करंट टॉपिक्स

1984 के दोषियों पर कार्यवाही का निर्णय

Spread the love

नई दिल्ली. 1984 के कत्लेआम तथा घावों पर मलहम लगाने के लिये मौजूदा सरकार से अपेक्षा में राष्ट्रीय सिख संगत का एक शिष्टमण्डल माननीय श्री राजनाथ सिंह जी, गृह मंत्री, भारत सरकार को मिला तथा उनके निवास स्थान पर लंबी विचार-चर्चा बैठक सम्पन्न हुई. उसी बैठक की निरंतरता में 1984 के पीड़ितों को राहत पहुंचाने तथा दोषी व्यक्तियों को सजा दिलाने हेतु निवेदन किया. गृहमंत्री ने पीड़ितों के प्रति पूर्ण संवेदना प्रकट करते हुये यह कहा कि सरकार सिख समाज के प्रति गहरी सहानुभूति तथा सम्मान रखती है एवं अविलंब राहत पहुंचाई जायेगी तथा साथ ही दोषी व्यक्तियों को सजा दिलाने की कार्यवाही त्वरित रूप से की जायेगी.

Sikh Sangat-राष्ट्रीय सिख संगत के राष्ट्रीय महामंत्री डॉ. अवतार सिंह शास्त्री ने बताया कि 27 अक्टूबर को केन्द्रीय गृहमंत्री श्री राजनाथ सिंह जी ने सिख संगत के राष्ट्रीय अध्यक्ष स. गुरचरन सिंह गिल से फोन पर वार्ता पर उन्हें अवगत कराया है कि सरकार द्वारा पीड़ितों को राहत पहुंचाने व दोषियों को सजा दिलवाने हेतु कार्यवाही करने का निर्णय ले लिया गया है. बैठक में मोटे रूप में यह तय हुआ कि निम्न बिन्दुओं पर कार्यवाही कर पीड़ितों के जख्मों पर मलहम लगायेंगे.

1. सन् 1984 के कत्लेआम के संबंध में न्यायधिपति नानावटी आयोग ने अपनी रिपोर्ट में बंद किये गये 241 प्रकरणों का हवाला दिया था जिसमें केवल 4 प्रकरणों में में आरोप पत्र दाखिल हुये. शेष 237 प्रकरणों को भी पुनः खोला जाकर उसकी जांच पूर्ण कर न्यायालय में आरोप पत्र प्रस्तुत किया जाना न्यायहित में आवश्यक है लेकिन इन प्रकरणों में अभी तक भी विधि अनुसार सही जांच नहीं हुई है. इसके अतिरिक्त भी अन्य पीड़ितों के परिवार लंबित हैं जिसमें त्वरित न्याय की गुहार है. अतः 1984 के इस घटनाक्रम के बारे में विशेष अन्वेषण दल (एस.आई.टी.) गठित कर दोषी व्यक्तियों के खिलाफ न्यायलयोंमें आरोप पत्र दाखिल करवाये जायें तथा इन प्रकरणों की शीघ्र सुनवाई हेतु विशेष फास्ट ट्रेक न्यायालय गठित किये जायें. इनके साथ मुख्य आरोपी जगदीश टाइटलरतथा अन्य दोषियों के खिलाफ जल्द से जल्द कार्यवाही हो जाये.

Sikh Sangat Pratinidhimandal2. सन् 1984 के पीड़ितों को आर्थिक सहायता, पुर्नवास व आश्रितों को रोजगार की मांग निरंतर किये जाने के बावजूद अभी-भी पूर्ण राहत नहीं मिली है इसलिये अंतरिम रूप से तुरंत राहत देकर व पूर्ण जांच कराकर समुचित राहत पहुंचाने की कृपा करें.

3. सन् 1984 के पीड़ितों के स्वरोजगार हेतु जो ऋण लिये गये थे उसमें केन्द्र सरकार के स्तर पर दिये जाने वाले अनुदान तथा ब्याज व ऋण में राहत की 1984 सिख कत्लेआम वेलफेयर सोसायटी द्वारा उठाई जा रही मांग लंबे समय से नीतियों को सही तरीके से लागू करने हेतु विचाराधीन है जिसपर अविलंब सकारात्मक निर्णय करवाकर पीड़ितों को राहत पहुंचानेका कष्ट करें तथा उस हेतु संबंधित बैंकों को भी तदानुसार निर्देश जारी करवाने की कृपा करें.

4. थाना नांगलोई में पंजीकृत प्रथम सूचना संख्या 67/87 में सी.बी.आई. द्वारा अंततोगत्वा जांच पूर्ण करके सज्जन कुमार एवं अन्य को दोषी माना है इस बावत् आर.पी. सिंह, विधायक, दिल्ली द्वारा रिकार्ड आपके संज्ञान में लाया गया है लेकिन अभी तक सी.बी.आई. द्वारा न्यायालय में आरोप-पत्र प्रस्तुत नहीं किया है. इस प्रकरण में आरोप पत्र न्यायालय में दाखिल कराकर त्वरित सुनवाई करवाने की कृपा करें.

अतः आपसे पूर्व के अनुरोधों के निरंतरता में आपसे विनम्र निवेदन है कि आप अपे उच्च एवं पवित्र पद का उपयोग करते हुए इस दुखःद घटनाक्रम में अविलम्ब राहत पहुंचाकर घावों पर मलहम लगाने की कृपा करें.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.