करंट टॉपिक्स

जलगांव – एक दिन की कमाई समर्पित करने वाले कोष्टी दंपति को मिला पक्का मकान

Spread the love

जलगांव.

राम नाम आधार जिन्हें वो जल में राह बनाते हैं,

जिन पर किरपा राम करें वो पत्थर भी तिर जाते हैं…..

श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए अपनी दिनभर की कमाई समर्पित करने वाले जलगांव जिले का कोष्टी दंपत्ति (नारायण कोष्टी और भागाबाई कोष्टी) इसका प्रत्यक्ष उदाहरण है. श्रीराम मंदिर निधि समर्पण अभियान के दौरान उनके समर्पण की चर्चा हुई तो एक उद्योगपति ने उनके लिए पक्के मकान का निर्माण करवा दिया. इससे पहले कोष्टी दंपत्ति टूटे-फूटे झोंपड़े में निवास करता था. 78 वर्षीय नारायण कोष्टी ने कहा – प्रभु श्रीराम की इच्छा से ही यह हुआ है. हमने कभी ऐसा सोचा भी नहीं था.

श्रीराम जन्मभूमि मंदिर निर्माण में सहयोग के लिए मकर संक्रांति से देश भर में निधि समर्पण अभियान चला था. इस दौरान रामसेवक निधि संकलन करते हुए रावेर तहसील के कुम्भारखेड़ी गांव में पहुंचकर नागरिकों को अभियान की जानकारी दे रहे थे. यह सुनकर नारायण कोष्टी ने भी समर्पण की इच्छा व्यक्त की तथा अपनी एक दिन की पूरी कमाई सौ रूपये श्रीराम के चरणों में समर्पित कर दिए थे. समर्पण के दौरान दंपत्ति का श्रद्धा भाव देख कार्यकर्ता भाव विह्वल थे. उनकी श्रीराम के प्रति भक्ति और समर्पण का वीडियो सोशळ मीडिया पर खूब वायरल हुआ था.

फेसबुक वीडियो – https://www.facebook.com/113944728729011/videos/854493241776122

अत्यंत गरीबी में जीवन व्यतीत कर रहे कोष्टी दंपत्ति का समर्पण भाव भुसावल के व्यवसायी अश्विनी कुमार परदेशी ने भी देखा तो उनका मन द्रवित हो गया. उन्होंने कोष्टी दंपत्ति के बारे में जानकारी ली तो पता चला कि दंपत्ति गरीबी में जीवन व्यतीत कर रहा है, उनके पास ना खुद का घर है, ना किसी सरकारी योजना का लाभ मिल रहा है. दंपत्ति की स्थिति और समर्पण भाव देख व्यवसायी ने दंपत्ति के लिए पक्का मकान बनाने का निर्णय लिया तथा कुछ दिनों में ही पक्का मकान बनाकर दंपत्ति को समर्पित किया. मकान बनाने में करीब दो लाख रुपये का खर्च आया है.

व्यवसायी अश्विन कुमार परदेशी ने कहा – इस दंपत्ति की समर्पण भावना से बहुत प्रभावित हुआ था, उनकी स्थिति देखी तो उनके लिए कुछ करने की प्रेरणा स्वतः मन में जगी. बस, उसके पश्चात उके लिए मकान का निर्माण करवा दिया. मकान में गृह प्रवेश करवा कोष्टी दंपति को सौंप दिया है, इसका बेहद आनंद और संतुष्टि है.

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *