करंट टॉपिक्स

शिवलिंग पर पैर लगाते एक व्यक्ति के चित्र की वास्तविकता…!!!

Spread the love

विष्णु शर्मा

शिवलिंग पर पैर लगाते एक व्यक्ति की तस्वीर सोशल मिडिया पर वायरल हो रही है…क्यों?

जैसे ही खबर आई कि कोर्ट के आदेश पर बनी एक कमेटी की जांच में ज्ञानवापी परिसर के वजूखाने में एक बड़ा शिवलिंग मिला है, सोशल मीड़िया पर तमाम तरह की प्रतिक्रियाएं सामने आने लगीं. कई नेताओं ने शिवलिंग का मजाक भी उड़ाया. एक प्रोफेसर ने भी ऐसा ही किया, पुलिस ने भी कई लोगों को इस मामले में जेल भेज दिया.

लेकिन एक ऐसी तस्वीर कई लोगों ने शेयर की, जो देखने में बेहद आपत्तिजनक लगती है. जिस भी शिव भक्त ने उसे देखा उसे गुस्सा आ रहा है, लेकिन क्योंकि तस्वीर एडिट करके नहीं बनाई गई है, बल्कि मूर्ति रूप की तस्वीर है, सो लोग समझ नहीं पा रहे कि आखिर वो कौन होगा, जिसने ये मूर्ति बनाई होगी? कोई ऐसा कैसे कर सकता है कि शिवलिंग पर पैर लगाते हुए व्यक्ति की मूर्ति बनाए?

ये तस्वीर शेयर करने वालों में सबसे प्रमुख नाम है देवदत्त पटनायक का, हिन्दू पौराणिक ग्रंथों में ढूंढ-ढूंढकर वो बातें निकालना, जो समाज की आस्था को चोट पहुंचाती हैं, ये देवदत्त को काफी पसंद आता है. अपने इस अभियान में वह कई बार गलत बातें भी शेयर कर देते हैं और फिर उनकी फजीहत भी होती है, लेकिन रुकते नहीं. पहले देवदत्त पटनायक का ट्वीट पढ़िए.

उन्होंने लिखा – “Remember Kanappa today… this Nayamnar saint of South India loved Shiva in his own way…. full of love… considered superior to the Brahmin ritual performance of devotion’’. इस ट्वीट में जो उन्होंने लिखा है, उससे संदेश मिलता है कि दक्षिण भारत के ये संत शिव को इसी तरह यानि पैर रखकर सम्मान देते थे. आदत के अनुसार, ब्राह्मणों की आलोचना करते हुए उन्होंने ये भी लिखा कि इसे ब्राह्मणों की पूजा से बेहतर समझा जाता था. लेकिन उनके ट्वीट पर गौर करेंगे तो आप पाएंगे कि वह आपको पूरा सच नहीं बता रहे हैं. एक तरह से आधा सच गुमराह ही करता है.

अकेले देवदत्त नहीं सोशल मीडिया पर बहुत से लोगों ने इस तस्वीर को शेयर किया है, किसी में इसी मुद्रा में बनी मूर्तियों की फोटो है, तो कहीं किसी चित्रकार ने पेंटिंग की तरह बनाया है. इससे ये तो पता चलता है कि कई जगह कनप्पा की शिव लिंग को पैर लगाते हुए मूर्तियां भी हैं, अगर वाकई में ऐसा है तो आज तक कोई हंगामा क्यों नहीं हुआ? कोई नाराज क्यों नहीं होता? भगवा दल वाले क्यों इस पर ऐतराज नहीं करते? इसका मतलब साफ है कि उनको पता है कि इसमें कुछ भी विवादित नहीं है. जबकि देवदत्त जैसे तमाम लोग हैं, जो इसे गलत ना बताते हुए भी भ्रम में डालने वाला टेक्स्ट उसके साथ लिख रहे हैं. जैसे एआईएमआईएम से जुड़े ऐसी ही पोस्ट शेयर करते हुए लिखते हैं – “मुझे नहीं पता कि उत्तर भारतीयों को भक्त कनप्पा के बारे में पता भी है कि नहीं, अगर ये आज के दौर में होता तो कनप्पा के खिलाफ शिवलिंग पर पैर रखने के चलते ना जाने कितने केस हो गए होते.’’

सभी लोग कनप्पा को शिवभक्त ही बता रहे हैं, ये नहीं बता रहे कि वो अपमान कर रहे हैं, यानि कहना चाहते हैं कि ये भी एक तरीका है शिवलिंग की पूजा करने का. ये सारी कवायद इसलिए है ताकि इतने सालों तक ज्ञानवापी के वजूखाने में शिवलिंग के साथ जो भी हुआ, उसको जायज ठहराया जा सके.

संत कनप्पा उन 63 नयनार संतों में गिने जाते हैं, जो शिव के उपासक थे. जबकि अलवार संत विष्णु के उपासक थे. कनप्पा पेशे से शिकारी थे, जो बाद में संत बन गए. उनके भक्त मानते हैं कि वो पिछले जन्म में पांडवों में से एक अर्जुन थे. कनप्पा नयनार के कई नाम चलन में हैं, जैसे थिनप्पन, थिन्नन, धीरा, कन्यन, कन्नन आदि. माता पिता ने उनका नाम थिन्ना रखा था. आंध्र प्रदेश के राजमपेट इलाके में उनका जन्म हुआ था.

उनके पिता बड़े शिकारी थे और शिवभक्त थे. शिव के पुत्र कार्तिकेय को पूजते थे. कनप्पा श्रीकलहस्तीश्वरा मंदिर में वायु लिंग की पूजा करते थे, शिकार के दौरान उन्हें ये मंदिर मिला था. पांचवीं सदी में बना इस मंदिर का बाहरी हिस्सा 11वीं सदी में राजेन्द्र चोल ने बनवाया था, बाद में विजय नगर साम्राज्य के राजाओं ने उसका जीर्णोद्धार करवाया.

लेकिन थिन्ना को पता नहीं था कि शिव भक्ति और पूजा के विधि विधान क्या हैं. किन नियमों का पालन करना है, लेकिन उनकी श्रद्धा अगाध थी. कहा जाता है कि वह पास की स्वर्णमुखी नदी से मुंह में पानी भरकर लाते थे और उससे शिवलिंग का जलाभिषेक करते थे, चूंकि शिकारी थे, सो जो भी उन्हें मिलता था, एक हिस्सा शिव को अर्पित कर देते थे, यहां तक कि एक बार सुअर का मांस भी.

लेकिन शिव अपने इस भक्त की आस्था को देखकर खुश थे, उनको पता था कि इसे पूजा करनी नहीं आती है, ना मंत्र पता हैं, ना किसी तरह के विधि विधान. सैकड़ों वर्षों से ये कथा कनप्पा के भक्तों में प्रचलित है कि एक दिन महादेव ने उनकी परीक्षा लेने की ठानी और उन्होंने उस मंदिर में भूकंप के झटके दिए, जब मंदिर में बाकी साथियों, भक्तों और पुजारियों के साथ कनप्पा भी मौजूद थे.

जैसे ही भूकंप के झटके आए, लगा कि मंदिर की छत गिरने वाली है, तो डर के मारे सभी भाग गए, भागे नहीं तो बस कनप्पा. उन्होंने ये किया कि अपने शरीर से शिव लिंग को पूरी तरह से ढक लिया ताकि कोई पत्थर अगर गिरे तो शिवलिंग के ऊपर ना गिरे, बल्कि उनके ऊपर गिरे. इससे वह पूरी तरह सुरक्षित रहा.

शिवलिंग पर तीन आंखें बनी हुई थीं. जैसे ही भूकम्प के झटके थोड़ा थमे, कनप्पा ने देखा कि शिवलिंग पर बनी एक आंख से रक्त और आंसू एक साथ निकल रहे थे. उनकी समझ में आ गया कि किसी पत्थर से शिवजी की एक आंख घायल हो गई है. आव देखा ना ताव, कनप्पा ने फौरन अपनी एक आंख अपने एक बाण से निकालने की प्रक्रिया शुरू कर दी और उसे निकालकर शिवलिंग की आंख पर लगा दिया, जिससे उसमें से खून निकलना बंद हो गया. लेकिन थोड़ी देर बाद ही शिवलिंग की दूसरी आंख से रक्त और आंसुओं का निकलना शुरू हो गया.

तब कनप्पा ने जैसे ही दूसरी आंख निकालने की प्रक्रिया शुरू की, उनके दिमाग में आया कि जब मैं अपनी दूसरी आंख भी निकाल लूंगा तो बिलकुल अंधा हो जा जाऊंगा, ऐसे में मुझे कैसे दिखेगा कि उस आंख को शिवलिंग में कैसे लगाना है. तो उन्हें एक उपाय सूझा, उन्होंने फौरन अपना एक पैर उठाया और पैर का अंगूठा ठीक उस आंख के पास लगा दिया, ताकि अंधा होने के बावजूद वो शिवजी की दूसरी आंख की जगह अपनी आंख लगा सके. उसी वक्त भगवान शिव प्रकट हुए और उससे खुश होकर उसकी आंखें एकदम ठीक कर दीं. यही वो घटना थी, जिसके चलते थिन्ना को नया नाम कनप्पा मिला था.

इसी अवसर की वो तस्वीर या मूर्तियां हैं, – कैसे वह एक हाथ में बाण से आंख निकालेंगे, दूसरे हाथ से उसे पकड़ेंगे तो जहां से आंख निकालनी है, उस जगह को कैसे चिन्हित करेंगे, तो उस मासूम भक्त ने शिवलिंग पर इस काम के लिए पैर का अंगूठा रखा था.

लेकिन, जितने भी लोग तस्वीर शेयर कर रहे हैं, चाहे वो देवदत्त पटनायक ही क्यों ना हों, किसी को ये नहीं बता रहे कि शिव भगवान ने भक्ति की परीक्षा ली थी और ये बस एक पल का वाकया था. क्योंकि वास्तविकता ही बता देंगे तो फेक नेरेटिव कैसे गढ़ा जाएगा..?

Leave a Reply

Your email address will not be published.