भारतीय पत्रकारिता के केंद्र में राष्ट्रीयता को रखना होगा – सुभाष सिंह Reviewed by Momizat on . मेरठ (विसंकें). उत्तर प्रदेश के सूचना आयुक्त सुभाष सिंह ने कहा कि पत्रकारिता में भारतीय संस्कृति के मूल्यों, परम्पराओं को यदि जीवित रखना है तो भारतीय पत्रकारिता मेरठ (विसंकें). उत्तर प्रदेश के सूचना आयुक्त सुभाष सिंह ने कहा कि पत्रकारिता में भारतीय संस्कृति के मूल्यों, परम्पराओं को यदि जीवित रखना है तो भारतीय पत्रकारिता Rating: 0
    You Are Here: Home » भारतीय पत्रकारिता के केंद्र में राष्ट्रीयता को रखना होगा – सुभाष सिंह

    भारतीय पत्रकारिता के केंद्र में राष्ट्रीयता को रखना होगा – सुभाष सिंह

    मेरठ (विसंकें). उत्तर प्रदेश के सूचना आयुक्त सुभाष सिंह ने कहा कि पत्रकारिता में भारतीय संस्कृति के मूल्यों, परम्पराओं को यदि जीवित रखना है तो भारतीय पत्रकारिता के केन्द्र में राष्ट्रीयता को रखना होगा. पाश्चात्य संस्कृति के प्रभाव के कारण भारतीय पत्रकारिता भी उससे प्रभावित हुई है. अब समय है, उस प्रभाव से बाहर आने का. वे विश्व संवाद केन्द्र द्वारा आयोजित नारद सम्मान समारोह में संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि आज पत्रकारिता में निष्पक्षता तथा राजनीति में पंथनिरपेक्षता हो ही नहीं सकती. यह तथ्यहीन बात है क्योंकि भारतीय राजनीति एवं पत्रकारिता में कहीं न कहीं इनके प्रभाव से बचा नहीं जा सकता.

    उन्होंने कहा कि 2014 में 30 वर्ष बाद पूर्ण बहुमत की सरकार बनी. विदेशी मीडिया ने इसको स्वत्रंत भारत की पहली स्वतंत्र सरकार की संज्ञा दी. ब्रिटेन से प्रकाशित गार्जियन अखबार का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि सैद्धान्तिक रूप से अंग्रेजों की भारत से अंततः पूर्ण रूप से विदाई हो गई है.

    मेरठ प्रान्त के सह प्रचार प्रमुख सुरेन्द्र सिंह ने कहा कि कुछ फिल्मों व टेलीविजन नाटकों ने नारद जी की छवि को समाज के बीच नकारात्मकता के साथ प्रस्तुत किया है. वास्तव में अपने धर्मग्रंथों व रामायण तथा महाभारत का अध्ययन करने के उपरान्त नारद जी के विषय में वास्तविकता का ज्ञान होता है. नारद जी तीनों लोकों के सर्वमान्य सम्वादवाहक थे. नारद जी द्वारा लोकहित को ध्यान में रखते हुए सूचनाओं का आदान-प्रदान किया जाता था. असुर, देव, नागरिक सब में उनकी स्वीकार्यता थी. वे लोगों की जिज्ञासाओं का समाधान करने के साथ-साथ समाजहित की प्रेरणा भी देते थे. विज्ञान से लेकर भूगोल, राजनीति, ज्योतिष, अर्थशास्त्र जैसे विषयों के विद्वान थे.

    कार्यक्रम में वरिष्ठ पत्रकार संतराम पाण्डेय को लाइफ टाइम अचीवमेंट सम्मान से सम्मानित किया गया. इसके अतिरिक्त संदीप शर्मा को पत्रकारिता के क्षेत्र में विशेष योगदान हेतु, सुनील कैथवास को फोटो पत्रकारिता के क्षेत्र में विशेष योगदान हेतु, सुनील कुमार सिंह को पत्र लेखन के क्षेत्र में, विशाल शर्मा को इलैक्ट्रोनिक मीडिया के क्षेत्र में तथा बीनम यादव को पत्रकारिता शिक्षण के क्षेत्र में विशेष योगदान हेतु सम्मानित किया गया.

    About The Author

    Number of Entries : 5327

    Leave a Comment

    हमारे न्यूज़लेटर के लिए साइन अप करें

    VSK Bharat नवीनतम समाचार के बारे में सूचित करने के लिए अभी सदस्यता लें

    Scroll to top