करंट टॉपिक्स

प्रांतवाद व जातिवाद छोड़िए और हिन्दू के रूप में एकत्र आईये

Spread the love

अहमदनगर. कालीपुत्र कालीचरण महाराज ने समाज से आह्वान किया कि हिंदवी स्वराज्य हो, यह ईश्वर की इच्छा बताने वाले छत्रपति शिवाजी महाराज को मां तुलजा भवानी ने तलवार दी थी और छत्रपति के बाद वह अपने आप अंतर्धान हो चुकी है. इसलिए उनका हिंदवी स्वराज्य का सपना हमें एक साथ मिलकर पूरा करना चाहिए. छत्रपति केवल मराठाओं के नहीं, बल्कि हिन्दुओं के राजा हैं. इसलिए प्रांतवाद व जातिवाद छोड़िए और हिन्दू के रूप में एकत्र आईये.

लव जिहाद और धर्मांतरण विरोधी कानून बनाने की मांग को लेकर अहमदनगर जिला सकल हिन्दू समाज द्वारा जनआक्रोश रैली निकाली गई. आयोजकों के अनुसार, रैली में 30 से 35 हजार नागरिक उपस्थित थे. इम्पिरियल चौक में छत्रपति शिवाजी महाराज की मूर्ति को पुष्पमाला अर्पण करके आरंभ हुई रैली का समापन दिल्ली गेट के पास हुआ. जनआक्रोश रैली में कालीचरण महाराज व काजल दीदी ने संबोधित किया. शारदा होशिंग ने संचालन किया. रैली में उपस्थित लोगों ने जय भवानी-जय शिवराय, जय श्रीराम, हर हर महादेव, बोल बजरंग बली की जय, छत्रपति संभाजी महाराज की जय-जयकार जैसे कई नारे लगाए.

कालीचरण महाराज ने हिन्दुत्व की हुंकार भरी. देश की जनसंख्या 140 करोड़ है और उनमें से 94 करोड़ हिन्दू हैं. उन्होंने कहा कि देश में लव जिहाद के प्रतिदिन 40 हजार मामले होते हैं. हिन्दू धर्म में पुनर्जन्म सिद्धांत, कर्मफल सिद्धांत व मनोविज्ञान है जो अन्य किसी भी धर्म में नहीं है. गजवा-ए-हिंद के नाम पर पिछले 800 वर्षों से भारत को इस्लामिक राष्ट्र करने के प्रयास जारी है. ईरान, ईराक, अफगानिस्तान, पाकिस्तान, बांग्लादेश, इंडोनेशिया, कंबोडिया, तक भारत फैला था, लेकिन उसे तोड़ा गया. इसलिए यह मत सोचें कि हम तक आंच आएगी, तब देखेंगे. घर जलेंगे तो कुछ भी नहीं रहेगा और कुछ भी नहीं किया जा सकेगा.

सड़ा हुआ जातिवाद फेक दें

भारत में ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य व शूद्र के चार वर्ण, 2378 जाति व 17भाषाओं में हिन्दू बंट गया है. इसलिए प्रांतवाद व जातिवाद को छोड़कर सबको हिन्दू के रूप में एकत्र आना आवश्यक है. छत्रपति शिवाजी महाराज का हिंदवी स्वराज्य और प्रभु श्रीराम का रामराज्य चाहिए तो हिन्दुत्व को स्वीकारना होगा और हिन्दू के रूप में संगठित होना चाहिए.

बेटी बचाओ व बेटी पढ़ाओ के साथ-साथ बेटी को सशक्त बनाओ, यह आह्वान करते हुए काजल हिंदुस्थानी ने कहा कि बेटी को जिजाबाई बनाओगे तो ही उसकी कोख में छत्रपति शिवाजी जन्म लेंगे. हम अपनी बेटियों को सक्षम व मजबूत नहीं करते, इसीलिए श्रद्धा के 35 टुकड़े करने की हिम्मत होती है. उन्होंने कहा कि केदारनाथ, अतरंगी रे और तूफान जैसी फिल्मों द्वारा लव जिहाद का महिमामंडन किया जा रहा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.