You Are Here: Home » समाचार » दिल्ली (Page 6)

    आपातकाल 1975 – सत्ता के नशे में लोकतंत्र की हत्या : चार

        -  नरेन्द्र सहगल      भाग एक यहाँ पढ़ें – आपातकाल 1975 – सत्ता के नशे में लोकतंत्र की हत्या : एक भाग दो – आपातकाल 1975 – सत्ता के नशे में लोकतंत्र की हत्या : दो भाग तीन – आपातकाल 1975 – सत्ता के नशे में लोकतंत्र की हत्या : तीन संविधान, संसद, न्यायालय, प्रेस, लोकमत और राजनीतिक शिष्टाचार इत्यादि की धज्जियां उड़ा कर देश में आपातकाल की घोषणा का सीधा अर्थ था निरंकुश सत्ता की स्थापना अर्थात् वकील, दलील और अपील ...

    Read more

    चीनी अतिक्रमण और भारतीय राजनीति – एक

    - रवि प्रकाश    चीन का चरित्र एक बार फिर सुर्ख़ियों में है. इसके साथ ही सुर्ख़ियों में है भारत की राजनीति का चरित्र. एक ओर जहाँ चीन के चरित्र में षड्यंत्र, प्रपंच, भौगोलिक साम्राज्यवाद और धोखा परिलिक्षित होता है, वहीं भारत की राजनीति के चरित्र में सरकार पर आक्रमण करने के लिए विदेशी आक्रान्ता तक के गुणगान करने की राष्ट्रघाती प्रवृत्ति परिलक्षित होती है. लद्दाख की गलवान घाटी स्थित भारत-चीन सीमा पर जो कुछ अभी हु ...

    Read more

    चीनी अतिक्रमण और भारतीय राजनीति – एक

        -  रवि प्रकाश    चीन का चरित्र एक बार फिर सुर्ख़ियों में है. इसके साथ ही सुर्ख़ियों में है भारत की राजनीति का चरित्र. एक ओर जहाँ चीन के चरित्र में षड्यंत्र, प्रपंच, भौगोलिक साम्राज्यवाद और धोखा परिलिक्षित होता है, वहीं भारत की राजनीति के चरित्र में सरकार पर आक्रमण करने के लिए विदेशी आक्रान्ता तक के गुणगान करने की राष्ट्रघाती प्रवृत्ति परिलक्षित होती है. लद्दाख की गलवान घाटी स्थित भारत-चीन सीमा पर जो कुछ अ ...

    Read more

    आपातकाल 1975 – सत्ता के नशे में लोकतंत्र की हत्या : दो

      नरेन्द्र सहगल     भाग एक यहाँ पढ़ें - आपातकाल 1975 – सत्ता के नशे में लोकतंत्र की हत्या : एक इलाहबाद हाईकोर्ट द्वारा सजा मिलने के तुरंत बाद प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी ने अपने राजनीतिक अस्तित्व और सत्ता को बचाने के उद्देश्य से जब 25 जून 1975 को रात के 12 बजे आपातकाल की घोषणा की तो देखते देखते पूरा देश पुलिस स्टेट में परिवर्तित हो गया. सरकारी आदेशों के प्रति वफ़ादारी दिखाने की होड़ में पुलिस वालों ने बेकसू ...

    Read more

    आपातकाल 1975 – सत्ता के नशे में लोकतंत्र की हत्या : एक

       - नरेन्द्र सहगल भारतीय लोकतंत्र के इतिहास में 25 जून 1975 में उस समय एक काला अध्याय जुड़ गया, जब देश की तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने सभी संवैधानिक व्यवस्थाओं, राजनीतिक शिष्टाचार तथा सामाजिक मर्यादाओं को ताक पर रखकर मात्र अपना राजनीतिक अस्तित्व और सत्ता बचाने के लिए देश में आपातकाल थोप दिया. उस समय इंदिरा गांधी की अधिनायकवादी नीतियों, भ्रष्टाचार की पराकाष्ठा और सामाजिक अव्यवस्था के विरुद्ध सर्वोदय ...

    Read more

    भारत की सीमा को अक्षुण्ण किये बिना नहीं रुकेगा यह अभियान

    डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बलिदान दिवस पर विशेष  -  आशुतोष भटनागर 23 जून को डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी का बलिदान दिवस है. किसी ने सोचा भी नहीं था कि स्वतंत्र भारत में भी देश की एकता और अखण्डता के लिये बलिदान देना होगा. लेकिन ऐसा हुआ. डॉ. मुखर्जी ने जम्मू कश्मीर की एकात्मता के लिये सर्वोच्च बलिदान दिया. कोई भी बलिदान तभी सार्थक होता है, जब वह उस उद्देश्य को पूरा करने में समर्थ होता है. जिसके लिये वह बलिदान द ...

    Read more

    टिकटॉक पर वीडियो बनाने वाले जिहादी शाहरुख ने चाकू मारकर युवती की हत्या की

    नई दिल्ली. उत्तर प्रदेश के गाज़ियाबाद में साहिबाबाद थाना क्षेत्र में शाहरूख नाम के एक युवक ने सिक्ख लड़की नैना कौर को प्रेम जाल में फंसाने की कोशिश की. जब पने प्रयास में असफल हो गया तो उसने सरेआम अपने जिहादी दोस्तों के साथ मिलकर लड़की की चाकू मार कर हत्या कर दी. हमले का विरोध कर रही मृतका की मां को भी धक्का देकर गिरा दिया. पुलिस ने हत्याकांड में दो सह अभियुक्तों को गिरफ्तार कर लिया है. जिहादी शाहरुख टिकटॉक पर ...

    Read more

    लद्दाख प्रान्त की गलवान घाटी में क्या हो रहा है?

    डॉ. कुलदीप चन्द अग्निहोत्री पिछले कुछ दिनों से लद्दाख की गलवान घाटी में भारत और चीन की सेना आमने सामने है. 15 जून को दोनों सेनाओं की आपस में भिड़न्त भी हो गई थी, जिसमें भारत के बीस सैनिक वीरगति को प्राप्त हो गए, इनमें वहां के कमांडिंग ऑफिसर संतोष बाबू भी थे. ऐसा कहा जा रहा है कि चीनी सेना की इससे कहीं ज़्यादा क्षति हुई है. इस घटना को 1962 में हुए भारत चीन युद्ध की निरंतरता में ही समझना चाहिए. इस विवाद की पृ ...

    Read more

    भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा के अवरोधों को दूर किया जाए – विहिप

    नई दिल्ली. विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) केन्द्रीय महामंत्री मिलिंद परांडे ने कहा कि गत सैकड़ों वर्षों से अनवरत रूप से पुरी में निकाली जाने वाली भगवान श्रीजगन्नाथ की परम्परागत रथ यात्रा इस वर्ष भी निकाली जानी चाहिए. कोविड महामारी के संकट काल में भी सभी नियमों तथा जन स्वास्थ्य सम्बन्धी उपायों के साथ यात्रा निकाली जा सकती है. यात्रा की अखण्डता सुनिश्चित करने हेतु कोई मार्ग अवश्य ढूंढना चाहिए. आज की परिस्थितियों म ...

    Read more

    वीर जवानों की सहायतार्थ सवा रुपये का योगदान दे प्रत्येक नागरिक

    नई दिल्ली. यदि प्रत्येक भारतीय मात्र सवा रुपया अपने वीर बलिदानी सैनिक के खाते में ट्रांसफ़र करने की स्वीकृति अपने बैंक को दे और बैंक सम्पूर्ण देश से ऑटोमेटिक तरीके से एकत्र राशि को सीधे भारत माता के उस वीर सपूत के खाते में कुछ ही घंटों में जमा कर दे तो आपको कैसा लगेगा..! जी हाँ! यह सिर्फ एक विचार नहीं, बल्कि सच्ची श्रद्धांजलि है. उस लाल को जिसने हम सब की सुरक्षार्थ सर्वोच्च बलिदान दिया. विश्व हिन्दू परिषद् क ...

    Read more

    हमारे न्यूज़लेटर के लिए साइन अप करें

    VSK Bharat नवीनतम समाचार के बारे में सूचित करने के लिए अभी सदस्यता लें

    Scroll to top