करंट टॉपिक्स

भारतीय विचार के संरक्षण व संवर्धन की आवश्यकता – आशुतोष शुक्ल जी

Spread the love

लखनऊ (विसंकें). दैनिक जागरण के संपादक आशुतोष शुक्ल जी ने कहा कि भारतीय विचार के रक्षण और संरक्षण की आज सबसे ज्यादा आवश्यकता है. यह भारतीय विचार और सनातन संस्कृति की शक्ति ही है, जो हमें श्रेष्ठ बनाती है तथा कुरीतियों से लड़ने की भी क्षमता प्रदान करती है. आशुतोष जी नारद जयंती समारोह में मुख्य वक्ता के रूप में संबोधित कर रहे थे.

आद्य पत्रकार देवर्षि नारद जयंती आयोजन समिति द्वारा विश्व संवाद केन्द्र सभागार में शुक्रवार को समारोह आयोजित किया गया. आशुतोष जी ने कहा कि पत्रकार की पहली जिम्मेदारी अपने धर्म, सनातन संस्कृति की रक्षा करना है. यह सनातन संस्कृति ही है जो समाज को कुरीतियों से लड़ने की ताकत देती है. इस समाज में जब-जब कुरीतियां आयी हैं, तब-तब यहां बुद्ध, दयानन्द, राम मोहन राय और अम्बेडकर जैसे लोग आये. सनातन संस्कृति बहता हुआ पानी है, यह ठहरा हुआ नहीं है. हमारी संस्कृति कहने, बोलने और शास्त्रार्थ करने की शक्ति देती है. हमें अपने इतिहास को ठीक से देखना व समझना होगा. हमें जो इतिहास पढ़ाया और दिखाया गया है, वह एक विचारधारा से प्रभावित था. उस विचार ने हमें इस्लाम से पहले के इतिहास को देखने ही नहीं दिया है. यही लोग हैं जो भारतीय विचार पर हमला कर रहे हैं.

उन्होंने कहा कि पत्रकार अपने जज्बे से बनता है. कोई भी पत्रकार जबरदस्ती नहीं बनाया जा सकता. पत्रकार तभी बनेगा, जब उसमें पत्रकार बनने के स्वाभाविक गुण होंगे. आज सूचना क्षेत्र के लिए कठिन समय है. जो सूचना आज मोबाइल पर प्राप्त हो रही है, जरूरी नहीं कि वह सही भी हो. इसलिए नये संचार माध्यम से आ रही सूचनाओं को अपने विवेक पर तौलना जरूरी हो गया है.

समारोह के मुख्य अतिथि एपीजे अब्दुल कलाम तकनीकी विश्वविद्यालय के कुलपति विनय पाठक जी ने कहा कि समाज के सामने आज कई प्रश्न खड़े हैं. इन प्रश्नों का समाधान करने के लिए ही पत्रकारिता है. पत्रकारिता का विकास होकर वह वेब और इलैक्ट्रानिक रूप में सामने है. इसमें तकनीक का विकास हुआ है. कार्यक्रम के अध्यक्ष वरिष्ठ पत्रकार और पूर्व राज्यसभा सांसद राजनाथ सिंह सूर्य ने कहा कि पत्रकार को नीर, क्षीर, विवेक से काम करना चाहिए. पत्रकार को कर्त्वव्य पर ध्यान रखना चाहिए, अधिकार पर नहीं. आज पत्रकारिता में तकनीकी विकास तो हुआ है, किन्तु नैतिक हास हुआ है.

इस अवसर पर रूमा सिन्हा (दैनिक जागरण), भास्कर दुबे (न्यूज टाइम्स), लालमणि वर्मा (इंडियन एक्सप्रेस), पंकज (एबीपी न्यूज), मनोज राजन त्रिपाठी (ईटीवी), अखिलेश रस्तोगी (न्यूज 18 नेटवर्क) दीपचन्द्र (राष्ट्रीय सहारा), ज्ञानेन्द्र शुक्ल (वरिष्ठ पत्रकार), नीरज भारती (आजतक) को सम्मानित किया गया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *