You Are Here: Home » बैनर स्लाइडर

    भारतीय ज्ञान का खजाना – 7

    भारतीय संस्कृति के वैश्विक पदचिन्ह – 2 पिछले लेख में हमने भारत के पश्चिमी दिशा में भारतीय संस्कृति के पदचिन्ह खोजने का प्रयास किया था. ‘बेरेनाईक परियोजना’’ जैसे पुरातात्विक उत्खनन के माध्यम से, केल्टिक एवं यजीदी संस्कृति के प्रदर्शन एवं पश्चिम के अनेक संग्रहालयों में रखी हुई भारतीय वस्तुओं, अवशेषों इत्यादि के माध्यम से भारतीयों के पदचिन्ह बिलकुल स्पष्ट और मजबूती से दिखाई देते हैं. परन्तु भारत के पूर्वी भाग ...

    Read more

    ध्येय समर्पित व्यक्तित्व के रूप में सुषमा जी की स्मृति सदा रहेगी

    अत्यंत अकल्पनीय, अविश्वसनीय दुःखद समाचार है श्रीमती सुषमा स्वराज जी का असामयिक निधन। यह अत्यंत वेदनादायक है। लगभग 45 वर्षों का उनका सामाजिक, राजनैतिक जीवन विविध दृष्टि से आदर्शवत और अनुकरणीय रहा है। एक आदर्श कार्यकर्ता, कुशल नेत्री, सक्षम और प्रभावी मंत्री, ध्येय समर्पित व्यक्तित्व के रूप में उनकी प्रतिमा हम सबके स्मृति में सदा रहेगी। हृदय में मातृवत् स्नेह, देश और समाज की समस्याओं के प्रति संवेदनशील अंतःकर ...

    Read more

    राष्ट्रीय एकात्मता-अखंडता को पुष्ट करने वाली पहल का अभिनंदन करना चाहिए

    भारतीय संविधान के अस्थायी प्रावधान अनुच्छेद 370 को समाप्त करने और जम्मू कश्मीर राज्य के पुनर्गठन पर पू. सरसंघचालक और माननीय सरकार्यवाह का वक्तव्य – भारतीय संविधान के अस्थायी प्रावधान अनुच्छेद 370 को समाप्त कर भारत के संविधान को अन्य राज्यों के समान जम्मू कश्मीर राज्य में भी पूर्ण रूप से लागू करने तथा जम्मू कश्मीर राज्य के पुनर्गठन के भारत सरकार के साहसिक तथा ऐतिहासिक निर्णय एवं संसद के दोनों सदनों द्वारा इस ...

    Read more

    जम्मू कश्मीर के संबंध में नया “राष्ट्रपति आदेश” लागू

    आदेश ने बदल दी राज्य की संवैधानिक, भौगोलिक और राजनीतिक पहचान 05 अगस्त, 2019 का दिन देश के इतिहास में हमेशा के लिए दर्ज हो गया. जब जम्मू कश्मीर के संबंध में भारत के राष्ट्रपति ने एक नया आदेश जारी किया, जिसके बाद जम्मू कश्मीर की स्थिति हमेशा के लिए बदल गई. इसी के साथ अनुच्छेद 370 में संशोधन और राज्य के पुनर्गठन होने का रास्ता साफ हो गया. (जम्मू और कश्मीर में लागू) आदेश, 2019 इसके तहत राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ...

    Read more

    अज्ञात  स्वतंत्रता सेनानी : डॉक्टर हेडगेवार – 5

    नरेंद्र सहगल भारत में चल रहे सभी प्रकार के स्वतंत्रता-आंदोलनों, शस्त्रक्रांति के प्रयत्नों, समाज सुधार के लिए कार्यरत विभिन्न संस्थाओं तथा सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के जागरण में जुटी सभी धार्मिक संस्थाओं का निकट से अध्ययन करने के लिए डॉक्टर साहब इनके सभी कार्यकलापों में यथासम्भव भागीदारी करते थे. उनका यह निश्चित मत था कि देश के शत्रुओं को जिस किसी भी मार्ग से भारत भूमि से निकाला जा सके, वही उचित तथा योग्य है. इ ...

    Read more

    भारतीय ज्ञान का खजाना – 6

    भारतीय संस्कृति के वैश्विक पदचिन्ह – 1 गुजरात के सोमनाथ मंदिर के बाण-स्तंभ पर एक श्लोक उकेरा हुआ (लिखा हुआ) है – "आसमुद्रांत दक्षिण ध्रुव पर्यंत अबाधित ज्योतिर्मार्ग...!" [‘इस मंदिर से दक्षिण ध्रुव तक सीधे रास्ते में एक भी बाधा (जमीन) नहीं है. यहां से ज्योति (अर्थात प्रकाश) का मार्ग सीधा वहां तक पहुँच सकता है] अर्थात् डेढ़-दो हजार वर्ष पहले भी अपने भारतीयों को दक्षिण ध्रुव के बारे में सटीक जानकारी थी. इसका अ ...

    Read more

    ननूर नरसंहार – वामपंथियों द्वारा किया नरसंहार, जिसके बारे में कोई बात नहीं करता

    यदि आपसे पूछा जाए कि दुनिया में तानाशाह कितने हुए तो आपका जवाब सबसे पहले हिटलर होगा, फिर शायद मुसोलिनी, फिर शायद कुछ कहेंगे लेनिन या स्टालिन. लेकिन जैसे ही आप लेनिन, स्टालिन, फिदेल कास्त्रो, माओ ज़ेडोंग जैसे नाम लेंगे कुछ लोगों की भौहें तन जाएंगीं. वे आपसे इन नामों पर बहस भी करने लगेंगे. क्रांति के नाम पर अपनी ही जनता पर तानाशाही करने वाले लेनिन, स्टालिन, कास्त्रो, माओ को आज भी भारत के कुछ लोग अपना वैचारिक ...

    Read more

    सनातन परंपरा को बदनाम करने हेतु इंडस्ट्री चलाई जा रही – दीपक चौरसिया

    नई दिल्ली. मॉब लिंचिंग के नाम पर हिन्दू समाज व संस्कृति को बदनाम करने तथा अराजक तत्वों को भड़काने के तरह-तरह के षड्यंत्र रचे जा रहे हैं. इन षड्यंत्रों का पर्दाफ़ाश करने हेतु ‘हिन्दू विश्व’ नामक पाक्षिक पत्रिका के विशेषांक ‘मॉब लिंचिंग - एक षड्यंत्र’ का प्रकाशन किया गया. विशेषांक के लोकार्पण कार्यक्रम के मुख्य अतिथि न्यूज़ नेशन नेटवर्क के कंसल्टिंग एडिटर दीपक चौरसिया ने कहा कि 1400 वर्षों के इतिहास वाले लोगो ...

    Read more

    भारत के एकीकरण में संस्कृत भाषा की अग्रणी भूमिका है – दिनेश कामत

    संस्कृत में शपथ लेने पर लोकसभा सांसदों को सम्मानित किया नई दिल्ली. लोकसभा सदस्य के रूप में संस्कृत में शपथ लेने वाले सांसदों का 15 जुलाई 2019 को नई दिल्ली स्थित कांस्टीट्यूशन क्लब में संस्कृत भारती ने सम्मान किया. 17वीं लोकसभा में कुल 47 सांसदों ने संस्कृत में शपथ ली है. संस्कृत भारती के राष्ट्रीय महासचिव दिनेश कामत ने कहा ने कहा कि डॉ. भीमराव आम्बेडकर ने कहा था कि भारत की राजभाषा संस्कृत को बनाया जाना चाहि ...

    Read more

    गुरु पूर्णिमा और संघ

    अपने राष्ट्र और समाज जीवन में गुरुपूर्णिमा-आषाढ़ पूर्णिमा अत्यंत महत्वपूर्ण उत्सव है. व्यास महर्षि आदिगुरु हैं. उन्होंने मानव जीवन को गुणों पर निर्धारित करते हुए उन महान आदर्शों को व्यवस्थित रूप में समाज के सामने रखा. विचार तथा आचार का समन्वय करते हुए, भारतवर्ष के साथ उन्होंने सम्पूर्ण मानव जाति का मार्गदर्शन किया. इसलिए भगवान वेदव्यास जगत् गुरु हैं. इसीलिए कहा है - 'व्यासो नारायणम् स्वयं'- इस दृष्टि से गुर ...

    Read more

    हमारे न्यूज़लेटर के लिए साइन अप करें

    VSK Bharat नवीनतम समाचार के बारे में सूचित करने के लिए अभी सदस्यता लें

    Scroll to top