मेरठ में बलिदानियों की माटी को नमन कार्यक्रम का आयोजन Reviewed by Momizat on . मेरठ. हिन्दू जागरण मंच द्वारा मेरठ के जिमखाना मैदान में बलिदानियों की माटी को नमन कार्यक्रम का आयोजित किया गया. इसमें 64 बलिदानियों के परिवारों को सम्मानित किया मेरठ. हिन्दू जागरण मंच द्वारा मेरठ के जिमखाना मैदान में बलिदानियों की माटी को नमन कार्यक्रम का आयोजित किया गया. इसमें 64 बलिदानियों के परिवारों को सम्मानित किया Rating: 0
    You Are Here: Home » मेरठ में बलिदानियों की माटी को नमन कार्यक्रम का आयोजन

    मेरठ में बलिदानियों की माटी को नमन कार्यक्रम का आयोजन

    Spread the love

    मेरठ. हिन्दू जागरण मंच द्वारा मेरठ के जिमखाना मैदान में बलिदानियों की माटी को नमन कार्यक्रम का आयोजित किया गया. इसमें 64 बलिदानियों के परिवारों को सम्मानित किया गया.

    बलिदानियों के परिवारों को पीएल शर्मा स्मारक मैदान से पुष्प वर्षा और बैंड बाजों के साथ जिमखाना मैदान लाया गया. इशकी अगवानी केन्द्रीय मंत्री जनरल वी.के. सिंह एवं आध्यात्मिक गुरु पवन सिन्हा जी कर रहे थे. आकाश से भी एक ड्रोन लगातार पुष्प वर्षा कर रहा था. अद्भुत दृश्य ने सभी को भावुक कर दिया. अनेक लोगों की की आँखें भर आईं. बलिदानियों के सभी परिवारों को मंच पर बिठाया गया, स्मृति चिह्न एवं शॉल भेंट कर सम्मानित किया गया.

    मंच पर अमर जवान ज्योति जल रही थी, इसके पीछे इंडिया गेट का चित्र था. कार्यक्रम में बलिदानियों के घरों से लाई गई मिट्टी का तिलक सभी को लगाया गया.

    कार्यक्रम के मुख्य अतिथि केंद्रीय मंत्री जनरल वीके सिंह ने कहा कि लोग बलिदानियों के के परिवारों को दिन में सिर्फ एक बार प्रणाम कर लें, तभी आयोजन का उद्देश्य सफल होगा. ये ऐसे स्वाभिमानी परिवार हैं, जिन्हें किसी से कुछ नहीं चाहिए. सिर्फ समाज का प्रेम और सम्मान चाहिये. एक सैनिक के दिल में सिर्फ एक ही बात रहती है कि मुझे अपने नाम और निशान को नहीं गिरने देना. इसकी रक्षा के लिये हमारे सैनिकों ने विकट परिस्थितियों में भी लड़ाइयां लड़ीं और जीती हैं. इसलिये हम सब वीर सैनिक और उसके परिवार का सम्मान करें. अगर हम ऐसा कर पाते हैं तो जितना एक सैनिक आज काम कर रहा है, वह इससे भी 15 गुना ज्यादा काम करेगा. आज हम सभी यह प्रण लें कि अगर हमारे शहर, गांव या आसपास के क्षेत्र में किसी सैनिक का परिवार है तो दिन में कम से कम एक बार उसका हालचाल अवश्य लेंगे.

    कार्यक्रम में मुख्य वक्ता पवन सिन्हा जी ने कहा कि बलिदानियों के परिवारों की तीन महत्वपूर्ण आवश्यकताएं होती हैं, शिक्षा, स्वास्थ्य और बच्चों का विवाह. उन्होंने कहा कि देश पर दो तरह के खतरे हैं, सीमा पर व आतंरिक सुरक्षा. वर्तमान में कुछ लोग आतंरिक सुरक्षा को नुकसान पहुंचाने का प्रयास कर रहे हैं, अलगाववादी संगठन माहौल बिगाड़ने का प्रयास कर रहे हैं. कुछ मुट्ठीभर लोग देश की छवि खराब कर रहे हैं. जिस (भगवा) रंग को गर्व से लहराया जा रहा है, उसे बदनाम करने का प्रयास चल रहा है.

    उन्होंने कहा कि पीएफआई, एनडीएफ जैसे संगठन मेरठ, शामली, मुजफ्फरनगर में सक्रिय हैं. ये संगठन धर्म की आड़ में एक जिहादी ताना बाना बुनकर अपने धर्म के ही लोगों को भटकाने का कार्य करते हैं. अधिकारिक आंकड़ों के अनुसार देश के अन्दर 68 आतंकवादी संगठन कार्य कर रहे हैं. जिनका सीधा संबंध आईएसआई से है. जातीय संघर्ष के नाम पर लोगों को भड़काया जाता है. समाज में चल रही इन गतिविधियों के प्रति स्वयं जागरूक होने के साथ ही अन्य लोगों को जागरूक करने की आवश्यकता है. कार्यक्रम में मेरठ के 23, शामली के 11, सहारनपुर के 6, बागपत के 6, लक्ष्मीनगर के 12, मेरठ महानगर के 6 बलिदानी परिवारों को सम्मानित किया गया.

    •  
    •  
    •  
    •  
    •  

    About The Author

    Number of Entries : 6857

    Leave a Comment

    हमारे न्यूज़लेटर के लिए साइन अप करें

    VSK Bharat नवीनतम समाचार के बारे में सूचित करने के लिए अभी सदस्यता लें

    Scroll to top