करंट टॉपिक्स

राष्ट्र सेविका समिति अवध प्रांत का छह दिवसीय योग वर्ग संपन्न

Spread the love

अवध. वर्तमान सामाजिक परिस्थिति और जीवन में शांति का अभाव, मानसिक विकार इन सबसे सहजता से बाहर आने के लिए योग अमोघ साधन है. इस दृष्टि से राष्ट्र सेविका समिति अवध प्रांत द्वारा आयोजित छह दिवसीय योग वर्ग के समापन पर राष्ट्र सेविका समिति की प्रमुख संचालिका शांता अक्का का पाथेय प्राप्त हुआ. मार्गदर्शन करते हुए शांता अक्का जी ने कहा कि जीवन में बुरे विचार व कुसंस्कार को रोकना अति आवश्यक है जो योग द्वारा ही संभव है. महर्षि पतंजलि के अनुसार स्व का आत्मा के साथ जोड़ना ही योग है. मंत्रयोग के द्वारा मंत्र बोलने के समय हमारी आत्मा भगवान के साथ एकाग्र होती है. तभी Inlightment of Selflessness की भावना स्वामी विवेकानंद के अनुसार जीवन में आती है. भगवत गीता को उद्घृत करते हुए शांता अक्का जी ने बताया कि योग: कर्मसु कौशलम् अर्थात कोई कार्य योग साधना से करने पर हम अपूर्णता से पूर्णता की ओर जाते हैं. तन-मन भी स्वस्थ रहता है और कार्य करने की ऊर्जा भी प्राप्त होती है. स्वामी चिन्मयानन्द जी के अनुसार योगमय साधना होने से साधना शक्ति प्राप्त होती है, जिससे क्रियाशक्ति बढ़ती है. अपना संपूर्ण जीवन भगवान को समर्पित कर निःस्वार्थ भाव से कार्य करना ही; तेजस्वी हिन्दू राष्ट्र जो राष्ट्र सेविका समिति का ध्येय है; इसको बनाने में हमारी सेविकाएं सक्षम बनेंगी, ऐसा विश्वास है.

योग शिविर में प्रांत संचालिका रत्नम जी, प्रांत कार्यवाहिका यशोधरा जी, मिथिलेश एवं पद्मा जी उपस्थित रहीं. सहभागी बहनों की उपस्थिति ने योगवर्ग को संबल प्रदान किया.

 

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *