करंट टॉपिक्स


Warning: sprintf(): Too few arguments in /home/sandvskbhar21/public_html/wp-content/themes/newsreaders/assets/lib/breadcrumbs/breadcrumbs.php on line 252

हमारी समृद्ध धरोहर – पंचमहाभूतों के मंदिरों का रहस्य – त्रिची / २

प्रशांत पोळ ‘भारतीय ज्ञान का खजाना’ पुस्तक में मैंने ‘पंचमहाभूतों के मंदिरों का रहस्य’ अध्याय लिखा था. दक्षिण भारत में पंचमहाभूतों का प्रतिनिधित्व करने वाले...

हमारी समृद्ध धरोहर – त्रिची का कल्लनई बांध/ १

प्रशांत पोळ त्रिची जाने का एक और आकर्षण था – कल्लनई बांध. मेरी ‘भारतीय ज्ञान का खजाना’ पुस्तक में मैंने कल्लनई बांध का उल्लेख किया...

घर-घर में संस्कारक्षम वातावरण बनाने की आवश्यकता 

नर - नारी तत्वतः कोई भेद नहीं डॉ. किशन कछवाहा नारी की महत्ता का उल्लेख ऋग्वेद (4.14.30) में मिलता है. ऊषा के समान प्रकाशवती, हे...

विस्तारवादी चीन के निवेश रूपी कर्ज जाल में फंसे विश्व के कई राष्ट्र

विस्तारवादी चीनी सरकार का निवेश रूपी कर्ज जाल कोई परोक्ष और कुछ एक राष्ट्रों तक सीमित नीति नहीं, बल्कि इसने दुनिया के 50 से भी...

प्रखर संपादक माणिकचंद्र वाजपेयी उपाख्य ‘मामाजी’

सादगी, सरलता और निश्छलता के पर्याय मामाजी ने अपने मौलिक चिंतन और धारदार लेखनी से पत्रकारिता में भारतीय मूल्यों एवं राष्ट्रीय विचार को प्रतिष्ठित किया....

विनाशपर्व – अंग्रेजों का ‘न्यायपूर्ण’ शासन..? / २

प्रशांत पोळ १८५७ के क्रांति युद्ध में अंग्रेजों की निर्दयता एक ब्रिटिश आर्मी ऑफिसर ने ‘द टाइम्स’ में लिखा, “We have the power of life...

विनाशपर्व – अंग्रेजों का ‘न्यायपूर्ण’ शासन..? /१

प्रशांत पोळ ज्ञात इतिहास में भारत पर आक्रांताओं के रूप में आने वालों में शक, हूण, कुषाण, मुसलमान, डच, पोर्तुगीज़, फ्रेंच, अंग्रेज़ आदि प्रमुख हैं....

स्वामी श्रद्धानंद जी – स्वराज्य, स्वधर्म व स्वाभिमान हेतु बलिदान महात्मा

विनोद बंसल राष्ट्रीय प्रवक्ता, विश्व हिन्दू परिषद एडवोकेट मुंशीराम से स्वामी श्रद्धानंद तक की जीवन यात्रा प्रत्येक व्यक्ति के लिए बेहद प्रेरणादायी है. स्वामी श्रद्धानंद उन बिरले...

अब तो आर्यों को बाहर का बताने वाली किताबों को जला दिया जाए

अब जब ऑस्ट्रेलिया के पीटर केवुड शोध टीम की अगुआई करने वाले वैज्ञानिक, जिन्‍होंने तीन देशों के आठ रिसर्चर्स के साथ मिलकर सात साल तक...

राष्ट्रीय गणित दिवस पर विशेष – संख्याओं के मित्र श्रीनिवास रामानुजन

अतुल कोठारी सचिव, शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास शून्य और अनंत (इन्फिनिटी) जैसी गणितीय खोजें न हुई होतीं तो विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के जिन शिखरों पर...