करंट टॉपिक्स

मालवा – एक सप्ताह में रामभक्तों की रैली पर पथराव व हमले की चौथी घटना

इंदौर. अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि पर भव्य मंदिर निर्माण का कार्य गति पकड़ रहा है. मंदिर निर्माण में देश के करोड़ों परिवारों को जोड़ने के उद्देश्य से 15 जनवरी, मकर संक्रांति से निधि समर्पण एवं जनसंपर्क अभियान प्रारंभ होने वाला है, जो माघ पूर्णिमा, 27 फरवरी तक चलेगा. श्रीराम जन्मभूमि मंदिर निर्माण निधि समर्पण अभियान से पूर्व जनजागरण हेतु अनेक कार्यक्रमों (सुंदरकांड, महाआरती, वाहन रैली, भजन संध्या, प्रभात फेरी, संकीर्तन आदि) का आयोजन किया जा रहा है.

मालवा प्रांत में गीता जयंती के अवसर पर सम्पूर्ण प्रांत में वाहन यात्राएं व चल समारोह के आयोजन किये गए, जिनमें काफी संख्या में समाजजन उपस्थित रहे. लेकिन कुछ जिहादी उपद्रवी तत्वों को समाज शक्ति का जागरण पसंद नहीं आ रहा. इसी कारण उन्होंने आयोजनों में विघ्न डालना प्रारंभ कर दिया है. मालवा प्रांत में ही पिछले एक सप्ताह के दौरान रामभक्तों पर पथराव व हमले की चार घटनाएं सामने आ चुकी हैं.

मंगलवार, 29 दिसंबर को इंदौर में आयोजित वाहन रैली पर जिहादी तत्वों ने पथराव व हमला कर दिया. निधि समर्पण अभियान से पूर्व जनजागरण हेतु आयोजित रैली गौतमपुरा क्षेत्र के चंदन खेड़ी गांव में पहुंची तो वाहन पर पथराव कर दिया. घटना में 12-15 रामभक्त घायल हो गए, जिन्हें इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है. अनेक वाहन भी क्षतिग्रस्त हो गए. इस दौरान मामले की सूचना पुलिस को दी गई, जिसके बाद क्षेत्र में पुलिस बल तैनात कर दिया गया.

गीता जयंती पर उज्जैन के बेगमबाग से निकल रही रामभक्तों की यात्रा पर मुस्लिम महिलाओं ने घर की छतों से पथराव किया. इसमें बच्चे भी शामिल थे. घटना के वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गए थे. पथराव में अनेक रामभक्तों को चोटें आई थीं, उपद्रवियों ने अनेक वाहनों को भी क्षतिग्रस्त कर दिया था.

इसके एक दिन बाद ऐसी ही घटना निमाड़ क्षेत्र के खरगोन के निकट भीकनगांव में हुई. जनजागरण यात्रा को यह कहकर रोकने का प्रयास किया गया कि यह हमारी बस्ती है और यहां से यात्रा नहीं निकल सकती. ऐसा कहते हुए एक व्यक्ति ने यात्रा में शामिल रामभक्त पर हमला कर दिया, बाद में पुलिस से भी हाथापाई की. अगले दिन ऐसी ही घटना नागदा में हुई. जहां निधि समर्पण अभियान के निमित्त लगाए गए टेंट को रात में क्षतिग्रस्त कर दिया गया व कार्यक्रम के बैनर – फ्लेक्स चोरी कर लिए गए.

पथराव और हमले की सभी घटनाओं में एक बात समान है, सभी स्थानों पर पूर्व में ही तैयारी की गई थी. यानि इन घटनाओं को सुनियोजित रूप से अंजाम दिया गया. बेगमबाग की घटना में महिलाएं व बच्चे भी शामिल थे.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *