देशी गाय को घर से जोड़ें, और रसायनमुक्त खेती करें – कश्मीरी लाल जी Reviewed by Momizat on . नई दिल्ली. स्वदेशी जागरण मंच यमुना विहार विभाग व पूर्वी विभाग द्वारा भारतीय व्यापार व स्वदेशी वस्तुओं को पुर्नजीवित करने तथा विदेशी कंपनी वालमार्ट द्वारा स्वदेश नई दिल्ली. स्वदेशी जागरण मंच यमुना विहार विभाग व पूर्वी विभाग द्वारा भारतीय व्यापार व स्वदेशी वस्तुओं को पुर्नजीवित करने तथा विदेशी कंपनी वालमार्ट द्वारा स्वदेश Rating: 0
    You Are Here: Home » देशी गाय को घर से जोड़ें, और रसायनमुक्त खेती करें – कश्मीरी लाल जी

    देशी गाय को घर से जोड़ें, और रसायनमुक्त खेती करें – कश्मीरी लाल जी

    नई दिल्ली. स्वदेशी जागरण मंच यमुना विहार विभाग व पूर्वी विभाग द्वारा भारतीय व्यापार व स्वदेशी वस्तुओं को पुर्नजीवित करने तथा विदेशी कंपनी वालमार्ट द्वारा स्वदेशी कम्पनी फ्लिपकार्ट को खरीदने, चीन, अमेरिका सहित अन्य देशों की विदेशी कम्पनियों द्वारा भारतीय उद्योगों को चौपट कर भारतीय अर्थव्यवस्था को प्रभावित करने के विषय पर जोहरीपुर गांव, आर्य गीता स्कूल कृष्णा नगर में स्वदेशी महासम्मेलन का आयोजन किया गया. इस अवसर पर मुख्य वक्ता मंच के अखिल भारतीय संगठक कश्मीरी लाल जी रहे.

    कश्मीरी लाल जी ने कहा कि आज 21वीं सदी के दूसरे दशक में हम जिस तरह से रसायनिक खाद, और विदेशी वस्तुओं पर आश्रित होते जा रहे हैं. उससे दृश्य उभरकर आ रहा है कि हमारी भूमि की उर्वराशक्ति नष्ट हो रही है और शहरों व गांवों में भी असाध्य रोग नए-नए रूप से निकलकर आ रहे हैं तथा कैंसर जैसा भयानक रोग सम्पूर्ण भारत में व्याप्त हो रहा है. ऐसे समय में यह संकल्प लेने की जरूरत है कि हर शहर, गांव में अपने घर को देशी गाय से जोड़ें और रसायनमुक्त खाद का प्रयोग अपने बगीचों, खेतों में करें. तथा अपने बगीचे में औषध वृक्ष का पोषण करें.

    शहरों व गांवों के मंदिरों से शिक्षा, स्वास्थ्य और परोपकार के कार्यक्रम करें. साथ ही हर घर में हस्तनिर्मित उद्यमिता का विकास हो और जब भी बाजार से सामान लाएं, वह अपने देश का बना हुआ हो. स्वदेशी का उद्देश्य यह है कि हर घर में कम से कम एक देशी गाय होनी चाहिए, उसका दूध अमृत के सामान है तथा गाय के गोबर की खाद हम अपने बगीचों, खेतों को दें तो भारत का हरेक व्यक्ति स्वस्थ रहेगा और हमारी अर्थव्यवस्था भी मजबूत होगी. उन्होंने कहा कि 1947 में आजादी के समय स्वतंत्रता सेनानियों ने स्वदेशी के नारे की शुरुआत कर देश को स्वतंत्रता दिलाई. वर्तमान में हमारा देश विदेशी जहरीले रासायनिक तत्वों से जकड़ता जा रहा है.

    About The Author

    Number of Entries : 5669

    Leave a Comment

    हमारे न्यूज़लेटर के लिए साइन अप करें

    VSK Bharat नवीनतम समाचार के बारे में सूचित करने के लिए अभी सदस्यता लें

    Scroll to top