करंट टॉपिक्स

सेवानिवृत्त सैन्य डॉक्टरों और नर्सिंग स्टाफ को लगाने पर चर्चा, डीआरडीओ कई शहरों में बना रहा अस्पताल

Spread the love

नई दिल्ली. कोरोना की दूसरी लहर के बीच राज्यों में सेना ने भी सहयोग का हाथ बढ़ाया है. सेना राज्यों में सरकार का सहयोग करेगी. इस संबंध में मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री के साथ बैठक के पश्चात सेना के अधिकारियों ने योजना पर कार्य शुरू कर दिया है. अन्य राज्यों में भी सरकार के साथ चर्चा कर आवश्यक सहयोग किया जाएगा.

दूसरी ओर दिल्ली-एनसीआर में ऑक्सीजन और दवाओं की शीघ्र आपूर्ति के लिए केंद्र सरकार ने वायुसेना की सहायता ली है. वायुसेना डॉक्टर, नर्स और अन्य स्वास्थ्य कर्मियों को लाने का काम भी कर रही है. कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में लगातार बढ़ते मामलों को देखते हुए रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) दिल्ली में कोरोना मरीजों के लिए अस्पताल स्थापित कर रहा है.

इसके लिए कोच्चि, मुंबई और बेंगलुरु जैसे शहरों से डाक्टरों और स्वास्थ्य कर्मचारियों को लाया जा रहा है. अस्पताल के लिए वायुसेना बेंगलुरु से डीआरडीओ के आक्सीजन कंटेनर भी लेकर आई है.

उधर, डीआरडीओ की ओर से बताया गया कि दिल्ली में 250 बेड के अस्पताल की स्थापना की है. आवश्यकता पड़ने पर इसकी क्षमता 500 बेड और फिर 1,000 बेड तक बढ़ाई जा सकेगी. रक्षा मंत्री डीआरडीओ को लखनऊ, पटना, वाराणसी और अहमदाबाद में अस्पताल स्थापित करने का निर्देश दे चुके हैं.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को सभी रक्षा प्रतिष्ठानों को अपने अधिकारों का इस्तेमाल करते हुए ज्यादा से ज्यादा कोरोना अस्पतालों की स्थापना करने का निर्देश दिया था. इस काम में सेवानिवृत्त कर्मियों की मदद लेने को भी कहा था.

राजनाथ सिंह ने कहा कि पटना के ईएसआइसी अस्पताल को कोरोना अस्पताल में तब्दील कर दिया गया है. यहां 500 बेड का इंतजाम करने के साथ गंभीर मरीजों का उपचार शुरू कर दिया गया है. लखनऊ में 450 बेड, वाराणसी में 750 बेड और अहमदाबाद में 900 बेड का अस्पताल स्थापित करने का काम युद्ध स्तर पर चल रहा है. इन अस्पतालों में काम करने के लिए सेवानिवृत्त सैन्य डॉक्टरों और नर्सिंग स्टाफ को लगाने पर चर्चा हुई है.

उधर, भारतीय सेना भी कोरोना से जंग में मध्यप्रदेश सरकार की सहायता करेगी. इसके लिए भारतीय सेना के अधिकारियों ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मुलाकात की है. साथ ही चार शहरों में स्थित अस्पताल में बेड बाहरी मरीजों को बेड देने का फैसला किया है.

मुख्यमंत्री से मुलाकात करने वालों में सुदर्शन चक्र कोर कमांडर अतुल्य सोलंकी और ब्रिगेडियर आशुतोष शुक्ला शामिल हैं. सैन्य अधिकारियों ने मुख्यमंत्री को बताया कि कोरोना संक्रमित रोगियों को सेना के अस्पतालों और आइसोलेशन केंद्रों में स्थान दिया जाएगा. इसके लिए सेना ने भोपाल में 150 बेड, जबलपुर में 100 बेड, सागर में 40 बेड और ग्वालियर में 40 बेड की व्यवस्था की है.

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *