करंट टॉपिक्स

तुष्टीकरण – एक दुर्घटना में 5 लाख मुआवजा राशि, दूसरी में केवल सांत्वना; सोशळ मीडिया पर मुख्यमंत्री गहलोत के खिलाफ नाराजगी

Spread the love

जयपुर. राजस्थान में कांग्रेस सरकार की तुष्टीकरण की नीति जगजाहिर है. अब मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के ट्वीट को लेकर फिर से सवाल उठ रहे हैं और तुष्टीकरण को लेकर सोशल मीडिया पर लोग उन्हें घेर रहे हैं. लोगों का कहना है कि कांग्रेस सरकार की मानसिकता फिर से उजागर हुई है.

दरअसल, श्रीगंगानगर जिले के रामसिंहपुर गांव में रविवार को खेत में पानी की डिग्गी (छोटे तालाब) में नहाते समय डूबने से पांच बच्चों की मौत हो गई. इनमें दो लड़कियां और तीन लड़के शामिल हैं. ये बच्चे हिन्दू परिवार से थे. इस पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट किया – ‘श्रीगंगानगर में रामसिंहपुर क्षेत्र के उदासर गांव में खेत में पानी की डिग्गी में डूबने से पांच बच्चों की मृत्यु का समाचार बेहद दुःखद है. मेरी गहरी संवेदनाएं बच्चों के माता-पिता एवं परिजनों के साथ हैं, ईश्वर उन्हें इस अत्यंत कठिन समय में सम्बल प्रदान करे.’

दूसरी घटना में जोधपुर जिले के बेंदती कला गांव के तालाब में डूबने से दो मुस्लिम युवकों की मौत हो गई. इस घटना पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट किया – ‘जोधपुर के बेंदती कला गांव के तालाब में डूबने से दो युवकों श्री रहमतुल्लाह एवं श्री अकरम की मृत्यु दुःखद है. मैं ईश्वर से मृतकों की आत्मा को शांति एवं शोकाकुल परिवारों को हिम्मत देने की कामना करता हूं. मृतकों के परिजनों को चिंरजीवी दुर्घटना बीमा योजना के अन्तर्गत 5 लाख रुपये की सहायता राशि दी जाएगी. मैं पुनः प्रदेश की जनता से अपील करता हूं कि बारिश के मौसम में हरसंभव सावधानी बरतें. छोटी सी लापरवाही जानलेवा साबित हो सकती है.’

दोनों घटनाओं को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने रविवार को ही ट्वीट किया. जिसके लोगों ने नाराजगी व्यक्त की. लोगों का कहना था कि पांच हिन्दू बच्चों की मौत पर सिर्फ संवेदना जताई, वहीं दो मुस्लिम युवकों की मौत पर संवेदना जताने के साथ पांच लाख रुपये की सहायता राशि देने की बात कही. इससे स्पष्ट हो गया है कि हिन्दुओं के प्रति सरकार की मानसिकता क्या है.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.