You Are Here: Home » समाचार » कोंकण

    वनवासी कल्याण आश्रम का प्रांत कार्यकर्ता सम्मेलन संपन्न

    अमरावती. विदर्भ वनवासी कल्याण आश्रम विदर्भ का प्रांत कार्यकर्ता सम्मेलन अमरावती में संपन्न हुआ. सम्मेलन में विदर्भ के 300 से अधिक कार्यकर्ताओं ने भाग लिया था. सम्मेलन के उद्घाटन सत्र के अध्यक्ष विदर्भ वनवासी कल्याण आश्रम के प्रांत अध्यक्ष डॉ. विनायक इरपाते थे. क्षेत्र जागरण श्रेणी के शरद चव्हान, विदर्भ प्रांत उपाध्यक्ष नरेश करेसिया, विदर्भ प्रांत संघचालक चंद्रशेखर, लक्ष्मण मरसकोल्हे आदि मान्यवर उपस्थित थे. ...

    Read more

    विश्व को समन्वय के मार्ग से आगे ले जाने का कार्य ईश्वर ने भारत को सौंपा है – भय्याजी जोशी

    ‘विश्वगुरु भारत – राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का दृष्टीकोण’ पणजी (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह भय्याजी जोशी ने कहा कि ‘भारत और हिन्दू अलग-अलग नहीं है. संस्कार, समर्पण, संगठन, सकारात्मकता आदि गुण आत्मसात करके देशहित के लिए सक्रिय रहने वाले नागरिकों की आज देश को आवश्यकता है. इसी विचार के साथ डॉ. केशव बळीराम हेडगेवार ने सन् 1925 में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की स्थापना की. सामाजिक स्तर पर देशव्याप ...

    Read more

    विश्वगुरु भारत – राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का दृष्टिकोण

    प्रश्न - भारत विश्वगुरू बनने जा रहा है, इसमें कोई संदेह नहीं है. लेकिन, चिंता की बात यह है कि अब हिन्दू ही हिन्दू समुदाय (बीजेपी का) का शत्रु बन रहा है. क्या इस स्थिति से बाहर आ सकते हैं…? आपने प्रश्न में पूछा है – Hindu become enemy of hindu community (means BJP). Hindu Community का मतलब बीजेपी नहीं है. यह बात ध्यान में रखने की है. भाजपा का विरोध मतलब हिन्दुओं का विरोध है, ऐसा नहीं मानना चाहिए. ये लोग राजन ...

    Read more

    सनातन धर्म केवल हिन्दुओं के लिए नहीं, मनुष्य मात्र के लिए है – डॉ. मोहन भागवत

    मुंबई (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि 'राष्ट्र और संस्कृति के प्रति हर नागरिक में प्रेम भाव होता है. हमारे पास विश्व कल्याण की धरोहर है, जिसने हमें अभी तक बनाए रखा है. सुख को लोग बाहर खोजते हैं, पर वह हमारे अंदर है. एक समय के बाद बाहरी सुख फीका पड़ जाता है, जबकि हमारे अंदर उपस्थित सुख कभी फीका नहीं होता. हर धर्म का मूल ही है, सत्य को अपने अंदर खोजना, यही सनातन धर् ...

    Read more

    वं. प्रमिला ताई जी को SNDT ने दी डी.लिट की मानद उपाधि

    महर्षि कर्वे द्वारा स्थापित और उनके ही सिद्धांतों पर चल रहे सर्वप्रथम महिला विश्वविद्यापीठ SNDT University का 69वां दीक्षांत समारोह मुंबई में संपन्न हुआ. कार्यक्रम में महाराष्ट्र के राज्यपाल एवं विद्यापीठ के कुलपति भगत सिंह कोश्यारी जी के वरदहस्त से एवं विद्यापीठ के कुलगुरु शशिकला जी वनझारी की उपस्थिति में प्रमिला ताई जी को डी.लिट की मानद उपाधि दी गई. प्रमिला ताई जी के राष्ट्र एवं समाज कार्य को ध्यान मे रखक ...

    Read more

    महाराष्ट्र – मराठी साहित्य सम्मेलन में पुलिस पर पत्रकार को बेवजह प्रताड़ित करने का आरोप

    धाराशिव, उस्मानाबाद (विसंकें). उस्मानाबाद के धाराशिव में अखिल भारतीय मराठी साहित्य सम्मेलन (10, 11, 12 जनवरी) का आयोजन हो रहा है. साहित्य सम्मेलन में पुस्तक प्रदर्शनी के अलग-अलग स्टॉल भी लगाए गए हैं. यहीं दैनिक तरुण भारत मुंबई का स्टॉल भी लगा हुआ है. यहां पत्रकार सोमेश कोलगे बैठ रहे हैं. प्रदर्शनी के दौरान कथित पुलिस उप-निरीक्षक ने मुंबई दैनिक तरुण भारत के स्टॉल पर जाकर पत्रकार सोमेश कोलगे से पूछताछ शुरू कर ...

    Read more

    CAA के समर्थन में मुंबई, पुणे, औरंगाबाद और गोवा में सभाएं

    मुंबई. नागरिकता संशोधन कानून को समर्थन देने के लिये मुंबई में जनसमर्थन सभा का आयोजन किया गया. कार्यक्रम में युवा वर्ग के साथ साथ समाज के भिन्न वर्ग के घटक भी बड़ी मात्रा में उपस्थित थे. मुंबई में छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनल के सामने आयोजित कार्यक्रम में नेताजी सुभाषचंद्र बोस के पौत्र अर्धेंदू बोस के साथ अन्य उपस्थित थे. नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन में पुणे, औरंगाबाद और गोवा के पणजी व मडगांव शहर में भी ...

    Read more

    ईश्वरीय शक्ति का संकल्प सदैव पूरा होता है – भय्याजी जोशी

    वाशी, मुंबई (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश उपाख्य भय्याजी जोशी ने कहा कि विश्व में केवल ईश्वरीय शक्ति का संकल्प पूरा होता है, आसुरी शक्ति का संकल्प कदापि पूरा नहीं होता. कई बार यह आसुरी शक्ति हमें प्रभावी होती दिखाई देती है, परंतु वह विजयी नहीं होती. वाशी में सुरेश हावरे जी द्वारा लिखित ‘शिदोरी’ पुस्तक का भय्याजी जोशी तथा इतिहास संशोधक, लेखक बाबासाहब पुरंदरे ने लोकार्पण किया. मराठी क ...

    Read more

    भारतीय संस्कृति, समाज व अर्थव्यवस्था की पहचान मुझे दत्तोपंत जी के माध्यम से हुई – एस. गुरुमूर्ति

    मुंबई (विसंकें). रिजर्व बैंक के निदेशक एवं अर्थशास्त्री एस, गुरुमूर्ति जी ने कहा कि ‘भारतीय मजदूर संघ के संस्थापक दत्तोपंत ठेंगड़ी जी समय से आगे की सोच रखने वाले दृष्टा थे.’ ‘वामपंथी आर्थिक सोच से पुरस्कृत हुआ पूंजीवाद अधिक समय तक नहीं रह सकता. यह, दत्तोपंत जी ने 1992 से पूर्व ही कहा था. दोनों के पास संपत्ति का केंद्रीकरण होना, यह इसका मुख्य कारण है. 1990 से पूर्व ही उन्होंने कहा था कि विश्व के प्रत्येक देश ...

    Read more

    ‘दिव्यांग’ राहुल देशमुख कर रहे ‘दिव्य कार्य’ – भय्याजी जोशी

    मुंबई (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह भय्याजी जोशी ने कहा कि ‘काम करते समय बीच में ही रुकने वाले बहुत दिखाई देते हैं, परंतु हार के पश्चात भी अपना कार्य निरंतर आगे ले जाने वाले राहुल देशमुख दृष्टीहीन होने के पश्चात भी समाज के लिए दिव्य कार्य कर रहे हैं. सरकार्यवाह ने राहुल देशमुख के कार्य की प्रशंसा की. वे दृष्टीहीन हैं, लेकिन उनका कार्य दिव्य है. केशवसृष्टी संस्था द्वारा समाज में उल्लेखनीय ...

    Read more

    हमारे न्यूज़लेटर के लिए साइन अप करें

    VSK Bharat नवीनतम समाचार के बारे में सूचित करने के लिए अभी सदस्यता लें

    Scroll to top