You Are Here: Home » व्यक्तित्व (Page 2)

    9, 10 नवम्बर / बलिदान दिवस – अमर हुतात्मा भाई मतिदास, सतिदास एवं दयाला

    नई दिल्ली. गुरु तेगबहादुर के पास जब कश्मीर से हिन्दू, औरंगजेब के अत्याचारों से मुक्ति दिलाने की प्रार्थना करने आये, तो वे उससे मिलने दिल्ली चल दिये. मार्ग में आगरा में ही उनके साथ भाई मतिदास, भाई सतिदास तथा भाई दयाला को बन्दी बना लिया गया. इनमें से पहले दो सगे भाई थे. औरंगजेब चाहता था कि गुरुजी मुसलमान बन जायें. उन्हें डराने के लिए इन तीनों को तड़पा-तड़पा कर मारा गया, पर गुरुजी विचलित नहीं हुए. औरंगजेब ने स ...

    Read more

    09 नवम्बर / जन्मदिवस – हिन्द केसरी मास्टर चंदगीराम जी

    नई दिल्ली. भारतीय कुश्ती को विश्व भर में सम्मान दिलाने वाले मास्टर चंदगीराम जी का जन्म 09 नवम्बर, 1937 को ग्राम सिसई, जिला हिसार, हरियाणा में हुआ था. मैट्रिक और फिर उसके बाद कला एवं शिल्प में डिप्लोमा लेने के बाद वे भारतीय थलसेना की जाट रेजिमेण्ट में एक सिपाही के रूप में भर्ती हो गये. कुछ समय वहां काम करने के बाद वे एक विद्यालय में कला अध्यापक बन गये. तब से ही उनके नाम के साथ मास्टर लिखा जाने लगा. कुश्ती के ...

    Read more

    08 नवम्बर / जन्मदिवस – विरक्त सन्त दिगम्बर स्वामी जी

    नई दिल्ली. अनादि काल से भारत भूमि पर हजारों सन्त महात्माओं ने जन्म लेकर अपने उपदेशों से जनता जनार्दन का कल्याण किया है. इन्हीं ऋषि-मुनियों की परम्परा में थे श्री दिगम्बर स्वामी, जिनके सत्संग का लाभ उठाकर हजारों भक्तों ने अपना जीवन सार्थक किया. स्वामी जी का जन्म ग्राम सिरवइया (जिला उन्नाव, उत्तर प्रदेश) में आठ नवम्बर, 1903 को नन्दकिशोर जी मिश्र तथा सुखदेई जी के घर में हुआ. इनका नाम गंगाप्रसाद रखा गया. जन्म स ...

    Read more

    07 नवम्बर / जन्मदिवस – संघ समर्पित माधवराव मूले जी

    नई दिल्ली. 7 नवम्बर, 1912 (कार्तिक कृष्ण 13, धनतेरस) को ग्राम ओझरखोल (जिला रत्नागिरी, महाराष्ट्र) में जन्मे माधवराव कोण्डोपन्त मूले जी प्राथमिक शिक्षा पूरी कर आगे पढ़ने के लिए वर्ष 1923 में बड़ी बहन के पास नागपुर आ गये थे. यहां उनका सम्पर्क संघ के संस्थापक डॉ. हेडगेवार जी से हुआ. मैट्रिक के बाद उन्होंने डिग्री कॉलेज में प्रवेश लिया, पर क्रान्तिकारियों से प्रभावित होकर पढ़ाई छोड़ दी. इसी बीच पिताजी का देहान् ...

    Read more

    04 नवंबर / जन्मदिवस – सह्याद्रि का शेर वासुदेव बलवंत फड़के

    नई दिल्ली. घटना वर्ष 1870 की है. एक युवक तेजी से अपने गांव की ओर भागा जा रहा था. उसके मुंह से मां-मां....शब्द निकल रहे थे, पर दुर्भाग्य कि उसे मां के दर्शन नहीं हो सके. उसका मन रो उठा. लानत है ऐसी नौकरी पर, जो उसे अपनी मां के अन्तिम दर्शन के लिए भी छुट्टी न मिल सकी. वह युवक था वासुदेव बलवन्त फड़के. लोगों के बहुत समझाने पर वह शान्त हुआ, पर मां के वार्षिक श्राद्ध के समय फिर यही तमाशा हुआ और उसे अवकाश नहीं मिल ...

    Read more

    30 अक्तूबर / जन्मदिवस – बहुमुखी कल्पनाओं के धनी मोरोपन्त पिंगले जी

    नई दिल्ली. संघ के वरिष्ठ प्रचारक मोरोपन्त पिंगले जी को देखकर सब खिल उठते थे. उनके कार्यक्रम हास्य-प्रसंगों से भरपूर होते थे. पर, इसके साथ ही वे एक गहन चिन्तक और कुशल योजनाकार भी थे. संघ नेतृत्व द्वारा सौंपे गए हर काम को उन्होंने नई कल्पनाओं के आधार पर सर्वश्रेष्ठ ऊंचाइयों तक पहुंचाया. उनका पूरा नाम मोरेश्वर नीलकंठ पिंगले था. उनका जन्म 30 अक्तूबर, 1919 को हुआ था. वे बचपन में मेधावी होने के साथ ही बहुत चंचल ए ...

    Read more

    28 अक्तूबर / जन्म दिवस – भारत की महान पुत्री भगिनी निवेदिता

    नई दिल्ली. स्वामी विवेकानन्द से प्रभावित होकर आयरलैण्ड की युवती मार्गरेट नोबेल ने अपना जीवन भारत माता की सेवा में लगा दिया. प्लेग, बाढ़, अकाल आदि में उन्होंने समर्पण भाव से जनता की सेवा की. ऐसे में भारत की महान बेटी कहा जाए तो गलत न होगा. 28 अक्तूबर, 1867 को जन्मी मार्गरेट के पिता सैम्युअल नोबेल आयरिश चर्च में पादरी थे. बचपन से ही मार्गरेट नोबेल की रुचि सेवा कार्यों में थी. वह निर्धनों की झुग्गियों में जाकर ...

    Read more

    1962 भारत-चीन युद्ध – परमवीर सूबेदार जोगिंदर सिंह और उनके साथी सैनिक गोलियां समाप्त होने पर बंदूक की संगीन लेकर दुश्मन पर टूट पड़े

    20 अक्तूबर 1962 चीन और भारत बूम ला मोर्चे पर आमने सामने आ गए. चीनी फौजें तवांग की ओर बढ़ रही थीं. चीनी फौज की पूरी  डिवीजन के सामने भारत की केवल 1 सिख कम्पनी थी. कम्पनी का नेतृत्व सूबेदार जोगिन्दर सिंह कर रहे थे. सूबेदार जोगिन्दर सिंह रिज नामक स्थान के पास नेफा (उत्तर-पूर्व सीमांत प्रदेश) में अपनी टुकड़ी के साथ तैनात थे. सुबह साढ़े पांच बजे चीन की फौजों ने बूम ला पर धावा बोल दिया. उनका इरादा तवांग तक पहुंचन ...

    Read more

    23 अक्तूबर / जन्मदिवस – अजातशत्रु पंडित प्रेमनाथ डोगरा जी

    नई दिल्ली. जम्मू-कश्मीर के भारत में पूर्ण विलय के पक्षधर पंडित प्रेमनाथ डोगरा जी का जन्म 23 अक्तूबर, 1894 को ग्राम समेलपुर (जम्मू) में पं. अनंत राय के घर में हुआ था. जम्मू-कश्मीर के महाराजा रणवीर सिंह के समय में पं. अनंत राय "रणवीर गवर्नमेंट प्रेस" के और फिर लाहौर में "कश्मीर प्रापर्टी" के अधीक्षक रहे. उनका महत्व इसी से समझा जा सकता है कि लाहौर में वे राजा ध्यान सिंह की हवेली में रहते थे. इसलिए प्रेमनाथ जी ...

    Read more

    21 अक्तूबर / पुण्यतिथि – दिल्ली में सत्याग्रह की शान बहिन सत्यवती

    नई दिल्ली. 1942 के ‘भारत छोड़ो आंदोलन’ के समय दिल्ली में जिस वीर महिला ने अपने साहस, संगठन क्षमता एवं अथक परिश्रम से चूल्हे-चौके तक सीमित रहने वाली घरेलू महिलाओं को सड़क पर लाकर ब्रिटिश शासन को हैरान कर दिया, उनका नाम था बहन सत्यवती. सत्यवती का जन्म अपने ननिहाल ग्राम तलवन (जिला जालंधर, पंजाब) में 26 जनवरी, 1906 को हुआ था. स्वाधीनता सेनानी एवं परावर्तन के अग्रदूत स्वामी श्रद्धानंद जी उनके नाना थे. उनकी माता ...

    Read more

    हमारे न्यूज़लेटर के लिए साइन अप करें

    VSK Bharat नवीनतम समाचार के बारे में सूचित करने के लिए अभी सदस्यता लें

    Scroll to top