करंट टॉपिक्स

मानव जीवन का सम्पूर्ण प्रकृति के साथ एकात्म सम्बंध स्थापित करना ही एकात्म मानवदर्शन

Spread the love

चित्रकूट. राष्ट्रऋषि नानाजी देशमुख ने 1968 में पं. दीनदयाल उपाध्याय के निर्वाण के उपरांत दीनदयाल स्मारक समिति बनाकर उनके अधूरे कार्यों को पूर्ण करने का कार्य प्रारंभ किया. श्रद्धेय नानाजी ने 42 वर्ष में दीनदयाल स्मारक समिति से लेकर दीनदयाल शोध संस्थान की स्थापना तक के सफर में पं. दीनदयाल उपाध्याय के एकात्म मानवदर्शन के विचारों को व्यावहारिक रूप से धरातल पर उतारने का काम सामूहिक पुरूषार्थ से करके दिखाया.

25 सितम्बर को पं दीनदयाल जी की जयंती अवसर पर दीनदयाल परिसर, उद्यमिता विद्यापीठ चित्रकूट के दीनदयाल पार्क में भी कार्यक्रम का आयोजन किया गया. जिसमें प्रातःकाल से ही संस्थान के विविध प्रकल्प गुरुकुल संकुल, उद्यमिता विद्यापीठ, सुरेन्द्रपाल ग्रामोदय विद्यालय, रामदर्शन एवं आरोग्यधाम के कार्यकर्ताओं द्वारा अलग- अलग एकत्रित होकर पं. दीनदयाल पार्क उद्यमिता परिसर में स्थापित लगभग 15 फीट ऊंची पं. दीनदयाल जी की प्रतिमा पर पुष्पार्चन किया गया.पं. दीनदयाल उपाध्याय जी के जीवन से जुड़े प्रेरणादायी प्रसंगों का मंचन भी किया गया.

पं. दीनदयाल जी की जयंती अवसर पर दीनदयाल शोध संस्थान के संगठन सचिव अभय महाजन का वीडियो कांन्फ्रेसिंग के माध्यम से बीड़ महाराष्ट्र के कार्यकताओं के अभ्यास वर्ग के समापन अवसर पर संबोधन हुआ. उन्होंने कहा कि मानव जीवन का सम्पूर्ण प्रकृति के साथ एकात्म सम्बंध स्थापित करना ही एकात्म मानवदर्शन कहलाता है. मानव का सर्वांगीण विचार उसके शरीर, मन, बुद्धि और आत्मा का संकलित विचार है. हमारा जीवन दर्शन परस्पर पूरक एवं परस्परावलम्बी है. अतः विकास के लिये सहकार और सहयोग का आधार लेना होगा. इसी चिंतन का नाम है एकात्म मानवदर्शन. पं. दीनदयाल जी का विचार दर्शन और जीवन हम सबके लिये प्रेरणादायी है.

कहा कि पं. दीनदयाल जी का बहुत बड़ा संकल्प था, जितने समय वे जिये उतने समय तक उन्होंने समाज के अंतिम पंक्ति के व्यक्ति के लिये काम किया. आज हम उस पूर्णता की ओर अग्रसर हैं, पहुंच रहे हैं.

पं. दीनदयाल उपाध्याय जी के इसी एकात्म मानववाद विचार और उनके लक्ष्य को आगे बढ़ाने का कार्य मानव कार्यशाला के रूप में स्थापित दीनदयाल शोध संस्थान द्वारा सतत् किया जा रहा है. जिसमें मुख्य रूप से कौशल विकास कार्यक्रम, कृषि, शिक्षा, स्वास्थ्य व समाज शिल्पी दंपत्ति के माध्यम से ग्राम उत्थान व युगानुकूल नवरचना का कार्य संचालित है. दीनदयाल शोध संस्थान में 25 सितंबर दीनदयाल जी की जयंती से 11 अक्तूबर भारत रत्न नानाजी देशमुख के जन्मदिवस तक “ग्रामोदय पखवाड़ा” सुरक्षा मानकों को ध्यान में रखकर मनाया जाएगा. जिसके अंतर्गत सभी प्रकल्पों के माध्यम से ग्राम आबादियों तक स्वच्छता, नशामुक्ति, जल संरक्षण, पर्यावरण आदि विभिन्न विषयों पर जन जागरुकता के साथ प्रतियोगिताओं सहित स्वास्थ्य और कृषक गोष्ठियों का आयोजन किया जाएगा.

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *