करंट टॉपिक्स

सुरक्षाबलों के कैंप पर हमला, चार जवान घायल; बारसूर में सड़क निर्माण में लगे वाहनों में आग लगाई

Spread the love

रायपुर. घोर माओवाद प्रभावित क्षेत्र बीजापुर के कुटरु थाना क्षेत्र अंतर्गत स्थित सुरक्षाबलों के दरभा कैंप पर कम्युनिस्ट आतंकियों ने हमला किया है. जानकारी के अनुसार माओवादी आतंकियों ने रविवार की मध्यरात्रि को हमला किया है, जिस दौरान हुई फायरिंग में 4 जवान घायल हो गए हैं.

जानकारी के अनुसार गंभीर रूप से घायल जवान तुकेश्वर एवं जितेंद्र मंडावी को एयरलिफ्ट करके रायपुर ले जाया गया, जबकि दो अन्य जवानों का उपचार बीजापुर के जिला अस्पताल में कराया जा रहा है.

रविवार मध्य रात्रि को हुए इस हमले के दौरान माओवादियों ने दरभा स्थित छत्तीसगढ़ आर्म्ड फोर्सेज (सीएएफ) के कैंप को दो तरफ से घेर कर भारी गोलाबारी की, जिस दौरान माओवादियों ने लगभग 15 की संख्या में यूजीबीएल भी दागे हैं, वामपंथी आतंकियों द्वारा अचानक हुए इस हमले से उबरते हुए सुरक्षाबलों ने भी जोरदार पलटवार किया. इस दौरान लगभग एक घंटे तक दोनों ओर से जबरदस्त गोलीबारी हुई, हालांकि मुठभेड़ में सुरक्षाबलों को भारी पड़ता देख माओवादी वहां से जंगलो की ओर भाग निकले.

घटना की जानकारी साझा करते हुए बस्तर रेंज के पुलिस महानिरीक्षक सुंदरराज पी ने बताया कि “दरभा कैंप पर माओवादियों ने कायराना चरित्र दिखाते हुए आधी रात को हमला बोला है. जिसका सुरक्षाबलों ने भी मुंह तोड़ जवाब दिया है. हालांकि इस दौरान 4 जवान घायल हो गए हैं, इस हमले में घायल तीन प्रधान आरक्षक एवं एक आरक्षक का उपचार कराया जा रहा है.”

माओवादियों ने सड़क निर्माण में लगे वाहनों में आग लगाई

माओवादियों ने एक ओर बीजापुर में सुरक्षाबलों के कैंप पर हमला बोला तो दूसरी ओर बीजापुर से लगी दंतेवाड़ा की सीमा के समीप भी माओवादियों ने जमकर उत्पात मचाया है. प्राप्त जानकारी के अनुसार माओवादियों ने दंतेवाड़ा के बारसूर थाना क्षेत्र अंतर्गत किए जा रहे सड़क निर्माण में लगे सात वाहनों में आगजनी कर दी है. उक्त घटना बारसूर थाना क्षेत्र अंतर्गत मंगनार गांव की बताई जा रही है, जहां रविवार रात्रि आठ बजे लगभग 150 वर्दीधारी माओवादियों ने निर्माण स्थल पर धावा बोलते हुए 4 डोज़र वाहन समेत कुल 7 वाहनों में आगजनी कर दी.

जानकारी के अनुसार आगजनी की घटना को अंजाम देने वाले माओवादी अत्याधुनिक हथियारों से लैस थे, जिन्होंने गाड़ियों में आग लगाने के अतिरिक्त घटनास्थल पर एक बैनर भी लगाया है. कम्युनिस्ट आतंकियों द्वारा घटनास्थल पर लगाए गए बैनर में लिखा गया है कि मंगनार से सताधार सड़क निर्माण में लगे ठेकेदार संतोष पात्रा को चेतावनी, वहीं उक्त बैनर में स्थानीय जनप्रतिनिधियों को भी पूंजीवादी ठेकेदारों एवं पुलिस से दूर रहने की सख्त चेतावनी दी गई है, उक्त बैनर माओवादियों की पूर्वी बस्तर डिवीजन कमेटी द्वारा लगाया गया है.

घटना के संबंध में जानकारी साझा करते हुए दंतेवाड़ा जिले के पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ तिवारी ने कहा है कि “उक्त ठेकेदार को जनवरी माह में ही सुरक्षाबलों की सहायता से सड़क निर्माण करने को स्पष्ट रूप से कहा गया था, हालांकि बावजूद इसके ठेकेदार संतोष ने सड़क निर्माण के लिए सुरक्षा लेने से मना कर दिया था.”

पिछले कुछ वर्षों में योजनाबद्ध तरीके से माओवादियों के गढ़ समझे जाने वाले क्षेत्रों में खोले गए सुरक्षाबलों के कैंपों से माओवादियों की बेचैनी बढ़ी हुई दिखाई दे रही है, यही कारण है कि माओवादियों द्वारा कभी सुरक्षाबलों के कैंपों पर हमला किया जा रहा तो कभी सड़क निर्माण में लगे वाहनों में आगजनी की जा रही है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.