करंट टॉपिक्स

परिवार भाव से ही सबका भला होगा – दत्तात्रेय होसबाले जी

Spread the love

लखनऊ. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ लखनऊ विभाग द्वारा रविवार को सीएमएस गोमतीनगर विस्तार में परिवार व्यवस्था को मजबूत बनाने के उद्देश्य से परिवार मिलन कार्यक्रम आयोजित किया गया. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबाले जी ने भारतीय समाज की धरोहर परिवार व्यवस्था को सुदृढ़ करने और सामाजिक समरसता को पुष्ट करने के लिए स्वयंसेवकों का मार्गदर्शन किया.

सरकार्यवाह जी ने कहा कि सद्भावना व सत्कर्म से प्राप्त संस्कार से राष्ट्र व समाज का कल्याण होता है. आदर्श परिवार बनाने के लिए सबके प्रति स्नेह का भाव व सबको जोड़कर एक समाज के नाते मिलकर रहने से समाज की शक्ति बढ़ेगी. हमने पूर विश्व को एक परिवार माना है. जी-20 का ध्येय वाक्य भी वसुधैव कुटुम्बकम है. एक दूसरे के प्रति प्रेम, आत्मीयता, सहयोग व समन्वय की भावना होनी चाहिए. दूसरे के विकास में मन को प्रसन्नता होती है. इसी को परिवार कहते हैं. हनुमान जी को छोड़कर हमारे सभी भगवान विष्णु, शंकर, श्रीराम सब परिवार वाले हैं. परिवार के संदेश को हमने संगठन में भी लिया है. हम जहां भी कार्य करें, वहां टीम भावना से कार्य करना चाहिए. इसलिए आपस में प्रेम, समन्वय व सहयोग की भावना परिवार में होनी चाहिए, वही भाव संघ में होना चाहिए.

उन्होंने कहा कि आज विश्व के लिए परिवार की बहुत आवश्यकता है. कई देशों में वहाँ के राजनीतिक दलों ने अपने चुनावी घोषणा पत्र में लिखा कि हम पारिवारिक मूल्यों को लागू करेंगे. आज परिवार में एकता की बात होती है, लेकिन यह बात विरोधाभासी है. परिवार का मतलब ही एकता है, लेकिन आज परिस्थिति ऐसी हो गई है कि परिवार में एकता की बात की जाती है.

मनुष्य को संस्कार परिवार से ही मिलता है. परिवार भाव से ही सबका भला होगा. यदि परिवार ठीक नहीं है तो बच्चों का जीवन बर्बाद हो जाता है. आत्मीयता व परस्पर सामंजस्य का भाव अगर कम हो गया तो बच्चे समाज के अच्छे नागरिक नहीं बन पाएंगे. परिवार ठीक रहेगा तो सब ठीक रहेगा. इसलिए परिवार में जीवन मूल्य सिखाएं, तभी मानवता सुखी रहेगी.

दत्तात्रेय होसबाले जी ने कहा कि तपस्या सिर्फ़ जंगल में बैठने से नहीं होती, कोई भी कर्म साधना के साथ बिना स्वार्थ के किया जाए तो वह तपस्या है. अध्यात्म आत्मा के विकास के साथ, समाज के हित के लिए होता है.

परिवार मिलन कार्यक्रम में संघ के कार्यकर्ताओं ने सपरिवार सहभागिता की और सहभोज हुआ. कार्यक्रम से पहले सांस्कृतिक कार्यक्रमों की श्रृंखला में भजन, गढ़वाली नृत्य व गिद्धा नृत्य की प्रस्तुति हुई. सरकार्यवाह के साथ सह प्रान्त संघचालक सुनीत खरे व लखनऊ के विभाग संघचालक एडवोकेट जयकृष्ण सिन्हा मंचासीन रहे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.