करंट टॉपिक्स


Warning: sprintf(): Too few arguments in /home/sandvskbhar21/public_html/wp-content/themes/newsreaders/assets/lib/breadcrumbs/breadcrumbs.php on line 252

पुस्तक समीक्षा – भारत को भारतीय दृष्टि से देखने का प्रयास है ‘भारत-बोध’

लोकेन्द्र सिंह भारत में लेखकों, साहित्यकारों एवं इतिहासकारों का एक ऐसा वर्ग रहा है, जिसने समाज को ‘भारत बोध’ से दूर ले जाने का प्रयास किया. उन्होंने पश्चिम की...

वैरियर एल्विन की नकली प्रतिमा को खंडित करता उपन्यास ‘मैं तुम्हारी कोशी’

भोपाल. वैरियर एल्विन आधुनिक भारत में षड्यंत्रकारी मिशनरीज के ब्रांड एम्बेसडर थे, जिनका उद्देश्य भारतीय लोकजीवन में वनवासियों को हिन्दुत्व के साथ सहजीवन से पृथक करना...

पुस्तक समीक्षा : संघ को जानने – समझने का प्रमाणिक अभिलेख

जैसे-जैसे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का वैचारिक प्रभाव देश भर में बढ़ रहा है, वैसे-वैसे हिंदुत्व और राष्ट्र के प्रति समर्पित संगठन के बारे में जानने...

ढांचे के धराशायी होने से ही प्रशस्त हुआ राम मंदिर का मार्ग – डॉ. सुरेन्द्र जैन

सवा 5 लाख गांवों के 65 करोड़ लोगों से 44 दिन में संपर्क का बनेगा इतिहास कर्णावती. विश्व हिन्दू परिषद के केन्द्रीय संयुक्त महामंत्री डॉ....

‘आरएसएस 360’ : संघ की पूर्ण प्रतिमा

लोकेन्द्र सिंह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ यानि आरएसएस, 2025 में अपनी यात्रा के 100 वर्ष पूरे कर लेगा. यह किसी भी संगठन के लिए महत्वपूर्ण बात होती...

पुस्तक समीक्षा – लव जिहाद की सच्ची कहानियों का दस्तावेज ‘एक मुखौटा ऐसा भी’

डॉ. वंदना गांधी समाजशास्त्र की शिक्षिका हैं. समाज में चल रही गतिविधियों और उनके पीछे के एजेंडे को वह बहुत बारीक से समझती हैं. जब...

20 नवम्बर / जन्मदिवस – वैकल्पिक सरसंघचालक डॉ. लक्ष्मण वासुदेव परांजपे

नई दिल्ली. स्वाधीनता संग्राम के दौरान संघ के संस्थापक डॉ. हेडगेवार जी ने 1930-31 में जंगल सत्याग्रह में भाग लिया था. उन दिनों संघ अपनी...

पुस्तक समीक्षा – भारतवर्ष की सर्वांग स्वतंत्रता

विदेशी एवं विधर्मी आक्रमणकारियों के क्रूर अधिपत्य से भारत को मुक्त करवाने के उद्देश्य से गत 12 शताब्दियों तक निरंतर लड़े गये स्वतंत्रता संग्राम को...

पुस्तक परिचय – जन्मजात राष्ट्रभक्त स्वतंत्रता सेनानी संघ संस्थापक डॉ. केशवराव बलिराम हेडगेवार

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के संस्थापक डॉ. केशवराव बलिराम हेडगेवार जन्मजात राष्ट्रभक्त स्वतंत्रता सेनानी थे. चिर-सनातन हिन्दू-राष्ट्र का परम-वैभव उनके जीवन का लक्ष्य था. अतः अखण्ड...

अभावग्रस्त लोगों की सेवा करना प्रत्येक मनुष्य का कर्तव्य – पी. परमेश्वरन जी

कन्याकुमारी. विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी के अध्यक्ष पी. परमेश्वरन ने कहा कि अभावग्रस्त लोगों की सेवा करना प्रत्येक मनुष्य का कर्तव्य है. इसके लिए प्रत्येक व्यक्ति को...