करंट टॉपिक्स

लंदन में पढ़ रही भारतीय छात्रा का कट्टरपंथियों ने ब्रेनवॉश कर धर्म परिवर्तन करवाया

Spread the love

गृह मंत्रालय ने मामले की जांच एनआईए को सौंपी, एनआईए ने दर्ज किया केस

नई दिल्ली. घर से दूर विदेश में अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा दिलाने के लिए माता-पिता अपनी कमाई उन पर लगा देते हैं. लेकिन माता-पिता को यह पता नहीं होता कि विदेश में पढ़ने गए बच्चों पर इस्लामिक धर्मगुरु जाकिर नाइक और पाकिस्तानी मूल के अमेरिकन धर्मगुरु यासिर काजी की नजर रहती है. वहां पर जाकिर नाइक ब्रेनवॉश कंपनी योजनाबद्ध तरीके से साजिश रचती है. भारत से लंदन पढ़ने गई लड़कियों को बहला-फुसला कर फंसाया जाता है, फिर उनको आतंकी बनने के लिए मजबूर किया जाता है.

जाकिर नाइक की ब्रेनवॉश कंपनी ने चेन्नई की सीधी-साधी लड़की अर्पिता (काल्पनिक नाम) को अपना निशाना बनाया और इसके लिए जाकिर नाइक की रेडिक्लाइज करने वाली फैक्ट्री ने बांग्लादेश के उस युवक को चुना जो बांग्लादेश के मशहूर राजनेता का बेटा है. जाकिर नाइक की ब्रेनवॉश करने वाली कंपनी के षड्यंत्रों का खुलासा होने के बाद यह पता चला कि किस तरह से विदेश में पढ़ाई कर रह रही भारतीय युवतियों का ब्रेनवॉश करके इस्लाम धर्म कुबूल करवाया जा रहा है. लंदन में पढ़ाई कर रही चेन्नई की अर्पिता एक साजिश के तहत धर्म परिवर्तन गैंग की शिकार हुई और अब उसके माता-पिता परेशान हैं.

मामले का खुलासा होने के पश्चात केंद्रीय गृह मंत्रालय ने पूरे घटनाक्रम की जांच एनआईए को सौंप दी है और एनआईए इस पूरे मामले की जांच तह तक करेगी. इसको लेकर एनआईए ने केस भी दर्ज कर लिया है. जाकिर नाइक के वीडियो दिखा कर कैसे लड़की को रेडिकलाइज किया गया है. इसकी पड़ताल एनआईए करेगी.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार नफीस नाम का बांग्लादेशी लड़का चैन्नई के एक बड़े व्यवसायी की लड़की से लंदन में दोस्ती करके उसका ब्रेनवॉश करता है. अर्पिता को जाकिर नाइक और यासिर काजी के वीडियो दिखाता है, उसके बाद नफीस युवती को बहला-फुसलाकर इस्लाम धर्म कबूल करवाता है. इतना ही नहीं नफीस लंदन में रह रही अपनी बहन के साथ मिलकर अर्पिता का अपहरण कर लेता है और उसका पासपोर्ट भी जबरदस्ती छीन कर अपने पास रख लेता है. बांग्लादेशी नफीस रेडिक्लाइज करने के बाद अब अर्पिता के माता-पिता से पैसे वसूली करने और धमकाने की कोशिश में लगा हुआ है.

इस मामले में चेन्नई क्राइम ब्रांच ने एक मामला दर्ज किया था, जिसमें इस्लामिक धर्म गुरु जाकिर नाइक, पाकिस्तानी मूल के धर्मगुरु यासिर काजी, नौमान अली खान (पाक मूल का अमेरिकी नागरिक और इस्लामिक गुरू) जाकिर नाइक गैंग के मास्टरमाइंड नफीस और बांग्लादेशी युवक नफीस के पिता आरोपी बनाया है.

भारतीय छात्रा को रेडिक्लाइज करने के मामले में भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 120B, 294 (b), 363, 364a, 368, 370 और 506 (1) के तहत केस दर्ज किया गया है. केस दर्ज करने के बाद NIA ने अब चैन्नई की क्राइम ब्रांच टीम से केस लेने की प्रक्रिया शुरू कर दी है.

इस्लामिक धर्मगुरु जाकिर नायक जिस तरीके से लगातार भारत के खिलाफ षड्यंत्र रच रहा है, इसलिए मामले की जांच होना आवश्यक है.

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *