सेना ने बारामूला जिला को बनाया आतंकी मुक्त Reviewed by Momizat on . कभी आतंकियों (हिजबुल मुजाहिद्दीन) का गढ़ माना जाने वाला जम्मू कश्मीर का बारामूला जिला आज आतंक मुक्त घोषित हो गया है. 23 जनवरी को सेना के साथ मुठभेड़ में तीन आतं कभी आतंकियों (हिजबुल मुजाहिद्दीन) का गढ़ माना जाने वाला जम्मू कश्मीर का बारामूला जिला आज आतंक मुक्त घोषित हो गया है. 23 जनवरी को सेना के साथ मुठभेड़ में तीन आतं Rating: 0
    You Are Here: Home » सेना ने बारामूला जिला को बनाया आतंकी मुक्त

    सेना ने बारामूला जिला को बनाया आतंकी मुक्त

    कभी आतंकियों (हिजबुल मुजाहिद्दीन) का गढ़ माना जाने वाला जम्मू कश्मीर का बारामूला जिला आज आतंक मुक्त घोषित हो गया है. 23 जनवरी को सेना के साथ मुठभेड़ में तीन आतंकियों के मारे जाने के बाद जम्मू कश्मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह ने इस तथ्य की पुष्टि की. कश्मीर में तमाम परिस्थितियों को झेलने के बाद सेना और पुलिस की सफलता पर हम सभी को गर्व होना चहिये. बारामूला आतंक प्रभावित जिलों में से आतंक मुक्त होने वाला पहला जिला है. आशा है कि सेना व पुलिस की कार्रवाई का क्रम जम्मू कश्मीर को आतंक मुक्त बनाने के साथ ही पूरा होगा.

    क्षेत्र में आतंकियों के छिपे होने की सूचना के बाद पुलिस ने सर्च ऑपरेशन चलाया. ये आतंकी चार घंटे से वहाँ छिपे हुए थे और सुरक्षा बलों को निशाना बना रहे थे. उन्हें पहले सरेंडर करने को कहा गया, लेकिन वे फायरिंग करते रहे. इन आतंकियों ने पहले भी कई बार बारामूला पुलिस पर ग्रेनेड से हमला किया था. कुछ दिन पहले घाटी के तीन युवकों को भी मौत के घाट उतार दिया था.

    बारामूला के सफ़ियाबाद में J&K पुलिस, भारतीय सेना और CRPF ने एक संयुक्त ऑपरेशन में 3 आतंकवादियों को मार गिराया. मारे गए आतंकियों के पास से सुरक्षा बालों ने कई हथियार भी बरामद किए. ऑपरेशन में सेना की 46 राष्ट्रीय राइफल्स, 4 पैरा फोर्सेज, एसओजी और सीआरपीएफ के जवान शामिल थे. बारामूला समय से आतंकवादियों की करतूतों के कारण चर्चा में रहा है. कभी बुरी तरह आतंक प्रभावित रहे इस ज़िले के सोपोर क्षेत्र में कई बार सुरक्षा बलों और आतंकवादियों की मुठभेड़ हो चुकी है. जिस उरी सैन्य कैंप पर आतंकी हमले के बाद सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया गया था, वो बारामूला में ही स्थित है.

    घाटी में सेना ने आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन को जारी रखते हुए इस साल 23 दिनों में 14 आतंकियों को मार गिराया है. 12 जनवरी को हुई मुठभेड़ में अल-बद्र के खूंखार आतंकी जीनत को मार गिराया था. उसे IED बम एक्सपर्ट कहा जाता था. अगर पिछले साल के आँकड़ों की बात करें तो वर्ष 2018 में 28 दिसंबर तक जम्मू और कश्मीर में मुठभेड़ों में 253 आतंकी मारे गए थे.

    जम्मू कश्मीर राज्य के 22 ज़िलों में से लगभग 18-19 ज़िले मुख्यधारा में शामिल होकर विकास और शांति की राह पर हैं. यानि बचे हैं साउथ कश्मीर का अनंतनाग, पुलवामा, शोपियां और कुलगाम. जहां करीब 200 पाकिस्तान द्वारा प्रायोजित आतंकी अभी भी बचे हुए हैं. लेकिन यहां भी 2018 में सुरक्षाबलों ने आतंकियों को कमर पूरी तरह तोड़ दी है.

    जम्मू कश्मीर के डीजीपी ने विशेष जानकारी देते हुए पत्रकारों को बताया कि – “बारामूला जिले में बुधवार के ऑपरेशन में 3 आतंकी मार गिराए गए. इसी के साथ बारामूला कश्मीर का पहला आतंकी मुक्त जिला बन गया है, आज की तारीख में वहां एक भी जीवित आतंकी नहीं है.”

    About The Author

    Number of Entries : 5569

    Leave a Comment

    हमारे न्यूज़लेटर के लिए साइन अप करें

    VSK Bharat नवीनतम समाचार के बारे में सूचित करने के लिए अभी सदस्यता लें

    Scroll to top