करंट टॉपिक्स

लव जेहाद, अवैध धर्मांतरण, जेहादी-मिशनरी हिंसा और हेट स्पीच पर पूर्ण विराम लगाने की मांग

Spread the love

विश्व हिन्दू परिषद ने 2024 के लिए की कार्य योजना की घोषणा

चैन्नई. विश्व हिन्दू परिषद ने सोमवार को मंदिरों पर सरकारी नियंत्रण, मंदिरों को तोड़े जाने, अवैध धर्मांतरण, हिन्दू मान्यताओं और देवी-देवताओं के प्रति हेट स्पीच के बढ़ते मामलों पर चिंता व्यक्त करते हुए इन पर तत्काल रोक लगाने की मांग की. तमिलनाडु के कांचीपुरम में दो दिवसीय केंद्रीय प्रबंध समिति की बैठक के बाद चेन्नई में मीडिया को संबोधित करते हुए विहिप के संयुक्त महामंत्री डॉ. सुरेंद्र जैन ने कहा कि सभी राज्य सरकारों को अवैध कन्वर्जन और लव जेहाद पर प्रभावी रोक लगाने के लिए कानून बनाना चाहिए. 2024 में स्थापना के 60 वर्ष पूरे होने पर कार्य योजना की घोषणा करते हुए उन्होंने कहा कि परिषद एक करोड़ से अधिक सदस्य जोड़ेगी और 15 लाख कार्यकर्ताओं के साथ इसकी ईकाइयों की संख्या एक लाख तक पहुंचाई जाएगी.

डॉ. सुरेंद्र जैन ने कहा कि समूचे हिन्दू समुदाय को तमिलनाडु पर गर्व है, जहां हजारों वर्षों से हिन्दू धर्म ध्वजा फहरा रही है. तमिलनाडु पूज्य श्री तिरुवल्लुवर, पूज्य श्री रामानुजाचार्य, पूज्य श्री वल्लालार जैसे गुरुओं और संतों की पावन स्थली रही है. भारत के इतिहास में तमिलनाडु हिन्दू जागरण के क्षेत्र में सदैव अग्रणी रहा है. केंद्रीय प्रबंध समिति की बैठक पुरातन पावन नगरी कांचीपुरम में रविवार को संपन्न हुई. विहिप को विश्वास है कि यह बैठक हिन्दू समाज को सक्षम और समरसतापूर्ण बनाने में मील का पत्थर सिद्ध होगी.

अवैध कन्वर्जन और लव जेहाद विरोधी कानून

विश्व हिन्दू परिषद का विचार है कि धार्मिक कन्वर्जन मानवता के प्रति सबसे बड़ा अपराध और हिंसा है. बहुत से मुल्ला, मौलवी और ईसाई मिशनरी अपना धार्मिक कर्तव्य मान कर तमाम असंवैधानिक और अनैतिक तौर-तरीके अपना कर यह आपराधिक कृत्य करने में लगे हैं. स्वतंत्रता के बाद से समाज के विभिन्न घटकों की ओर से इस आपराधिक कृत्य पर रोक की मांग उठती रही है. विहिप उन राज्यों का स्वागत करती है, जिन्होंने अवैध कन्वर्जन पर रोक लगाने के लिए कानून बनाए हैं.

राज्य सरकार की असंवेदनशीलता के कारण तमिलनाडु में ईसाई मिशनरी द्वारा चलाए जा रहे स्कूलों में हिन्दुओं को अवैध रूप से ईसाई बनाने का काम किया जा रहा है और इसके प्रयास किए जा रहे हैं. ऐसे ही एक प्रकरण में तंजावुर जिले में एक मासूम हिन्दू बेटी लावण्या की जान चली गई. ऐसे बहुत से मामले हैं, जिनमें इस्लामिक कट्टरपंथी लव जेहाद के नाम पर हिन्दू बेटियों को निशाना बना रहे हैं. बाद में हिन्दू बेटियों को यौनाचार के लिए विवश किया जाता है. रामनाथपुरम और मेलूर- मदुरै में ऐसी कई बेटियों को आत्महत्या तक करनी पड़ी है. ऐसी गतिविधियों में लिप्त अपराधियों को कड़ी सजा देकर तमिलनाडु सरकार को इन कुकृत्यों पर तत्काल रोक लगानी चाहिए, ताकि हिन्दू समाज पर हो रहे इस तरह के अत्याचारों पर अंकुश लग सके.

विश्व हिन्दू परिषद की केंद्रीय प्रबंध समिति की मांग है कि अवैध कन्वर्जन और लव जेहाद पर रोक लगाने के लिए तमिलनाडु सरकार भी एक कड़ा कन्वर्जन विरोधी कानून बनाए.

इस्लामिक कट्टरवाद की हिंसा और आतंकवाद

पूरा देश इस्लामिक कट्टरवाद के कारण हो रही हिंसा से त्रस्त है. सीएए, कोरोना, हिजाब और नूपुर विवाद के नाम पर वे देश को उन्मादी हिंसा की आग में झुलसाने के प्रयास कर रहे हैं. इस्लामिक कट्टरपंथी आतंकवाद को भी बढ़ावा दे रहे हैं. दुर्भाग्य से तमिलनाडु जेहादी आतंकवादियों की भर्ती का केंद्र बन गया है. हाल के महीनों में एनआईए ने बहुत से इस्लामी आतंकवादियों को गिरफ्तार किया है. जांच में पता चला है कि इन आतंकवादियों की वित्तीय और दूसरी सभी तरह की सहायता के तार तमिलनाडु में मौजूद स्लीपर सेल से जुड़े हैं. लगता है कि ऐसे तत्वों के मामले में राज्य सरकार की एजेंसियां ढिलाई बरत रही हैं. राज्य पुलिस की अकर्मण्यता तमिलनाडु में इस्लामिक कट्टरपंथी समूहों को बढ़ावा दे रही है, जो मासूमों के प्रति हिंसा में लिप्त हैं.

तमिलनाडु में 1985 से लेकर, ऐसे इस्लामिक कट्टरपंथियों द्वारा अब तक हिन्दुओं के सौ से अधिक सामाजिक और राजनैतिक नेताओं की हत्या की जा चुकी है. विश्व हिन्दू परिषद का आग्रह है कि ऐसे तत्वों के साथ कड़ाई से निपटा जाए, ताकि इस्लामिक धार्मिक कट्टरवाद के नाम पर होने वाले खून-खराबे पर रोक लगाई जा सके.

हिन्दू मंदिर सरकारी नियंत्रण से मुक्त हों और मंदिरों का ध्वंस बंद हो

हमारे मठ-मंदिर और तीर्थस्थल न केवल पूजा-अर्चना के स्थान हैं, बल्कि हिन्दू सांस्कृतिक और आध्यात्मिक परंपराओं के पोषक हैं. ये स्थान अभावग्रस्त, निर्धन, दरिद्र लोगों की सेवा भी करते हैं. हिन्दू समाज अपने सभी धार्मिक स्थलों का प्रबंधन सफलतापूर्वक करता रहा है. दुर्भाग्य से हमारे धार्मिक स्थलों की धन-संपदा और देव-निधि को लूटने के लिए अंग्रेजों ने उनका प्रबंधन अपने हाथ में ले लिया था. स्वतंत्रता के बाद भी राज्य सरकारों ने यही औपनिवेशिक मानसिकता अपनाई. हिन्दू समाज का सदैव से मत है कि हिन्दू मंदिर सरकारी नियंत्रण से मुक्त होने चाहिए. हम उन राज्य सरकारों की प्रशंसा करते हैं, जिन्होंने हिन्दू धार्मिक स्थानों का प्रबंधन हिन्दू समाज के हाथों में सौंपने का निर्णय कर लिया है. विहिप की मांग है कि तमिलनाडु सहित शेष राज्य सरकारें हिन्दू मंदिरों को मुक्त करें. हम हिन्दू समाज से अपील करते हैं कि वह अपनी शक्ति को पहचानें और जाति और लिंगभेद भूलकर पुजारियों और श्रद्धालुओं की समितियां बना कर अपने मंदिरों की व्यवस्था प्रभावशाली और पारदर्शी ढंग से चलाने के लिए तैयार रहें.

अतिक्रमण और अवैध निर्माण के नाम पर तमिलनाडु सरकार भेदभावपूर्ण तरीके से हिन्दू मंदिरों को ढहा रही है. पिछले 13 महीनों में 20 से अधिक मंदिर ध्वस्त किए जा चुके हैं. ऐसी कार्रवाई किसी मस्जिद या चर्च में नहीं की गई. विहिप की मांग है कि यदि मंदिर को तोड़ना कानून के अंतर्गत आवश्यक हो, तो उसे समय रहते स्थानीय मंदिर समिति और हिन्दू संगठनों के साथ विचार-विमर्श कर दूसरे स्थान पर स्थापित किया जाना चाहिए. बिल्कुल उसी तरह जैसे अतिक्रमण वाले क्षेत्रों के निवासियों को दूसरे स्थान पर विस्थापित किया जाता है. ताकि हिन्दू देवी-देवताओं (सुप्रीम कोर्ट के अनुसार जागृत अस्तित्व) का सम्मान बना रहे और हिन्दू समाज भी दुखी और आक्रोशित न हो.

हिन्दू मान्यताओं, देवी-देवताओं के प्रति हेट स्पीच पर कड़ी कार्रवाई हो

विश्व हिन्दू परिषद सदैव अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के पक्ष में है. किंतु हमारा संविधान अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के नाम पर किसी को दूसरों की आस्था के अपमान की अनुमति नहीं देता. दुर्भाग्य से हिन्दू मान्यताओं और देवी-देवताओं के प्रति हेट स्पीच देने वाले अपराधियों के विरुद्ध कड़ी कानूनी कार्रवाई नहीं होती, जिससे हिन्दू समाज आक्रोशित है. देशभर में गैर-हिन्दू आस्थाओं और नेताओं को अपमानित करने वाले बयान देने वालों पर कानूनी कार्रवाई की जा रही है, किंतु हिन्दू देवी-देवताओं और आस्था का अपमान करने वाले अपराधियों पर कोई कार्रवाई नहीं हो रही है. हाल ही में पवित्र शिवलिंग या पवित्र चिदंबरम नटराज के लिए तमाम तरह के आपत्तिजनक वक्तव्य दिए गए, किंतु कई हिन्दू संगठनों की शिकायतों के बाद भी तमिलनाडु में किसी कानूनी एजेंसी ने कार्रवाई नहीं की.

सभी राज्य सरकारों से विहिप की अपील है कि हिन्दू समाज की संवेदनाओं के प्रति अमर्यादित व्यवहार नहीं किया जाए. यदि राज्य सरकारें मूक दर्शक बनी रहेंगी, तो विहिप उन्हें चेतावनी देती है कि हिन्दू समाज अपने गौरव की रक्षा के लिए स्वयं उठ खड़ा होगा.

विहिप की उत्तर तमिलनाडु इकाई के अध्यक्ष सु. श्रीनिवासन, राष्ट्रीय संयुक्त सचिव एवं प्रचार प्रमुख विजय शंकर तिवारी और उत्तर तमिलनाडु के प्रचार प्रमुख कार्तिकेयन रामलिंगम भी प्रेस कॉन्फ्रेंस में उपस्थित थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.