करंट टॉपिक्स

समाज को देना भारतीय कृति है, और स्वयं के लिए सुरक्षित रखना पशुवृत्ति – डॉ. कृष्णगोपाल जी

आगरा (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह डॉ. कृष्णगोपाल जी ने कहा कि भारतीय दर्शन की मौलिकता है कि यह सभी को एक मानने...

समाज ही करेगा उज्ज्वल राष्ट्र का निर्माण – सुरेश चंद्र जी

आगरा (विसंकें). प्रताप शाखा, जयपुर हाउस का वार्षिकोत्सव कार्यक्रम रविवार को बी ब्लॉक प्रताप नगर पार्क में मनाया गया. कार्यक्रम के प्रारंभ में स्वयंसेवकों ने...

समाज का संगठन करना ही संघ का मुख्य कार्य – सुनील जी कुलकर्णी

आगरा. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय शारीरिक शिक्षण प्रमुख सुनील कुलकर्णी जी ने कहा कि संघ केवल राष्ट्र निर्माण और राष्ट्रीय विचारों का निर्माण...

द्वितीय सरसंघचालक श्री गुरू जी के जन्मदिवस पर रक्तदान शिविर एवं सम्मान समारोह का आयोजन

आगरा (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के द्वितीय सरसंघचालक श्री माधवराव सदाशिवराव गोलवलकर, श्री गुरूजी के जन्मदिवस पर रविवार को माधव भवन, जयपुर हाउस में रक्तदान...

राजनीति सत्ता अधिकार नहीं, अपितु सेवा का अधिकार हासिल करने के लिये है – दत्तात्रेय होसबले जी

दीनदयालधाम, फरह (ब्रज). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबले जी ने कहा कि एकात्म मानवतावाद शब्द आपको भले ही कठिन लगे, लेकिन समझने...

वैदिक मंत्रोच्चार के साथ पं. दीनदयाल जन्मशती महोत्सव-2016 का शुभारंभ

दीनदयाल धाम, मथुरा (विसंकें). एकात्ममानव दर्शन के प्रणेता पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी की वर्षगांठ पर रविवार 25 सितम्बर को जन्मशती महोत्सव-2016 का दीनदयाल धाम, फरह,...

महापुरुषों के स्मरण से राष्ट्रचेतना का जगरण होता है – गंगाराम जी

सेवा भारती के सहयोग से 185 छात्र-छात्राओं का सम्मान आगरा (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के क्षेत्र सेवा प्रमुख गंगाराम जी ने कहा कि महापुरूषों के...

सभी संगठन राष्ट्र की सर्वांगीण उन्नति के लिये समर्पित – डॉ. मोहन भागवत जी

आगरा (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ तथा 33 सम - विचारी संगठनों के स्वयंसेवक कार्यकर्ताओं की एक दिवसीय समन्वय बैठक सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी की...

समाज में परिवर्तन सम्यक आचरण, बंधुत्व की भावना के आत्मीयतापूर्वक प्रबोधन से होगा – डॉ. मोहन भागवत जी

आगरा (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि वर्तमान में समाज परिवर्तन की आवश्यकता है और यह परिवर्तन समाज...

शिक्षा शोषण मुक्त व समरस समाज की सृष्टि करने वाली हो – डॉ. मोहन भागवत जी

आगरा (विसंकें). शनिवार 20 अगस्त को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ब्रजप्रांत द्वारा आयोजित महाविद्यालीय व विश्वविद्यालीय शिक्षक सम्मेलन में सहभागिता...