हम सभी लोकतंत्र के महापर्व में बढ़ चढ़कर हिस्सा लें – श्रीनिवास जी Reviewed by Momizat on . शिमला. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद विवि इकाई द्वारा आयोजित वार्षिक सांस्कृतिक कार्यक्रम अभिनंदन विवि सभागार में सम्पन्न हुआ. इस मौके पर अखिल भारतीय विद्यार्थी शिमला. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद विवि इकाई द्वारा आयोजित वार्षिक सांस्कृतिक कार्यक्रम अभिनंदन विवि सभागार में सम्पन्न हुआ. इस मौके पर अखिल भारतीय विद्यार्थी Rating: 0
    You Are Here: Home » हम सभी लोकतंत्र के महापर्व में बढ़ चढ़कर हिस्सा लें – श्रीनिवास जी

    हम सभी लोकतंत्र के महापर्व में बढ़ चढ़कर हिस्सा लें – श्रीनिवास जी

    शिमला. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद विवि इकाई द्वारा आयोजित वार्षिक सांस्कृतिक कार्यक्रम अभिनंदन विवि सभागार में सम्पन्न हुआ. इस मौके पर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री श्रीनिवास जी ने मुख्य अतिथि के रूप में शिरकत की. कार्यक्रम की अध्यक्षता डॉ. लोकेंद्र शर्मा ने की.

    डॉ. लोकेंद्र शर्मा ने कहा कि 09 जुलाई 1949 से लेकर आज तक निरन्तर प्रवाह के साथ गतिमान विद्यार्थी परिषद ने अपने रचनात्मक दृष्टिकोण से समाज व देश में अपने आप को अन्य छात्र संगठनों से अलग एक आंदोलन के तौर पर स्थापित किया  है. एक रचनात्मक दृष्टिकोण से अपनी सभ्यता संस्कृति को जोड़ते हुए देश की एकता-अखंडता के लिए कार्य किया है.

    मुख्यातिथि श्रीनिवास जी ने कहा कि सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे संतु निरामयः तथा वसुधैव कुटुम्बकम के मंत्र पर चलते हुए परिषद ने अपनी संस्कृति को संजोने का कार्य किया है. भारत माता की रक्षा में अपना सर्वस्व न्यौछावर करने वाले वीरों को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि यह कार्यक्रम जिसका शीर्षक अभिनदंन तय किया है, यह सभी वीरों के लिए एक छोटी सी श्रद्धांजलि है. यह कार्यक्रम देश के बलिदानियों को समर्पित है.

    उन्होंने कहा कि अभी देश में लोकतंत्र का महापर्व चल रहा है, तो इस देश के युवाओं का कर्तव्य बनता है कि देश की लोकतांत्रिक व्यवस्था को सर्वोपरि मानते हुए महापर्व में बढ़ चढ़कर हिस्सा लें. विद्यार्थी परिषद ने पूरे देश में Nation Frist, Voting Must की टैगलाइन के साथ शत प्रतिशत मतदान के लिए अभियान चलाया है, जिससे लोकतंत्र को सुदृढ़ किया जा सके. छात्रों को शपथ दिलाते हुए कहा कि हम सब अपने अपने मतदान केंद्र पर जाकर वोट करेंगे. हम स्वयं कहीं भी रहें, लेकिन हमारे दिलों में भारत रहना चाहिए, ये देश रहना चाहिए.

    About The Author

    Number of Entries : 5683

    Leave a Comment

    हमारे न्यूज़लेटर के लिए साइन अप करें

    VSK Bharat नवीनतम समाचार के बारे में सूचित करने के लिए अभी सदस्यता लें

    Scroll to top