करंट टॉपिक्स

प्रवासी श्रमिकों की सहायता – विहिप ने दस हजार लीटर पीने का पानी एवं मोबाईल स्वच्छता गृहों की व्यवस्था की

Spread the love

मुंबई. कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर से महाराष्ट्र अधिक प्रभावित हो रहा है. संक्रमण के मामले तेजी से बढ़े हैं. जिसके चलते लॉकडाउन की घोषणा की गई है. लॉकडाउन के कारण जनजीवन भी प्रभावित हुआ है. अनेक श्रमिकों ने अपने-अपने गांव लौटने का क्रम शुरू कर दिया है. श्रमिकों की सहायता के लिए विश्व हिन्दू परिषद ने हाथ बढ़ाया है.

विश्व हिन्दू परिषद के कार्यकर्ताओं ने कुर्ला टर्मिनस पर पेयजल एवं मोबाइल स्वच्छता गृहों की व्यवस्था की है.

पिछले कुछ दिनों से महाराष्ट्र में लॉकडाऊन चल रहा है. कोरोना संक्रमितों की संख्या भी बढ़ रही है. ऐसी स्थिति में अपने-अपने गाँवों को लौटने वाले श्रमिकों एवं उनके परिवारजनों की सहायता विश्व हिन्दू परिषद द्वारा की जा रही है. कुर्ला टर्मिनस में विहिप के बीस कार्यकर्ताओं द्वारा १८ एवं १९ अप्रैल को लगभग दस हजार लीटर पेयजल बोतलों का वितरण किया गया. प्रवासी श्रमिकों की संख्या और स्थानकों में स्वच्छता के विषय को ध्यान में रखते हुए, महिलाओं के स्वास्थ्य पर विचार कर नौ मोबाइल टॉइलेट की व्यवस्था की गई है.

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, विश्व हिन्दू परिषद, जनकल्याण समिति, केशवसृष्टी, माइ ग्रीन सोसायटी, सेवा सहयोग, सेवांकुर, निरामय सेवा संस्था, आरोग्य भारती, समिधा आदि विविध संस्था-संगठनों ने पिछले वर्ष श्रमिकों को विविध स्वरूप में सहायता की थी. फूड पैकेट, राशन, काढ़ा सहित अन्य सहायता की कगई थी. आज फिर एक बार कोरोना ने अधिक तीव्रता से देश को प्रभावित किया है. संघ से संबंधित संस्थाएं भी मदद के लिये आगे आई हैं. प्लाज्मा डोनेशन सूची, क्वारेंटाइन परिवारों के भोजन की व्यवस्था, ऑक्सीजन कंसंट्रेटर, बेड आदि की व्यवस्था की जा रही है.

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *