संघ स्वार्थ, प्रसिद्धि या अपना डंका बजाने के लिए सेवाकार्य नहीं करता Reviewed by Momizat on . राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, नागपुर महानगर द्वारा आयोजित बौद्धिक वर्ग में सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी का उद्बोधन के अंश 1). एकांत में आत्मसाधना- लोकांत में परोपकार- राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, नागपुर महानगर द्वारा आयोजित बौद्धिक वर्ग में सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी का उद्बोधन के अंश 1). एकांत में आत्मसाधना- लोकांत में परोपकार- Rating: 0
    You Are Here: Home » संघ स्वार्थ, प्रसिद्धि या अपना डंका बजाने के लिए सेवाकार्य नहीं करता

    संघ स्वार्थ, प्रसिद्धि या अपना डंका बजाने के लिए सेवाकार्य नहीं करता

    राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, नागपुर महानगर द्वारा आयोजित बौद्धिक वर्ग में सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी का उद्बोधन के अंश

    1). एकांत में आत्मसाधना- लोकांत में परोपकार- यही व्यक्ति के जीवन का और संघ कार्य का स्वरुप है.

    2). संघ स्वार्थ, प्रसिद्धि या अपना डंका बजाने के लिए सेवाकार्य नहीं करता. 130करोड का समाज अपना समाज है, यह अपना देश है, इसलिए हम कार्य करते हैं. जो पीड़ित – वो अपने, सब के लिए कार्य करना है. कोई छूटे नहीं. यही हमारा संकल्प है.

    3). जितनी शक्ति- उतनी सेवा हमारी परंपरा है. इसी भाव से हमने विश्व की भी यथासंभव सहायता की है.

    4). इस संकट का सामना करने में हम इस लिए सफल हो पा रहे हैं क्योंकि सरकार ने चुनौती को समझ कर तत्परता से कार्य किया और समाज ने भी उसी तत्परता से अनुसरण किया.

    5). अगर कोई गलती करता है तो पूरे समूह को नहीं लपेटना, पूरे समाज से दूरी नहीं बनानी चाहिए.130 करोड का समाज भारत माता की संतान और अपना बंधु हैं. समाज के प्रत्येक वर्ग का नेतृत्व अपने अपने समाज को भय और क्रोधवश होने वाले कृत्यों से बचाते हुए सकारात्मकता का वातावरण देश में निर्माण करे. परिस्थिति का लाभ उठाकर देश तोड़ने वाली शक्तियों के मंसूबे सफल नहीं होने देंगे. पालघर में हुए पूज्य संतों की हत्या पर दुःख व्यक्त करते हुए 28 अप्रैल को अपने-अपने घरों में श्रद्धांजलि देने का आहवान किया.

    6). हनुमान का उदाहरण सम्मुख रखकर धृति, मति, दृष्टि, दाक्ष्य यानि सावधानी पूर्वक कार्य करें. नियम पालन जीवन का स्वभाव बने. जब तक हम इस लड़ाई को जीत नहीं जाते, तब तक सावधानी नहीं छोड़नी. भविष्य में राहत कार्य के साथ समाज को दिशा देने का कार्य भी हमें करना होगा.

    7). स्वदेशी वस्तुओं का उपयोग, जल एवं वृक्षों का संरक्षण, स्वच्छता, प्लास्टिक से मुक्ति, जैविक कृषि वाला हमारा आचरण बने. समाज नागरिक अनुशासन का पालन करें, यही देशभक्ति है.

    8). स्वावलंबन अर्थात रोजगार मूलक, कम उर्जा का खपत करने वाली, पर्यावरण का संरक्षण करने वाली आर्थिक विकास की नीति ही अब राष्ट्र निर्माण का अगला चरण होगा.

    9). शासन- प्रशासन – समाज अपनी जिम्मेदारी निभाये. समाज में त्याग और समझदारी का भाव बनाये रखना होगा. परस्पर सदभाव, संवाद और शांति से ही हम इस संकट पर विजयी होंगे. संस्कारों की निर्मिति का कार्य अपने एवं अपने परिवार के आचरण से प्रारंभ करें.

    10). समाजोन्मुख प्रशासन- देशहित मूलक राजनीति- संस्कारमूलक शिक्षा और श्रेष्ठ आचरण वाले समाज के द्वारा ही हम इस संकट को अवसर बना कर भारत का उत्थान कर सकते हैं. संकट की इस घड़ी में अपने उदाहरण से विश्व की मानवता का नेतृत्व करने योग्य अपना देश बने यह हम सबकी भूमिका है.

    About The Author

    Number of Entries : 6559

    Leave a Comment

    हमारे न्यूज़लेटर के लिए साइन अप करें

    VSK Bharat नवीनतम समाचार के बारे में सूचित करने के लिए अभी सदस्यता लें

    Scroll to top