करंट टॉपिक्स

अब झारखंड में श्रद्धा हत्याकांड जैसी घटना

Spread the love

रांची. श्रद्धा हत्याकांड जैसा ही एक मामला झारखंड में भी सामने आया है. घटना साहिबगंज जिले के बोरियो क्षेत्र की है. प्रेमी ने प्रेमिका की हत्या कर शव के 30 से ज्यादा टुकड़े कर दिए. सबूत छिपाने के लिए आरोपी ने टुकड़ों को बोरे में रख दिया. पुलिस ने शव के 12 टुकड़े बरामद करने का दावा किया है. सिर और शरीर के अन्य टुकड़ों की खोज कुत्तों की मदद से की जा रही है. पुलिस ने तीन महिलाओं सहित सात लोगों को हिरासत में लिया है. घटना की जानकारी मिलने के बाद संथाल परगना डीआईजी सुदर्शन मंडल ने घटनास्थल का निरीक्षण किया.

रिपोर्ट्स के अनुसार, शव के टुकड़े करने के लिए आरोपी ने लोहा काटने वाली विशेष मशीन का उपयोग किया था. साहिबगंज के बोरियो में 22 वर्ष की महिला की हत्या के बाद पति और उसके घरवालों ने शव के 12 टुकड़े किए और फिर अलग-अलग जगहों पर फेंक दिया. बोरियो थाना क्षेत्र के गोडा पहाड़ की पहाड़िया रूबिका पहाड़िन की हत्या के आरोप में बोरियो बेल टोला निवासी मो. मुस्तकीम अंसारी और पत्नी मरियम खातून, पुत्र दिलदार अंसारी और पत्नी गुलेरा, मुस्तकीम के दूसरे पुत्र अमीर अंसारी, महताब अंसारी, पुत्री शारेजा खातून को गिरफ्तार कर पूछताछ कर रही है.

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, 22 वर्षीय रूबिका पहाड़िन के साथ मो. मुस्तकीम के पुत्र दिलदार अंसारी का कई साल से प्रेम प्रसंग चल रहा था. फिर दोनों ने शादी कर ली. दिलदार पहले से ही शादीशुदा था. इसे लेकर दिलदार के परिजन नाखुश थे. घरवालों की नाराजगी के कारण दिलदार रूबिका को बोरियो संथाली के हेमंती मुर्मू के मकान में रखता था. यह मकान उसने दो हजार रुपया प्रतिमाह किराए पर लिया था. मकान मालकिन हेमंती ने बताया कि दिलदार मकान किराया दो हजार रुपये दे चुका था. महज पांच-छह दिन ही युवती उसके मकान में किराए पर रही. इसके बाद दिलदार के स्वजन रूबिका पहाड़िन को अपने घर बेल टोला ले गए.

बीते शुक्रवार को दिलदार की मां मरियम खातून ने रूबिका को अपने भाई मोईनुल अंसारी के घर बोरियो मांझ टोला पहुंचा दिया, जहां उसकी हत्या कर दी गयी. इसके बाद लोहे काटने वाली मशीन से शव के टुकड़े टुकड़े कर अलग-अलग जगह पर फेंक दिया गया. शनिवार व रविवार सुबह पुलिस ने शरीर के हिस्से विभिन्न स्थानों से बरामद किए. शव के टुकड़ों को कुत्ते नोच रहे थे.

सूचना मिलने पर हरकत में आई पुलिस ने जांच शुरू कर दी. बोरियो थाना प्रभारी जगन्नाथ पान, एएसआई करुण कुमार राय ने बोरियो संथाली पहुंच कर छानबीन की. छानबीन में पुलिस को आंगनबाड़ी केंद्र से महज 300 मीटर की दूरी पर बंद पुराने घर से बोरे में मानव अंगों के कई अवशेष मिले. दिलदार ने मृतका के अंग की पहचान की. शनिवार देर रात एसपी अनुरंजन किस्पोट्टा और एसडीपीओ राजेंद्र दुबे बोरियो थाना पहुंचे. हिरासत में लिए गए दिलदार के परिजनों की निशानदेही पर दो धारदार हथियार भी बरामद किए गए हैं.

हत्या में इस्तेमाल धारदार हथियार दिलदार के मामा मो. मोईनुल अंसारी के घर से मिला. मुख्य आरोपी मो. मोईनुल अंसारी मौके से फरार हो गया. मानव शव के टुकड़ों की पहचान करने बोरियो सीएचसी प्रभारी डॉ. सलखु चंद हांसद को बुलाया गया. बोरियो थाना पहुंचे डॉक्टर ने मानव अंग होने की पुष्टि कर दी. डॉग स्कायड की टीम को भी दुमका से बोरियो बुलाया गया. खोजी कुत्ते की मदद से शव के शेष टुकड़ों को बरामद करने का प्रयास चल रहा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.