करंट टॉपिक्स

अर्शदीप सिंह के खिलाफ पाकिस्तानी प्रोपेगंडा; भारत सरकार सख्त, विकिपीडिया से मांगा जवाब

Spread the love

नई दिल्ली. भारतीय क्रिकेट टीम के गेंदबाज अर्शदीप सिंह के विकिपीडिया पेज को एडिट कर ‘खालिस्तान’ के साथ जोड़े जाने को सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने गंभीरता से लिया है. मंत्रालय ने अर्शदीप के पेज को खालिस्‍तान से जोड़े जाने और उस कंटेंट के पब्लिकली रिफलेक्‍ट होने को लेकर स्पष्टीकरण के लिए भारत में विकिपीडिया के अधिकारियों को समन जारी किया है. मंत्रालय ने अधिकारियों से कहा है कि वह इस मामले में स्‍पष्‍टीकरण के साथ उनसे आकर मिलें और इसकी वजह बताएं.

रविवार को एशिया कप-2022 के सुपर-4 स्टेज में भारत-पाकिस्तान के बीच मुकाबल में पाकिस्तान ने भारतीय टीम को 5 विकेट से हरा दिया. रविवार को खेले गए मैच में भारतीय टीम के युवा तेज गेंदबाज अर्शदीप सिंह से एक छोटी सी चूक हो गई. अर्शदीप की चूक को भारत की हार का प्रमुख कारण माना जाने लगा. दरअसल, मैच के 17वें ओवर में रवि बिश्नोई की गेंद पर अर्शदीप सिंह से पाकिस्तानी बल्लेबाज आसिफ अली का एक आसान सा कैच छुट गया और मैच का रुख बदल सा गया.

क्रिकेट मैच के बेहद नाजुक दौर में अर्शदीप से कैच छूटने के बाद उन्हें न सिर्फ सोशल मीडिया पर ट्रोल होना पड़ा, बल्कि कुछ ऐसा हुआ जिसे लेकर अब भारत सरकार पूरी तरह से एक्शन में नजर आ रही है. भारत पाकिस्तान के बीच खेले गए इस मुकाबले में भारत को मिली हार के बाद सोशल मीडिया पर ट्रोलिंग के अलावा अर्शदीप सिंह के विकिपीडिया पेज पर आपत्तिजनक बदलाव किए गए. अर्शदीप सिंह के विकिपीडिया पेज पर उनका सम्बन्ध ‘खालिस्तानी संगठन’ से बताया गया.

इस करतूत के पीछे पाकिस्तान का हाथ सामने आ रहा है. जिसकी जांच खुफ़िया एजेंसियों द्वारा की जा रही है. वहीं, मामला सामने आने के बाद से अब भारत सरकार पूरी तरह से सख्त नजर आ रही है. भारत सरकार की ओर से आईटी मंत्रालय ने कड़ा कदम उठाते हुए इस मामले में विकिपीडिया को नोटिस भेजा है. मंत्रालय का कहना है कि ऐसा दर्शाना भारत में सांप्रदायिक माहौल को बिगाड़ सकता है, इसके आलावा भारतीय युवा तेज गेंदबाज अर्शदीप सिंह के परिवार की सुरक्षा के लिए भी यह खतरा हो सकता है.

अर्शदीप के खिलाफ 80% ट्वीट फर्जी अकाउंट से

वहीं, न्यूज़ चैनल्स की रिपोर्ट्स के अनुसार, अर्शदीप सिंह के खिलाफ पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI और आतंकवादी संगठन सिक्ख फॉर जस्टिस की साजिश का खुलासा हुआ है. अर्शदीप सिंह को बदनाम करने के लिए 80 फीसदी ट्वीट फर्जी अकाउंट से किए गए. अर्शदीप सिंह को फर्जी ट्विटर हैंडल के जरिए ट्रोल किया गया. अधिकतर ट्वीट पाकिस्तान और कनाडा से किए गए. इसके अलावा ट्रोलर्स द्वारा अर्शदीप सिंह के विकिपीडिया पर उनके साथ खालिस्तानी जोड़ दिया गया. ये छेड़छाड़ पाकिस्तान के मुरी शहर से की गई है.

बहरहाल, अगर हम अर्शदीप सिंह के ड्रॉप कैच को छोड़कर मैच में उनके ओवरऑल परफॉर्मेंस की बात करें तो इंडिया के लिए अर्शदीप सिंह ने मैच में बेहतर प्रदर्शन किया. अर्शदीप ने 3.5 ओवर में 27 रन दिए और एक विकेट भी लिया. जब पाकिस्तान को आखिरी ओवर में 7 रनों की ज़रूरत थी, उस वक्त अर्शदीप ने पाकिस्तान की टेंशन बढ़ा दी और 5वीं बॉल तक मैच ले गए.

Leave a Reply

Your email address will not be published.