करंट टॉपिक्स

समाज को अपना मानकर पत्रकारिता करें तो नारद जयंती मनाने की सार्थकता – डॉ. मनमोहन वैद्य जी

Spread the love

भोपाल. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह डॉ. मनमोहन वैद्य जी ने कहा कि आद्य पत्रकार देवर्षि नारद के चरणों में मैं मेरा प्रणाम निवेदन करता हूँ. नारद जी संवाददाता थे, एक जगह से संवाद दूसरी जगह पहुंचाते थे. तीनों लोकों में उनका संचार था. देवता और दानव दोनों का उन पर विश्वास था. उनके सारे क्रियाकलापों का उद्देश्य लोकमंगल ही होता था. विश्व पटल पर भारत की भूमिका पर बात करते हुए कहा कि इसको समझने के लिए भारत की विशेषता को समझना आवश्यक है. How Bharat is different state in the world than all other countries? तो अपनी भूमिका ध्यान में आएगी.

भारत की विशेषता, भारत की विश्व दृष्टि का आधार आध्यात्मिकता है. यह भारत को अलग करता है. अब दुनिया का पैराडाइम भारत की ओर आ रहा है, इस Spiritual Tradition की भारत की विशेषता को समझने की आवश्यकता है. भारत को समझें तो अपने आप विषय से संबंधित बातें स्पष्ट हो सकती हैं.

सह सरकार्यवाह विश्व संवाद केंद्र, द्वारा आयोजित नारद जयंती एवं पत्रकार सम्मान समारोह में “विश्व पटल पर भारत – मीडिया की भूमिका” विषय पर संबोधित कर रहे थे.

उन्होंने कहा कि सबको स्वीकार करने वाला ही भारत है, सहिष्णुता से आगे भारत है. भारतीय विचार सबका सोचता है. यह भारत की विशेषता है.

उन्होंने कहा कि भारत में समाज नाम का स्वतंत्र अस्तित्व है. एक परिवार को बनाने के लिए सभी के सहभाग की आवश्यकता होती है. परिवार को बनाने में, आगे बढ़ाने में हर एक सदस्य को मेहनत करनी पड़ती है. यह गुण भारत में सभी के अंदर है.

उन्होंने “मैं” को छोटा कर “हम” को बबढ़ाने की बात कही. उन्होंने कहा कि जो हमारे नहीं हैं, उन्हें भी अपना समझने का कार्य हम करते हैं, यह धर्म है. धर्म सभी को जोड़ने का कार्य करता है, यह कभी भेदभाव नहीं करता.

उन्होंने कहा कि जो समाज के हित में वह करें, अन्याय का विरोध करें. जुल्म का दिल दहल जाए, इतनी कड़ी भाषा में लिखें. यह समझें कि यह समाज मेरा है, मैं उसका अंग हूं. उन्होंने इसे स्मरण में रखकर अपने आप को भारत के लिए समर्पित करके पत्रकारिता धर्म निभाने की बात कही.

रविन्द्र भवन में आयोजित कार्यक्रम की शुरुआत गीत-संगीत, सरस्वती वंदना व दीप प्रज्ज्वलन से हुई. सरस्वती वन्दना वत्सला चौबे ने प्रस्तुत की. अतिथि सम्मान एवं वक्तव्य के पश्चात पत्रकारिता जगत के प्रतिष्ठित सम्मान का वितरण किया गया. कार्यक्रम में मुख्य अतिथि वरिष्ठ पत्रकार विजय त्रिवेदी रहे. मंच संचालन अखिलेश श्रीवास्तव व आभार संवाद केंद्र के सचिव दिनेश जैन ने किया.

समाज हित में की जाए पत्रकारिता

कार्यक्रम अध्यक्ष वरिष्ठ पत्रकार विजय त्रिवेदी ने कहा कि भूमि से देवलोक तक समाचार पहुंचाने वाले पत्रकार हैं नारद जी. नारद वह पत्रकार हैं, जिसमें हिम्मत है. जो भगवान विष्णु को कमियां बताता है कि आप के राज में क्या हो रहा है. उन्होंने पत्रकारों से पूछा – क्या हम ऐसा कर रहे हैं.

उन्होंने समाज हित में पत्रकारिता करने की बात पर जोर दिया. उन्होंने कहा कि विश्व पटल पर भारत की भूमिका समाज हित की बात है.

राष्ट्रीय विचार को लेकर चलने का कार्य करता है विश्व संवाद केंद्र

विश्व संवाद केंद्र के कार्यकारी अध्यक्ष अजय नारंग ने कहा कि संवाद से कोई विचार बनता है और जब विचार बड़ा रूप लेता है तो उससे योजना बनती है, और योजना बनती है तो उससे बड़े-बड़े काम किये जा सकते हैं. इन सभी के गर्भ में संवाद ही है और संवाद करने का काम ही संवाद केंद्र का है.

उन्होंने कहा कि हम संवाद करते हैं राष्ट्रीय विचारों को लेकर, जीवन मूल्यों को लेकर, ऐसे विचार जो भारत और उसके राष्ट्रीयता से सम्बद्ध हों. जिन विचारों को लेकर हर समाज के विकास में आगे बढ़ सकें, उन सब विचारों का संवाद करने का काम संवाद केंद्र का है.

विश्व संवाद केंद्र, मध्यप्रदेश प्रतिवर्ष देवर्षि नारद की जयंती के अवसर पर प्रतिष्ठित समारोह आयोजित करता है. पत्रकारिता के क्षेत्र में अहम योगदान देने वाले पत्रकारों को सम्मानित किया जाता है.

इन्हें किया गया सम्मानित

कोरोना काल के कारण विगत वर्षों में समारोह का आयोजन नहीं हुआ था, इसलिए इस वर्ष २०२0 से लेकर २०२२ तक चयनित पत्रकारों को “नारद पत्रकारिता सम्मान” प्रदान किये गए. वर्ष 2020 के लिए वेबदुनिया डॉट कॉम के संस्थापक संपादक डॉ. प्रकाश हिन्दुस्तानी, वर्ष २०२1 के लिए वरिष्ठ पत्रकार एवं पर्यावरणविद स्व. अनिल यादव, २०२२ के लिए पूर्व संपादक स्वराज एक्सप्रेस एवं वरिष्ठ पत्रकार कृष्णकांत अग्निहोत्री को प्रदान किया गया.

देवर्षि नारद पत्रकारिता पुरस्कार वर्ष 2020 के लिए अंजली राय, वरिष्ठ संवाददाता, नव दुनिया भोपाल, राहुल शर्मा, वरिष्ठ संवाददाता, द सूत्र, भोपाल एवं श्रीकांत त्रिपाठी वरिष्ठ संवाददाता, दैनिक भास्कर सागर को प्रदान किया गया.

इसी प्रकार वर्ष 2022 के देवर्षि नारद पत्रकारिता पुरस्कार प्रवीण श्रीवास्तव, वरिष्ठ पत्रकार पत्रिका रायसेन, प्रीति जैन, वरिष्ठ पत्रकार पीपुल्स समाचार, भोपाल, अजय जैन, ब्यूरो चीफ नवदुनिया विदिशा, भीमसिंह मीणा, वरिष्ठ पत्रकार दैनिक भास्कर भोपाल एवं रचित दुबे संवाददाता न्यूज 18 को प्रदान किया गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.