भारतीय ज्ञान का खजाना – हमारी वैश्विक विरासत ‘धातु का आईना’ Reviewed by Momizat on . हमारी वैश्विक विरासत – धातु का आईना केरल के दक्षिण में, लेकिन थोड़ा अंदर जाकर, मध्य में एक छोटा सा कस्बा है – अरणमुला. तिरुअनंतपुरम से 116 किलोमीटर की दूरी पर बस हमारी वैश्विक विरासत – धातु का आईना केरल के दक्षिण में, लेकिन थोड़ा अंदर जाकर, मध्य में एक छोटा सा कस्बा है – अरणमुला. तिरुअनंतपुरम से 116 किलोमीटर की दूरी पर बस Rating: 0
    You Are Here: Home » भारतीय ज्ञान का खजाना – हमारी वैश्विक विरासत ‘धातु का आईना’

    भारतीय ज्ञान का खजाना – हमारी वैश्विक विरासत ‘धातु का आईना’

    हमारी वैश्विक विरासत – धातु का आईना

    केरल के दक्षिण में, लेकिन थोड़ा अंदर जाकर, मध्य में एक छोटा सा कस्बा है – अरणमुला. तिरुअनंतपुरम से 116 किलोमीटर की दूरी पर बसा हुआ यह कस्बा राष्ट्रीय महामार्ग पर नहीं है, किन्तु अनेक कारणों से प्रसिद्ध है. पंपा नदी के किनारे बसे हुए इस अरणमुला कस्बे को खास तौर पर पहचाना जाता है, वहां होने वाली नावों की प्रतियोगिता के लिए. ‘स्नेक बोट रेस’ नाम से होने वाली इस प्रतियोगिता को देखने के लिए देश – विदेश से पर्यटक आते हैं.

    इसी अरणमुला में भगवान श्रीकृष्ण का एक भव्य – दिव्य मंदिर है. ‘अरणमुला पार्थसारथी मंदिर’ नाम से प्रसिद्ध इस मंदिर के कारण यह स्थान ‘वैश्विक धरोहर’ (World Heritage) की सूची में आ गया है. ऐसा मानते हैं, कि भगवान परशुराम ने श्री विष्णु जी के जो 108 मंदिरों का निर्माण किया, उन्हीं में से यह एक मंदिर है. केरल का पवित्र ‘शबरीमला मंदिर’ भी यहां से पास ही है. दोनों का जिला एक ही है –

    पत्तनमतिट्टा. भगवान अयप्पा जी की जो भव्य शोभायात्रा शबरीमला से निकलती है, उसका एक विश्रामस्थल होता है, यही अरणमुला पार्थसारथी मंदिर…!

    अरणमुला एक और बात के लिए जाना जाता है, वह है – यहां की शाकाहारी थाली. ‘वाला सध्या’ नामक इस थाली में 42 प्रकार के व्यंजन रहते हैं. और यह सब पूर्णतः वैज्ञानिक पद्धति से, आयुर्वेद को ध्यान में रखते हुए, आहार शास्त्रानुसार बनाए और परोसे जाते हैं.

    अरणमुला के आसपास के ऐसे संपन्न सांस्कृतिक और आध्यात्मिक माहौल के कारण वहां अपना स्थान निर्माण करने के लिए, क्रिश्चियन मिशनरियों के अनेक कार्यक्रम चलने लगे हैं. यहां चर्च की संख्या बढ़ती जा रही है. प्रतिवर्ष, ईसाइयों का एक भव्य ‘महामेला’ यहां लगता है.

    लेकिन इन सबसे हटकर एक अलग ही चीज के लिए अरणमुला प्रसिद्ध है. और वह है, ‘अरणमुला कन्नड़ी’ …! मलयालम भाषा में आईने को ‘कन्नड़ी’ कहते हैं. अर्थात् ‘अरणमुला का आईना’. इसकी विशेषता यह है कि यह आईना कांच से नहीं, धातु से बनाया जाता है. पूरे विश्व में ‘आईना यानि कांच का’ यह समीकरण है. किन्तु इस धातु के आईने की बात कुछ और ही है.

    आमतौर पर कांच पर पारे (पारद) की एक परत लगाकर आईने बनाए जाते हैं. सिल्वर नाइट्रेट और सोडियम हाइड्रोक्साइड के द्रवरूप मिश्रण में चुटकी भर शक्कर मिलाकर उसे गरम करते हैं, और इस मिश्रण की एक परत कांच के पीछे लगाई जाती है. इस तरह आईने बनाए जाते हैं. इसमें भी विशिष्ट प्रकार के रसायनों का उपयोग करके और विशिष्ट प्रकार की कांच का उपयोग करते हुए सामान्य से लेकर तो अति – उत्कृष्ट आईने बनाए जाते हैं.

    अर्थात् आईने बनाने की यह पद्धति या विधि विगत डेढ़ सौ-दो सौ वर्षों की है. पारे की परत लगाकर आईना बनाने की खोज जर्मनी में हुई. सन् 1835 के आसपास जर्मन वैज्ञानिक, रसायनशास्त्र में काम करने वाले, जुस्तुस लाईबिग ने सर्वप्रथम पारे की परत वाला आईना बनवाया.

    परंतु, विश्व में आईने बनाने की कला प्राचीन है. सबसे पुराना, अर्थात् 8,000 वर्ष पूर्व आईने का जिक्र आस्टोनिया यानि आज के तुर्कस्तान में मिलता है. इसके बाद इजिप्त में आईने मिलने का जिक्र आता है. दक्षिण अमेरिका, चीन में भी कुछ हजार वर्ष पूर्व आईने का उपयोग होने के उल्लेख मिलते हैं.

    ये आईने विविध प्रकार के होते थे. पत्थर के, धातु के, कांच के… आदि. किन्तु कांच के अलावा धातु या पत्थर से बनाए गए आईनों की गुणवत्ता अच्छी नहीं होती थी. तुर्कस्तान में जो आईने मिले हैं, वे ओब्सीडियन (ज्वालामुखी के लावा रस से बनाई गई कांच) के बने हुए थे. आईनों के संदर्भ में लिखे गए विविध प्रबंध या विकिपिडिया जैसे साइट्स पर भारत का नाम कहीं नहीं दिखता. इसका सबसे बड़ा कारण, भारत में, भारत के बारे में लिखा गया साहित्य, आक्रांताओं द्वारा नष्ट किया जाना. श्रुति, स्मृति, वेद, पुराण, उपनिषद आदि कुछ ग्रंथ ‘वाचिक परंपरा’ के कारण टिके हुए हैं, और आज की पीढ़ी तक पहुंच सके हैं. लेकिन हमारी ऐतिहासिक जानकारी, अधिकतम नष्ट हो गई है. ये सब मान कर भी, जब हम अजंता के चित्र में, खजुराहो के शिल्पों में, हाथ में आईना लेकर शृंगार करती हुई स्त्री देखते हैं, तब हमें मानना ही पड़ता है कि भारत में आईने का उपयोग, हजारों वर्षों से सर्वमान्य था.

    लगभग सौ वर्षों से बेल्जियम की कांच और बेल्जियम के आईने विश्व में प्रसिद्ध हैं. लेकिन, बेल्जियम के आईनों को मात देते हुए धातु के आईने अरणमुला में बनाए जाते हैं. एकदम चिकने. पूरे पारदर्शी और साफ – सुस्पष्ट प्रतिमा दिखाने वाले आईने…!

    यह आईने एक विशेष प्रकार के मिश्र धातु से बनाए जाते हैं. लेकिन इसमें कौनसी धातु, किस अनुपात में मिलाई जाती है, यह आज भी ज्ञात नहीं है. धातु विशेषज्ञों ने इस मिश्र धातु का विस्तृत अध्ययन करने के बाद यह निर्णय दिया कि तांबा और टीन के विशिष्ट मिश्रण से बनाए गए धातु को अनेक दिन पॉलिश करने के बाद, बेल्जियम कांच के आईने जैसे आईने तैयार होते हैं. और यही आईने पहचाने जाते हैं, ‘अरणमुला कन्नड़ी’ के नाम से.

    केरल के अरणमुला में बनाए जाने वाले यह आईने, अपने आप में विशेषता पूर्ण आईने हैं. क्योंकि पूरे विश्व में कहीं भी ऐसे आईने न तो मिलते हैं, और न ही बनाए जाते हैं. धातु से इतने चिकने और सुस्पष्ट प्रतिमा दिखाने वाले आईने बनाने का तंत्र, आज की इक्कीसवीं सदी में भी किसी वैज्ञानिक को प्राप्त नहीं हुआ है. विश्व में प्रचलित आईनों में प्रकाश का परावर्तन पार्श्वभाग से, अर्थात् पीछे से होता है. किन्तु अरणमुला कन्नड़ी में यही परावर्तन सामने से होता है. इसीलिए दिखने वाली प्रतिमा, अधिक साफ और सुस्पष्ट होती हैं. लंदन के ब्रिटिश संग्रहालय (म्यूजियम) में एक, पैंतालीस इंच का विशालकाय ‘अरणमुला कन्नड़ी’ रखा है, जो पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र है.

    इन आईनों को बनाने की विधि और प्रक्रिया, केवल कुछ परिवारों को ही ज्ञात है. यह एक रहस्य के रूप में रखी गई प्रक्रिया है. इसी कारण, अन्य किसी को भी इसकी निर्माण विधि बताना संभव नहीं है. ऐसा माना जाता है कि अरणमुला के भगवान श्रीकृष्ण के ‘पार्थसारथी मंदिर’ के पुनर्निर्माण के लिए, कुछ शताब्दियों पहले, वहां के राजा ने शिल्पकला में प्रवीण आठ परिवारों को बुलाया था. इनके पास इन धातुओं के आईने की तकनीक थी. अब मूलतः मंदिरों का निर्माण कार्य करने वाले, शिल्पकला में सिद्धहस्त ऐसे इन परिवारों के पास यह तकनीक कहां से आई, इस विषय में कुछ भी जानकारी नहीं मिलती. ये निश्चित है कि ये आठ परिवार तमिलनाडु से अरणमुला आए थे. इनके पास धातु से आईने बनाने की तकनीक सैकड़ों वर्षों से थी. किन्तु उसके व्यापारिक उपयोग के बारे में उन्होंने कभी नहीं सोचा था.

    अरणमुला पार्थसारथी मंदिर के पुनर्निर्माण के बाद, ‘इन परिवारों को क्या काम दिया जा सकता है’, ऐसा राजा सोच रहा था. इसी समय इन परिवारों ने राजा को धातु का राजमुकुट बना कर दिया. यह मुकुट बिलकुल शीशे जैसे था. राजा को मुकुट पसंद आया और उनकी इस विशेष कला को देखते हुए राजा ने उनको जगह दी, काम के लिए पूंजी दी और उन्हें धातु के आईने बनाने के लिए प्रोत्साहित किया. इन आईनों को रानियों के शृंगार में स्थान दिया. उस समय से इन परिवारों में ‘धातु के आईने बनाना’, यही व्यवसाय बन गया.

    अनेक पौराणिक कथा / लोककथाओं में धातु के आईने का उल्लेख आता है. कहा जाता है कि यह आईना सर्वप्रथम पार्वती ने शृंगार करते समय उपयोग में लाया था. मजे की बात यह कि वैष्णवों के पार्थसारथी मंदिर में पार्वती की यह लोककथा भक्तिभाव से सुनाई जाती है.

    आज यह आईने वैश्विक विरासत हैं. यह केवल हाथों से ही बनाए जाते हैं. एक दर्जन आईने बनाने में लगभग दो हफ्तों का समय लग जाता है. कोई भी दो आईने एक जैसे नहीं होते. विदेशी पर्यटकों में इन आईनों के प्रति जबरदस्त आकर्षण है. चूंकि यह हाथ से बनाए जाते हैं और इसलिए कम संख्या में उपलब्ध रहते हैं, इसीलिए इनका मूल्य अधिक होता है. सबसे छोटे एक-डेढ़ इंच के आईने का मूल्य 1200 रुपये के लगभग होता है. दस–बारह इंच के आईने, बीस से पच्चीस हजार रुपये तक बेचे जाते हैं. अनेक कार्पोरेट घराने, इन आईनों को उपहार के रूप में देते हैं.

    विश्व में एकमात्र और दुनिया भर के वैज्ञानिकों के सामने प्रश्न खड़ा करने वाली यह कला, केवल कुछ शतकों पूर्व, समाज के सामने आई. परंतु यह मात्र कुछ शतक पूर्व की नहीं, अपितु कुछ हजार वर्ष पूर्व की कला है, यह निश्चित है. फिर भी, मूल प्रश्न रहता ही है, कि हजारों वर्ष पूर्व की यह धातु विज्ञान की श्रेष्ठ कला, यह नजाकत, हमारे पास आई कहां से…?

    –  प्रशांत पोळ

    About The Author

    Number of Entries : 5597

    Leave a Comment

    हमारे न्यूज़लेटर के लिए साइन अप करें

    VSK Bharat नवीनतम समाचार के बारे में सूचित करने के लिए अभी सदस्यता लें

    Scroll to top