भारत की ऐतिहासिक जीत, मसूद अजहर वैश्विक आतंकी घोषित Reviewed by Momizat on . नई दिल्ली. पुलवामा हमले के मास्टरमाइंड पाकिस्तानी आतंकी मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के प्रस्ताव पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की मुहर लग गई है. संय नई दिल्ली. पुलवामा हमले के मास्टरमाइंड पाकिस्तानी आतंकी मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के प्रस्ताव पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की मुहर लग गई है. संय Rating: 0
    You Are Here: Home » भारत की ऐतिहासिक जीत, मसूद अजहर वैश्विक आतंकी घोषित

    भारत की ऐतिहासिक जीत, मसूद अजहर वैश्विक आतंकी घोषित

    नई दिल्ली. पुलवामा हमले के मास्टरमाइंड पाकिस्तानी आतंकी मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के प्रस्ताव पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की मुहर लग गई है. संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने भारत की मांग पर पाकिस्तान पोषित आतंकी मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित कर दिया. सुरक्षा परिषद की 1267 अल-कायदा प्रतिबंध समिति ने एक विशेष सत्र में प्रस्ताव पारित किया. यूएस, यूके और फ्रांस द्वारा रखे प्रस्ताव में इस बार चीन ने भी कोई अड़चन पैदा नहीं की. इससे पहले चीन ने 4 बार मसूद अजहर को आतंकी घोषित करने के खिलाफ वीटो का उपयोग करते हुए रुकावट उत्पन्न की थी.

    यूएन सेंक्शन के बाद मसूद अजहर ओसामा बिन लादेन, अल-जवाहिरी, अल-बगदादी जैसे ग्लोबल टेररिस्ट की सूची में शामिल हो गया है. इससे पहले यूएनएसी की सूची में अल-कायदा, इस्लामिक स्टेट, तालिबान, अल-शबाब जैसे संगठन शामिल हैं.

    प्रतिबंध के बाद क्या

    बैन के बाद पाकिस्तान को मसूद अजहर के टेरर कैंप और उसके मदरसों को भी बंद करना पड़ेगा.

    दुनियाभर के देशों में मसूद अजहर की एंट्री पर बैन.

    मसूद अजहर किसी भी देश में आर्थिक गतिविधियां नहीं कर सकेगा.

    संयुक्त राष्ट्र के सभी सदस्य देशों को मसूद अजहर और जैश-ए-मोहम्मद के बैंक अकाउंट्स और प्रॉपर्टी को फ्रीज करना पड़ेगा.

    मसूद अजहर और जैश-ए-मोहम्मद से संबंधित व्यक्तियों या उसकी संस्थाओं को कोई मदद नहीं मिलेगी.

    पाकिस्तान को भी मसूद अजहर के खिलाफ आर्थिक प्रतिबंध लगाने पड़ेंगे.

    पूर्व में प्रयास

    भारत ने 2009 में मसूद अजहर पर प्रतिबंध लगाने संबंधी प्रस्ताव पेश किया था. इसके बाद 2016 में भारत ने इस संबंध में पी3 देशों यानी अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस के साथ मिल कर संयुक्त राष्ट्र की 1267 सदस्यीय प्रतिबंध समिति के समक्ष मसूद अजहर पर प्रतिबंध लगाने संबंधी प्रस्ताव पेश किया था. इसके बाद 2017 में भारत ने पी3 देशों के साथ इसी प्रकार का प्रस्ताव फिर से पेश किया था लेकिन सभी मौकों पर वीटो का अधिकार रखने वाले सुरक्षा परिषद के स्थाई सदस्य चीन ने अपने अधिकार का इस्तेमाल करके इसमें अड़ंगा डाला था. पुलवामा हमले के बाद भी जब भारत ने मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के लिए प्रस्ताव प्रस्तुत किया तो चीन ने उसमें अड़ंगा डाला था. अब संयुक्त राष्ट्र ने पुलवामा आतंकी हमलों के जिम्मेदार जैश चीफ को वैश्विक आतंकी घोषित कर दिया है. मसूद अजहर मुंबई हमले का भी मुख्य आरोपी है.

     

     

    About The Author

    Number of Entries : 5690

    Leave a Comment

    हमारे न्यूज़लेटर के लिए साइन अप करें

    VSK Bharat नवीनतम समाचार के बारे में सूचित करने के लिए अभी सदस्यता लें

    Scroll to top