करंट टॉपिक्स

राहुल हत्याकांड – लिबरल सेकुलर गैंग ने राहुल की हत्या पर भी पूर्ववत चुप्पी साधी?

Spread the love

नई दिल्ली. राजधानी के आदर्श नगर क्षेत्र में बुधवार रात को 18 साल के राहुल राजपूत की पीट-पीटकर हत्‍या कर दी गई. और आशा के अनुसार सेकुलर-लिबरल ब्रिगेड पूर्ववत चुप्पी साधे है, ये गैंग सड़कों पर नहीं उतरा. दिल्ली में ही अंकित सक्सेना, ध्रुव त्यागी की हत्या के दौरान भी यही चुप्पी देखने को मिली थी. ऐसे ही जून माह में एकतरफा प्यार में टिकटॉक स्टार शाहरुख ने सरेबाजार नैना की हत्या कर दी थी, उस समय भी मौन व्याप्त रहा. लेकिन, चोर की पिटाई पर लिबरल ब्रिगेड ने खूब हो हल्ला किया था.

दिल्ली पुलिस के अनुसार, तिल्ली (Spleen) फटने से राहुल की मौत हुई. बुधवार शाम को लड़की के कुछ रिश्‍तेदार राहुल से मिले थे. फिर उसके ऊपर लाठी-डंडों से हमला कर दिया. राहुल को बेहोशी की हालत में अस्‍पताल ले जाया गया, जहां उसने दम तोड़ दिया. आरोपी दूसरे धर्म के थे, इसलिए क्षेत्र में में अतिरिक्‍त पुलिस बल लगाया गया है.

राहुल की पास में रहने वाली एक लड़की से दोस्‍ती थी. धर्म अलग होने के कारण लड़की के घरवालों को यह बिल्‍कुल पसंद नहीं था. पुलिस के अनुसार, जिन लोगों ने राहुल पर हमला किया, उनमें लड़की का भाई मोहम्‍मद राज (20), एक रिश्‍तेदार मानवर हुसैन (20) और उसके तीन नाबालिग दोस्‍त शामिल हैं. तीनों फिलहाल पुलिस की हिरासत में हैं.

नौजवान बेटा गंवाने वाले संजय कहते हैं, “अगर उस लड़की के परिवार को कोई दिक्‍कत थी तो मेरा बेटा नौजवान था. उसे थप्‍पड़ मार लेते या हमें बताते. लेकिन उसे मारने से क्‍या होगा. मैं बस ये चाहता हूं कि जिन लोगों ने मेरे बेटे को मारा, वो जेल से कभी रिहा न हों.’ लड़की का परिवार कुछ गली दूर रहता है. सूत्रों के अनुसार, लड़की ने ही आरोपियों की पहचान में पुलिस की सहायता की.

पुलिस के अनुसार, राहुल राजपूत परिवार सहित मूलचंद कॉलोनी में रहता था. परिवार में पिता संजय, मां रेणुका और छोटी बहन है. पिता संजय रोहिणी सेक्टर-18 में टैक्सी स्टैंड चलाते हैं. राहुल सेकंड ईयर की पढ़ाई कर रहा था. साथ ही अंग्रेजी की ट्यूशन दिया करता था. बुधवार की रात को राहुल के चाचा के लड़के गोलू के पास अनजान नंबर से फोन आया था. राहुल को कहा था कि उसे अपने बच्चे को ट्यूशन पढ़ाना है. वह बाहर आ जाए. राहुल बिना किसी को बताए गली के बाहर आ गया. आरोप है कि एक दर्जन से अधिक आरोपियों ने राहुल की पीट-पीटकर हत्या कर दी. उसके कपड़े भी फाड़ दिए.

गोलू ने फोन किया तो घटना का पता चला. राहुल ने अपनी मां को बताया कि उनको पीटा गया है. घर वाले हालात बिगड़ने पर बाबू जगजीवन राम अस्पताल में ले गए. डॉक्टरों ने राहुल को उपचार के दौरान मृत घोषित कर दिया. इसके बाद राहुल के चाचा धर्मपाल के बयान पर पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज किया. गोलू का मोबाइल फोन कब्जे में लेकर अनजान फोन नंबर से आई कॉल को ट्रेस किया गया. इसके आधार पर जहांगीरपुरी में रहने वाले सभी आरोपियों को पकड़ लिया.

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *