महाराष्ट्र के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में राहत पहुंचा रहे सैकड़ों संघ कार्यकर्ता Reviewed by Momizat on . जनकल्याण समिति ने किया बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में सहायता का आह्वान पुणे (विसंकें). अप्रत्याशित बारिश और बांधों से पानी छोड़े जाने के कारण महाराष्ट्र के 10 जिलो जनकल्याण समिति ने किया बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में सहायता का आह्वान पुणे (विसंकें). अप्रत्याशित बारिश और बांधों से पानी छोड़े जाने के कारण महाराष्ट्र के 10 जिलो Rating: 0
    You Are Here: Home » महाराष्ट्र के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में राहत पहुंचा रहे सैकड़ों संघ कार्यकर्ता

    महाराष्ट्र के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में राहत पहुंचा रहे सैकड़ों संघ कार्यकर्ता

    जनकल्याण समिति ने किया बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में सहायता का आह्वान

    पुणे (विसंकें). अप्रत्याशित बारिश और बांधों से पानी छोड़े जाने के कारण महाराष्ट्र के 10 जिलों में बाढ़ की गंभीर स्थिति बनी थी. विकट स्थिति में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ जनकल्याण समिति ने विभिन्न स्थानों पर राहत कार्य शुरू किया. जनकल्याण समिति के मार्गदर्शन में सैकड़ों कार्यकर्ता आपदा पीड़ितों की सहायता के लिये आगे आए. मुख्य रूप से सांगली, कोल्हापुर और सातारा जिले सबसे अधिक प्रभावित हुए हैं.

    राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रांत कार्यवाह तुकाराम नाईक ने बताया कि समिति के माध्यम से सांगली जिले के मिरज, शिराला और पलूस तालुका के लगभग 50,000 नागरिकों को अस्थायी आश्रय केंद्रों में स्थानांतरित किया गया है. तीन स्थानों पर चल रहे केंद्रों में लगभग 300 पुरुष और महिला कार्यकर्ता सक्रिय हैं. हेलीकॉप्टर द्वारा बचाए गए नागरिकों के लिए हर घंटे एनडीआरएफ और जवानों को 1000 भोजन के पैकेट प्रदान किए जा रहे हैं.

    सातारा जिले में सातारा, कराड और पाटन में 1000 से अधिक नागरिक आपदा में फंसे थे. समिति ने 200 लोगों के लिए भोजन की व्यवस्था की और पाटन क्षेत्र के 70 पीड़ितों को आसनों और चादरों की आपूर्ति की.

    कोल्हापुर जिले में कोल्हापुर, करवीर और शिरोला तालुका में 38000 व्यक्तियों को अस्थायी आवास उपलब्ध कराए गए हैं तथा 22 केंद्रों में कुल 250 पुरुष और महिला कार्यकर्ता राहत कार्य में लगे हैं. दस प्राथमिक चिकित्सा केंद्रों में प्राथमिक उपचार, 6000 लीटर पेयजल के वितरण के साथ दवाओं और कपड़ों का वितरण भी जारी है. कोल्हापुर शहर और इचलकरंजी, वारणा कोडोली में बाढ़ में फंसे हुए लोगों को पानी से बाहर निकालने के बाद कोल्हापुर में 6 और इचलकरंजी में 4 बाढ़ प्रभावित केंद्रों का संपूर्ण पालकत्व लिया गया है. सारी व्यवस्था राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ जनकल्याण समिति और राष्ट्र सेविका समिति द्वारा की जा रही है. इसके अलावा शहर के 23 केंद्रों पर 32 डॉक्टरों और उनके सहायकों की टीम लगातार काम कर रही है.

    उन्होंने बताया कि बाढ़ नियंत्रण के बाद स्वास्थ्य की देखभाल, घरों की सफाई, किटाणुनाशकों का छिड़काव, घरों की आवश्यक मरम्मत आदि के काम शुरू करने होंगे. समिति को वर्तमान में केवल वित्तीय सहायता की अपेक्षा है और इस मदद पर 80G के तहत छूट प्राप्त होगी. उन्होंने समाज से सहयोग का आह्वान किया. सहयोग राशि देने के लिए चैक “राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ जनकल्याण समिति” के नाम पर बनाया जा सकता है या 2000 रुपये तक की नकद राशि जमा कर सकते हैं.

    बैंक ऑफ महाराष्ट्र, तिलक रोड शाखा

    बचत खाता क्रमांक – 20057103852, IFSC – MAHB0000041

    सहयोग करने वाले बंधु अपनी जानकारी पता, फोन नंबर, पैन नंबर आदि rssjanklyan@yahoo.co.in पर भेजें.

    About The Author

    Number of Entries : 5418

    Leave a Comment

    हमारे न्यूज़लेटर के लिए साइन अप करें

    VSK Bharat नवीनतम समाचार के बारे में सूचित करने के लिए अभी सदस्यता लें

    Scroll to top