करंट टॉपिक्स

भारत-पाक सीमा पर बीएसएफ की हर बीओपी व घर-घर तक पहुंचाएंगे गिलोय का पौधा

Spread the love

जैसलमेर. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवकों ने औषधीय पौधों के महत्व को जन-जन तक पहुंचाने का प्रयास प्रारंभ किया है. कोरोना महामारी के दौर में आमजन की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए हजारों गिलोय के पौधे तैयार कर उन्हें घर-घर पहुंचाने का बीड़ा उठाया है. जैसलमेर जिले में भी स्वयंसेवक गिलोय के पौधे जिले भर में वितरित करेंगे.

भारतीय संस्कृति में औषधीय पौधों का विशेष महत्व है. कोरोना महामारी के काल में लोग अपनी इम्युनिटी बढ़ाने के लिए इन्हीं औषधीय पौधों का सहारा ले रहे हैं. ऐसे में विभिन्न जगहों पर लगभग 15 हजार गिलोय के पौधे तैयार कर उन्हें जिलेभर में वितरित किया जाएगा. संघ के पदाधिकारी अमृतलाल दैया बताते हैं कि औषधीय पेड़-पौधों का भारतीय संस्कृति में विशेष महत्व था, लेकिन पश्चिमी संस्कृति के प्रभाव के चलते धीरे-धीरे इनका प्रचलन घट रहा है. ऐसे में 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर संघ प्रकृति वंदन कार्यक्रम देशभर में चला रहा है. इसी के तहत घर-घर तक औषधीय पौधों का महत्व और उनके लाभों को पहुंचाया जाएगा.

अभियान के तहत भारत-पाक सीमा पर तैनात बीएसएफ की प्रत्येक बॉर्डर आउट पोस्ट (बीओपी) पर तुलसी और गिलोय का एक-एक पौधा वितरित किया जाएगा. जिले में 8 स्थानों पर संघ के स्वयंसेवकों की ओर से पिछले 7 दिनों से यह पौध तैयार की जा रही है. इसके बाद 5 जून से कार्यक्रम का शुभारंभ करते हुए यह पौधे वितरित की जाएंगे. इन पौधों के सार्वजनिक स्थानों पर वितरण को प्राथमिकता दी जाएगी.

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

One thought on “भारत-पाक सीमा पर बीएसएफ की हर बीओपी व घर-घर तक पहुंचाएंगे गिलोय का पौधा

  1. जय श्री राम 🚩
    आगर गिलोय का पोधा चाहिए तो इस सेवक को याद कीजिएगा ।जिससे हमें भी सेवा करने का अवसर मिल सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *