करंट टॉपिक्स

मुल्तान कभी हमारा था…..

Spread the love

आज एक सुखद संयोग है. आज भगवान नरसिंह और नरसिंह जैसे पराक्रमी छत्रपति संभाजी महाराज की जयंती है.

ऐसी मान्यता है कि पाकिस्तान के मुल्तान में भगवान नरसिंह प्रकट हुए थे. हिरण्यकश्यपु के वध के बाद प्रल्हाद ने वहां अनेक वर्ष राज किया. मुल्तान में भगवान नरसिंह का वैभवशाली मंदिर था, इसके प्रमाण लगभग ढाई हजार वर्षों से मिले हैं. चीनी यात्री ह्युएन त्सेंग ने सातवीं शताब्दी के प्रारंभ में अपने प्रवास में, यहां पर संपूर्णतः सोने का मंदिर है, ऐसा लिखा है.

मुल्तान यह प्राचीन काल में कश्यपपुर कहलाता था. ॠषि कश्यप ने इस नगरी की स्थापना की. बाद में, हिरण्यकश्यपु का वध करने के लिये भगवान नरसिंह यहां प्रकट हुए थे, इसलिये यह ‘मूलस्थान’ कहलाने लगा, जो बाद में मुल्तान हुआ.

भगवान नरसिंह के इस मंदिर को इस्लामी आक्रांताओं ने अनेकों बार तोडा. लेकिन मुल्तान के हिन्दू समुदाय की जिजीविषा इतनी जबरदस्त थी कि उन्होंने हर बार उसे उतने ही वैभव के साथ पुनः खड़ा किया. अंग्रेजों ने भी इस मंदिर की भव्यता और समृद्धि के बारे में लिख रखा है. सन् १८१० में तत्कालीन सिक्ख शासकों ने इसका पुनर्निर्माण किया था. २० सितंबर, १८८१ के भयानक दंगों के बाद भी यह मंदिर फिर खड़ा हुआ.

लेकिन १९४७ में, भारत के डरपोक और लाचार नेताओं के आगे मुल्तान के हिन्दू विवश हुए, पराभूत हुए, हार गए. मुल्तान पाकिस्तान को दे दिया गया. वहां का विख्यात सूर्य मंदिर अब हमारा नहीं रहा. प्रल्हादपुरी का भगवान नरसिंह मंदिर भी पराया हो गया, खंडहर बन गया. पूरे विश्व में मनाए जाने वाला होली उत्सव जहां से प्रारंभ हुआ था, वो स्थान भी मनहूस बन गया, हमारा न रहा !

यह तो सौभाग्य रहा कि ७५ वर्ष पहले, विभाजन के समय, संत बाबा नारायणदास बत्रा ने भगवान नरसिंह की मूर्ति को हरिद्वार लाकर स्थापित किया. हालांकि यह प्राचीन सोने की मूर्ति नही है.

विभाजन के बाद मुल्तान के नरसिंह मंदिर में मदरसा खोला गया. बाद में वह खंडहर बन गया. लोग वहां कचरा डालने लगे. लेकिन सन २०१४ के बाद परिस्थिति थोड़ी सी बदली. भारत में मजबूत सरकार आने के बाद पाकिस्तान सरकार ने उस मंदिर के खंडहर पर अवैध कब्जा करने वालों को रोका है.

हम हिन्दुओं की अनास्था के कारण भगवान विष्णु के अवतार नरसिंह का प्राकट्य स्थल हमसे छीना गया. आज नरसिंह जयंती के अवसर पर, मुल्तान कभी हमारा था, इतना स्मरण कर लिया तो भी बहुत है..!

प्रशांत पोळ

#नरसिंह; #मुल्तान #Narasingh

Leave a Reply

Your email address will not be published.