करंट टॉपिक्स

पाकिस्तान – पूर्व राजनयिक की बेटी की हत्या, महिलाओं की सुरक्षा को लेकर सवाल

Spread the love

नई दिल्ली. पाकिस्तान में महिलाओं की सुरक्षा की गारंटी नहीं है. पाकिस्तान में उच्च अधिकारियों के परिवार की महिलाएं भी असुरक्षित हैं. मंगलवार को पाकिस्तान में एक पूर्व राजनयिक की बेटी की नृशंसता से हत्या कर दी गई.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार दक्षिण कोरिया में पाकिस्तान के राजदूत रहे शौकत मुकादम की बेटी नूर मुकादम की इस्लामाबाद में उनके घर में हत्या कर दी गई. हत्यारे ने पहले नूर मुकादम को गोली मारी और इसके बाद उनका सिर कलम कर दिया. डॉन’ में प्रकाशित समाचार के अनुसार शौकत मुकादम की बेटी नूर मुकादम (27) इस्लामाबाद के सेक्टर एफ-7/4 में मंगलवार को मृत पायी गयी थी. शौकत मुकादम पूर्व में दक्षिण कोरिया और कजाकिस्तान में पाकिस्तान के राजदूत रह चुके हैं. पुलिस ने घटना के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि हत्यारा पीड़िता का ही एक दोस्त है, जिसका नाम जहीर जफर है. वह पाकिस्तान के एक बड़े बिजनेसमैन का बेटा है. पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.

घटना के बाद पाकिस्तान की जनता में आक्रोश बढ़ रहा है, सुरक्षा व्यवस्था को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं. अल्पसंख्यक समुदाय की महिलाओं की सुरक्षा को लेकर पाकिस्तान की कार्यप्रणाली पहले ही कटघरे में है. सोशल मीडिया पर #JusticeForNoor और #JusticeForNoorMukadam ट्रेंड करवाया. रिपोर्ट्स के अनुसार पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता जहीद हफीज चौधरी ने नूर मुकादम की मौत पर शोक व्यक्त किया है. कहा कि वह अपने वरिष्ठ सहयोगी और पाकिस्तान के पूर्व राजदूत की बेटी की हत्या पर बेहद दुखी हैं और शोक संतप्त परिवार के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त करते हैं. उन्हें आशा है कि हत्यारों को उनके गुनाह की सजा जल्द मिलेगी.

अभी हाल ही में पाकिस्तान में मौजूद अफगानिस्तान के राजनयिक नजीबुल्लाह की बेटी को अगवा कर लिया गया था. इन घटनाओं के बाद पाकिस्तान में मौजूद राजनयिकों की सुरक्षा पर सवाल उठ रहा है. हाल ही में अफगानिस्तान के विदेश मंत्रालय ने बयान जारी करके बताया था कि पाकिस्तान में अफगान राजदूत नजीबुल्लाह अलीखील की बेटी सिलसिला अलीखील का बीते 17 जुलाई (शनिवार) को इस्लामाबाद स्थित उनके घर लौटते वक्त अपहरण कर लिया गया था. अगवा करने के बाद उसे कई घंटों तक बुरी तरह से टॉर्चर किया गया, हालांकि अपहरणकर्ताओं के चुंगुल से बच निकली थी.

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *