करंट टॉपिक्स

सामाजिक समरसता को गति देगा राष्ट्रोदय का आयोजन

हिन्दवः सोदरा सर्वे, न हिन्दू पतितो भवेत् – श्री गुरूजी (द्वितीय सरसंघचालक) यदि अस्पृश्यता पाप नहीं, तो कुछ भी पाप नहीं – बालासाहब देवरस (तृतीय...

कोई हिन्दुत्व से नाता तोड़ता है तो उसका नाता भारत से भी टूट जाता है – डॉ. मोहन भागवत जी

गुवाहाटी. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि अगर कोई हिन्दुत्व से अपना नाता तोड़ता है तो उसका नाता भारत...

06 जनवरी / पुण्यतिथि – जयुपर फुट के निर्माता डॉ. प्रमोदकरण सेठी जी

नई दिल्ली. किसी व्यक्ति का कोई अंग जन्म से न हो, या किसी दुर्घटना में वह अपंग हो जाए, तो उसकी पीड़ा समझना बहुत कठिन...

भारत का प्रयोजन दुनिया को सन्मार्ग पर लाना है – डॉ. मोहन भागवत जी

त्रिपुरा (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि भारत का प्रयोजन दुनिया को सन्मार्ग के रास्ते पर बढ़ाना है....

संस्कारित समाज की रचना से ही सामाजिक परिवर्तन संभव – सुरेश भय्याजी जोशी

25 फरवरी 2018 को होने वाले ‘राष्ट्रोदय’ कार्यक्रम के लिये भूमि पूजन मेरठ (विसंकें). मेरठ में ‘राष्ट्रोदय’ कार्यक्रम हेतू जागृति विहार एक्सटेंशन में तैयार किए...

अंग्रेजी पढ़ें व बोलें, पर जीवन पद्धति में पाश्चात्य संस्कृति का प्रवेश न होने दें – सुरेश भय्याजी जोशी

देहरादून महानगर का शाखा दर्शन कार्यक्रम देहरादून (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश भय्याजी जोशी ने परेड ग्राउण्ड देहरादून में आयोजित शाखा दर्शन कार्यक्रम...

भारत भूमि पर विकसित सभी दर्शनों में सबके कल्याण का विचार – जे नंदकुमार जी

भोपाल (विसंकें). प्रज्ञा प्रवाह के राष्ट्रीय संयोजक जे. नंदकुमार जी ने कहा कि भारतीय दृष्टि समूची सृष्टि को ईश्वर ही मानती है. मनुष्य मात्र में...

कर्त्तव्यनिष्ठा से उत्कृष्ट जीवन जीने की प्रेरणा देती है गीता – डॉ. मोहन भागवत जी

कहा, गीता का अनुसरण करते हुए समाज में लानी होगी एकता एवं आत्मीयता की भावना कुरुक्षेत्र (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत...

भारतीय शास्त्रीय संगीत विश्व को सत्य, करुणा और पवित्रता की ओर ले जाता है –  डॉ. मोहन भागवत जी

जयपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि भारत का शास्त्रीय संगीत विश्व को सत्य, करुणा और पवित्रता की...

विविधता भरे भारत में एक शाश्वत सत्य हमारी सांस्कृतिक एकता है – डॉ. मोहन भागवत जी

इंदौर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि समाज में एक प्रभावी संगठन खड़ा करने के लिए संघ नहीं...