करंट टॉपिक्स

अब भारत में भी चलेगी हाइड्रोजन ट्रेन, साल के अंत तक हेरिटेज रूट्स पर होगी प्रारंभ

Spread the love

नई दिल्ली. जल्द ही भारत में भी जर्मनी की तरह हाइड्रोजन ट्रेन का संचालन प्रारंभ होगा. रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने योजना के संबंध में जानकारी प्रदान की. हाइड्रोजन ट्रेन हेरिटेज रूट्स पर पहले प्रारंभ होगी. रेलमंत्री ने कहा कि साल के अंत तक देश में हाइड्रोजन ट्रेन की शुरुआत हो जाएगी. रेलवे दिसंबर तक अपने नैरो गेज धरोहर मार्गों पर हाइड्रोजन से चलने वाली ट्रेनों को शुरू करेगा. ये ट्रेन पूरी तरहल प्रदूषण मुक्त होंगी. पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर रेलवे नॉर्थन रेलवे वर्कशॉप में हाइड्रोजन फ्यूल बेस्ड ट्रेन का प्रोटोटाइप तैयार कर रहा है. इसका परीक्षण हरियाणा के सोनीपत-जींद खंड पर किया जाएगा.

रेलमंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा कि, “हम दिसंबर 2023 से हेरिटेज रूट्स पर हाइड्रोजन ट्रेन शुरू करेंगे. इसका मतलब होगा कि ये हेरिटेज रूट पूरी तरह से प्रदूषण मुक्त हो जाएंगे.”

दरअसल, दुनियाभर में डीजल से चलने वाले लोकोमोटिव को हाइड्रोजन से चलने वाले इंजन से बदलने की कोशिश चल रही है क्योंकि बिजली से चलने वाली ट्रेनों का खर्च ज्यादा और मुश्किल है. इसके मुकाबले हाइड्रोजन से चलने वाली ट्रेनों में कम खर्च आएगा.

भारतीय रेलवे के विरासत मार्ग, जहां मुख्य रूप से डीजल से ट्रेनें चलती हैं, उन पर जल्द ही हाइड्रोजन ट्रेनें दौड़ेंगी. इसमें दार्जिलिंग हिमालयन रेलवे, नीलगिरी माउंटेन रेलवे, कालका शिमला रेलवे, माथेरान हिल रेलवे, कांगड़ा घाटी, बिलमोरा वाघई और मारवाड़-देवगढ़ मदरिया शामिल हैं. ये सभी नैरो गेज मार्ग हैं.

जर्मनी की कोराडिया आईलिंट हाइड्रोजन ईंधन सेल द्वारा संचालित दुनिया की पहली यात्री ट्रेन है. ये ट्रेन कम शोर करती है और इससे निकास के रूप में केवल भाप और संघनित पानी निकलता है. ये ट्रेन एक बार में 140 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से 1000 किमी दौड़ सकती है. जर्मनी में साल 2018 से इसका परीक्षण किया जा रहा है.

चीन ने भी हाल ही में अर्बन रेलवे के लिए एशिया की पहली हाइड्रोजन से चलने वाली ट्रेन शुरू की है. रिपोर्ट्स के अनुसार, इसे सिंगल टैंक पर 600 किमी की रेंज मिलती है, जिसकी टॉप स्पीड 160 किमी प्रति घंटा है.

इनपुट – मीडिया रिपोर्ट्स

Leave a Reply

Your email address will not be published.