केंद्र में यह शिक्षा सम्मान दिया जाएगा.

शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास, “प्रकल्प प्रतियोगी परीक्षा के माध्यम से विगत कुछ समय से देश में आयोजित होने वाली प्रतियोगी परीक्षाओं को तर्कसंगत, सक्षम एवं पारदर्शी बनाने हेतु प्रयासरत एवं कृत संकल्प है. इसी क्रम में संघ लोक सेवा आयोग एवं विभिन्न राज्य लोक सेवा आयोगों द्वारा आयोजित प्रशासनिक सेवा परीक्षाएं तथा केंद्रीय कर्मचारी चयन आयोग (SSC), रेलवे भर्ती बोर्ड (RRB) एवं बैंकिंग कर्मचारी चयन संस्थान (IBPS) की परीक्षाओं में समग्र सुधारों हेतु 18 अगस्त 2019 को एक राष्ट्रीय सम्मलेन का आयोजन किया जा रहा है. इस राष्ट्रीय सम्मलेन में लोक सेवा आयोग के सेवारत/ निवृत्त अध्यक्ष एवं सदस्य, केंद्रीय एवं राज्य सेवाओं के अधिकारीगण, रेलवे सेवा, कर्मचारी चयन आयोग, बैंकिंग सेवा से निवृत्त/ सेवारत अधिकारीगण, इस व्यवस्था से जुड़े शैक्षिक संस्थाओं के प्रमुख, शिक्षाविद, विषय विशेषज्ञ, छात्रों एवं इन प्रतियोगी परीक्षाओं से प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े हुए महानुभवों की सहभागिता रहेगी. सम्मलेन में मुख्य अतिथि के रूप में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत जी भी उपस्थित रहेंगे. साथ ही कार्मिक राज्यमंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह जी विशेष रूप से उपस्थित रहेंगे. यह कार्यक्रम भी इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय परिसर में आयोजित होना है.

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *