करंट टॉपिक्स

मीडिया में बढ़े समाज की सहभागिता – नरेंद्र जी

Spread the love

करनाल (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रचार विभाग का हरियाणा प्रांत का दो दिवसीय अभ्यास वर्ग करनाल के सेक्टर 14 स्थित श्रीकृष्ण मंदिर में संपन्न हुआ. अभ्यास वर्ग में उत्तर क्षेत्र के प्रचार प्रमुख नरेंद्र जी ने कार्यकर्ताओं का मार्गदर्शन करते हुए मीडिया में समाज की सहभागिता बढ़ाने के लिए कार्य करने का आह्वान किया. वर्ग में प्रांतभर से कुल 65 कार्यकर्ताओं ने भाग लिया. 19 सितम्बर सायं से प्रारंभ होकर यह वर्ग 20 सितम्बर सायं तक चला.

नरेंद्र जी ने कहा कि संघ के प्रचार विभाग का कार्य संघ का प्रचार करना नहीं है, बल्कि राष्ट्रीय विचारों और रचनात्मक एवं सेवा कार्यों का प्रचार-प्रसार करना है, साथ ही मीडिया में संघ की सही छवि को प्रस्तुत करना है. उन्होंने मीडिया में समाज की सहभागिता बढ़ाने पर जोर देते हुए कहा कि हर जिले में पत्र लेखन प्रशिक्षण के लिए नागरिक पत्रकारिता प्रशिक्षण कार्यशालाओं का आयोजन किया जाना चाहिए. संपादक के नाम पत्र लेखन पर जोर देते हुए कहा कि संपादक के नाम लिखे जाने वाले पत्र किसी भी समाचार पत्र-पत्रिका के संपादक मंडल को अपनी नीति बदलने पर मजबूर कर देते हैं. इसलिए हमें कोई समाचार या आर्टिकल सही न लगे तो उसकी प्रतिक्रिया में तुरंत पत्र लिखना चाहिए. साथ ही प्रशंसनीय समाचार की प्रशंसा में भी पत्र लिखा जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि संघ के बारे में मीडिया को सही जानकारी देना भी प्रचार विभाग का कार्य है. वर्ष में कम से कम दो बार पत्रकारों से मिलने का कार्यक्रम बनाया जाना चाहिए. साथ ही सार्वजनिक कार्यक्रमों में पत्रकारों को औपचारिक निमंत्रण देकर कार्यक्रम देखने के लिए बुलाया भी जाना चाहिए ताकि पत्रकार संघ को समझ सकें. नरेंद्र जी ने कई अन्य विषयों और आगामी कार्यक्रमों के बारे में भी कार्यकर्ताओं को जानकारी दी. प्रांत के अभिलेखागार प्रमुख रवि जी ने सोशल मीडिया के संबंध में कार्यकर्ताओं को जानकारी दी. टीवी दर्शक मंच के प्रांत प्रमुख नवीन जी ने टीवी पर गलत तथ्यों की शिकायत कैसे की जा सकती है, इसके संबंध में जानकारी दी ताकि सही तथ्यों को दिखाया जा सके और समाज को सही दिशा मिले. समापन अवसर पर सह प्रांत प्रचारक विजय जी ने प्रचार विभाग की आवश्यकता के बारे में बताते हुए कार्यकर्ताओं में जोश का संचार किया. उन्होंने कहा कि आज मीडिया गैर महत्व के और नकारात्मक विषयों को अधिक महत्व देता दिखाई देता है. ऐसे में मीडिया को ऐसे समाचारों को प्रसारित एवं प्रकाशित करने की दिशा दिखाए जाने की आवश्यकता है, जो समाज और देशहित में हों.

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *