करंट टॉपिक्स

राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 भारत के अनुरूप, भारत के लिए और भारत के लोगों द्वारा बनाई गई नीति – सुनील आंबेकर

Spread the love

शिमला (विसंकें). विश्व संवाद केंद्र शिमला द्वारा शनिवार को राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 पर ऑनलाइन संवाद का आयोजन किया गया. संवाद में मुख्य अतिथि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय सह प्रचार प्रमुख एवं शिक्षाविद् सुनील आंबेकर रहे.

उन्होंने कहा कि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति भारत के अनुरूप, भारत के लिए और भारत के लोगों द्वारा बनाई गई नीति है. यह शिक्षा नीति ऐसे समय में आ रही है, जब देश में कोरोना महामारी के कारण और चीन के साथ विवाद की घटनाएं हुई हैं. देश में ये संकल्प है कि हमें आगे बढ़ना है और आत्मनिर्भर व समृ़द्ध भारत बनाना है. ऐसे में देश को नयी चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है. चुनौतियों को अवसर में बदलते हुए नयी पीढ़ी को तैयार करने के लिए यह शिक्षा नीति सही समय पर आयी है.

उन्होंने कहा कि यह शिक्षा नीति देश के स्वाभिमान, कुशलता और क्षमताओं को पहचानते हुए भविष्य के लिए 21वीं सदी में प्रासंगिक होते हुए तैयार की गई है. भारत का स्वरूप विविधता वाला है, जिसकी अपनी संस्कृति और विशिष्टता है. ऐसे में यह शिक्षा नीति सबको जोड़ने वाले भारतीयता के मूल भाव का समावेश करते हुए एकरूपता को विकसित करने के लिए तैयार की गई है. आज तक अंग्रेजी की अनिवार्यता के कारण बहुत से लोगों की योग्यता का सही प्रकार से विकास नहीं हो पाया. वे लोग विकास की प्रतिस्पर्धा में पिछड़ गए. इस शिक्षा नीति में भारतीय भाषाओं में शिक्षण की व्यवस्था की गई है ताकि भारतीयता के तत्व को प्रमुखता मिले.

सुनील आंबेकर ने कहा कि देश में अलग-अलग स्थानों की विशेषाताओं को देखते हुए उसी के अनुरूप कौशल का विकास किया जाएगा. अब तक स्किल डेवलेपमैंट को स्कूली पाठ्यक्रम का अनिवार्य भाग नहीं बनाया गया था, लेकिन अब इसे पाठ्यक्रम में शामिल किया जाएगा.

उन्होंने कहा कि शिक्षण में अध्यापकों की महत्वपूर्ण भूमिका रहती है, इसी बात को देखते हुए नई शिक्षा नीति में अध्यापकों के प्रशिक्षण और योग्यता को विशेष प्रमुखता प्रदान की गई है. नीति में यह अनिवार्य किया गया है कि कोई भी अध्यापक बिना प्रशिक्षण के शिक्षण का कार्य न करे.

नई शिक्षा नीति में शिक्षण के साथ शोध को प्रमुखता प्रदान की गयी है ताकि गुणात्मक शिक्षा के लक्ष्य को अर्जित किया जा सके. इसके अतिरिक्त नई शिक्षा नीति में व्यावसायिक कोर्सों, फिल्म, खेल इत्यादि सभी शैक्षणिक पहलुओं को सम्मिलित करके इसमें समग्रता के भाव का समावेश किया गया है.

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *