करंट टॉपिक्स

स्वदेशी जागरण मंच का अभियान – स्वदेशी सामान व सम्मान के साथ मनाएं दीपावली

Spread the love

नई दिल्ली. अपने त्यौहार स्वदेशी सामान के साथ मनाए जाने को लेकर स्वदेशी जागरण मंच जागरूकता अभियान चला रहा है. अभियान का उद्देश्य स्वदेशी उत्पादों को अधिक से अधिक प्रचारित करना है. देश के नागरिक अधिक से अधिक स्वदेशी सामान का उपयोग करें, जिससे देश की आर्थिक स्थिति मजबूत हो. अभियान के तहत दीपावली के त्यौहार पर चीनी सामान के स्थान पर स्वदेशी सामान को प्रथामिकता देने का आग्रह किया जा रहा है. इसके लिए देशभर में अभियान चलाया जा रहा है.

अयोध्या में जागरूकता अभियान के तहत कोछा बाजार में केदारनाथ पांडे के नेतृत्व में जागरूकता रैली निकाली गई, इसके पश्चात लोगों ने चीनी सामान की होली जलाई. पलिया चौराहे पर यात्रा का नेतृत्व कर रहे अजय कुमार ने कहा कि अब समय आ गया है कि हम सभी चीन के सामानों का पूर्णतया बहिष्कार करें. हमें स्वदेशी सामानों का उपयोग करके अपने देश की आर्थिक स्थिति को मजबूत करने के लिए आगे आना होगा. अपनी धरोहर को बचाए रखने के लिए भी स्वदेशी के प्रति जागरुकता जरूरी है. हमारा देश आत्मनिर्भर तभी बन पाएगा, जब हम पूर्णरुप से स्वदेशी सामानों का उपयोग करेंगे.

बलिया में भी स्वदेशी जागरण मंच ने गांधी आश्रम चौराहा पर रविवार की शाम स्वावलंबी भारत अभियान के तहत जागरुकता रैली निकाली और चीन का पुतला फूंका. सुल्तानपुर में भी स्वदेशी जागरूकता अभियान निकालकर दत्तोपंत ठेगड़ी जयंती वर्ष मनाया गया. धम्मौर कस्बे में भी जागरूकता अभियान के माध्यम से लोगों को स्वदेशी की जानकारी दी गई. इसके अलावा कौशांबी, प्रतापगढ़ और अमेठी जिले में भी स्वदेशी अपनाओ के नारे के साथ अभियान चलाया जा रहा है.

मध्यप्रदेश में भी विभिन्न स्थानों पर स्वदेशी जागरण मंच द्वारा जागरूकता रैली निकाली गई. लोगों से दीपावली के त्यौहार पर भारत में भारतीयों द्वारा बनाए गए सामान को खरीदने का आग्रह किया गया. अभियान में किसानों, श्रमिकों, छोटे उद्यमियों, इंडस्ट्री और ट्रेड लीडर को जागरूक किया गया. विभिन्न संगठनों और एसोसिएशन के सहयोग से स्वदेशी सामानों के विषय में जानकारी दी गई. लोगों को स्वदेशी अपनाने के फायदे बताए गए.

देश की लगभग सभी समस्याओं का समाधान केवल स्वदेशी उत्पाद है. एक बार लोगों के ह्दय में स्वदेशी का विचार आ गया तो लाखों लोगों को रोजगार मिलेगा. युवा प्रतिभा को आगे बढ़ने के अनेक अवसर मिलेंगे. हमारे कुशल श्रमिकों के हाथ मजबूत होंगे. स्वदेशी उत्पाद की मांग बढ़ेगी तो देश की आर्थिक स्थिति मजबूत होगी. स्वदेशी, देशप्रेम की साकार और व्यावहारिक अभिव्यक्ति है.

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *